26.9.16

सब्जियाँ उबालकर खाने के फायदे




सब्‍जियों को जब उबाल कर खाया जाता है, तो उनकी ताकत दोगुनी बढ़ जाती है। कुछ सब्‍जियां जैसे, पालक, गाजर, शकरकंद और पत्‍तागोभी आदि का स्‍वाद और पोषण तभी निखरता है जब इन्‍हें उबाल कर खाया जाए। कुछ सब्‍जियों को उबाल कर और कुछ को आंच पर पका कर ही उनमें मौजूदा पोषण को दोगुना किया जा सकता है।
अगर आप नीचे दी हुई इन सब्‍जियों को हफ्ते में दो बार उबाल कर खाएंगे तो आपका मोटापा बहुत जल्‍दी घटेगा। आप चाहें तो इन उबली सब्‍जियों को सलाद में मिक्‍स कर के खा सकते हैं।* फूल गोभी
भाप में पकी हुई फूल गोभी काफी पौष्‍टिक मानी जाती है। ऐसा करने पर इसमें मौजूदा न्‍यूट्र्रियन्‍ट्स और विटामिन्‍स नष्‍ट नहीं हो पाते।
*पत्‍ता गोभी
पत्‍ता गोभी जब उबाल कर खाई जाती है, तो उसका टेस्‍ट और भी ज्‍यादा बढ़ जाता है। उबालने के लिये जिस पानी का उपयोग किया गया हो, उसा प्रयोग कर लेना चाहिये क्‍योंकि इसमें सबसे ज्‍यादा पोषण होता है।
*ब्रॉकली
ब्रॉकली को उबाल कर खाने में ज्‍यादा टेस्‍ट मालूम पड़ता है। अगर आपको यह डिश सादी ही खानी हो तो उबालते समय इसमें थोड़ा सा ऑलिव ऑयल मिला लें।
* गाजर प्‍लेन पानी में मुठ्ठी भर गाजर काट कर डालें। इसमें एक चुटकी नमक और थोड़ी सी काली मिर्च मिक्‍स करें। फिर इसे उबाल कर खाएं, यह आपकी आंखों के लिये काफी पौष्टिक होगी।
चुकन्‍दर
खून की कमी और पीरियड्स की समस्‍या को दूर रखने के लिये दिन में एक चुकन्‍दर उबाल कर खाना चाहिये। चुकन्‍दर को 3 मिनट से ज्‍यादा नहीं उबालना चाहिये।
* आलू
जब भी आप आलू खाएं तो उसे उबाल कर ही खाएं क्‍योंकि उसमें कम कैलोरीज़ होती हैं।
* बींस
बींस को कम से कम 6 मिनट तक उबालें। फिर उसमें चुटकी भर नमक और काली मिर्च मिलाएं। उबली हुई बींस मधुमेह के लिये अच्‍छी होती है।
*पालक
वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर हरी पत्‍तेदार सब्‍जियों को उबाल कर खाया जाए तो उसकी ताकत दोगुनी बढ़ जाती है। खास तौर पर मेथी और पालक की सब्‍जियां।
* स्‍वीट कार्न
स्‍वीट कार्न को उबालने में काफी पानी और समय लगता है। पर इस को हम बिना उबाले खा भी नहीं सकते। स्‍वीट कार्न में पोषण और ढेर सारे रेशे होते हैं जो कि कब्‍ज को दूर रखता है।
* शकरकंद
शकरकंद में काफी सारा कार्ब होता है जो कि शरीर के लिये बेहद जरुरी है। अगर आप डाइटिंग पर हैं तो शकरकंद खाएं।

17.9.16

पैरों में होने वाले दर्द के घरेलू ईलाज


पैरों में होने वाले दर्द का कारण और आसान उपचार

हमें अक्‍सर पैरों में दर्द होने लगता है। पैरों के दर्द की कई वजहें हो सकती हैं, मसलन मांसपेशियों में सिकुड़न, मसल्स की थकान, ज्यादा वॉक करना, एक्सरसाइज, स्ट्रेस, ब्लड क्लॉटिंग की वजह से बनी गांठ, घुटनों, हिप्स व पैरों में सही ब्लड सर्कुलेशन न होना। पानी की कमी, सही डाइट ना लेना, खाने में कैल्शियम व पोटेशियम जैसे मिनरल्स और विटामिंस की कमी, अंदर गहरी चोट होना, किसी प्रकार का संक्रमण हो जाना, नाखून का पकना आदि। कई बार शरीर की हड्डियां कमजोर होने से भी पैरों में दर्द की शिकायत हो जाती है।
केमिकल बेस्ड दवाइयां ज्यादा मात्रा में लेना, चोट, कॉलेस्ट्रॉल लेवल कम होना, शरीर व मांसपेशियों का कमजोर पड़ जाना, आर्थराइटिस, डायबिटीज, कमजोरी, मोटापा, हॉमोर्नल प्रॉब्लम्स, नसों में दर्द, स्किन व हड्डियों से संबंधित इंफेक्शन और ट्यूमर से भी पैरों में दर्द की शिकायत रहती है।
*रेग्युलर एक्सरसाइज और योग आपको दिमागी व फिजिकल तौर पर फिट रखता है। यह आपको पैरों में दर्द और सांस की समस्या से भी दूर रखता है।
*कुछ खास तरह की लेग स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज भी फायदेमंद साबित होती है। दरअसल, इससे ब्लड सर्कुलेशन और मस्कुलर कॉन्ट्रेक्शन सही होता है।



*यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप अपने वजन को कंट्रोल में रखें। फिटनेस और सही डाइट को अच्छी तरह फॉलो करें।
* नीम के पत्तो को पानी में उबाले और इस पानी में थोड़ी फिटकरी भी मिक्स कर ले, जितना गर्म सह सको इस पानी में अपने पैरो को 10 से 15 मिनट तक रखे।
* पानी पीना बहुत जरूरी है। यह मसल्स की सिकुड़न और पैरों के दर्द को कम करता है। जिम या वॉक पर जाने या किसी भी तरह की फिजिकल एक्सरसाइज करने से पहले सही मात्रा में पानी पीएं। यह बॉडी को पूरी तरह हाइड्रेट रखता है।
* जितना हो सके, उतना फ्रूट जूस पीएं। बैलेंस्ड न्यूट्रिशियस डाइट लें। इसमें हरी सब्जियां, गाजर, केले, नट्स, अंकुरित मूंग, सेब, खट्टे फल, संतरा और अंगूर जैसे फलों को शामिल करें।
*दूध से बने प्रॉडक्ट्स ज्यादा लें। चीज, दूध, सोयाबीन, सलाद वगैरह से आपको पूरी मात्रा में विटामिंस मिलेंगे। अपने खाने में ऐसी चीजों की मात्रा बढ़ा दें जिनमें कैल्शियम और पोटैशियम ज्यादा हो।

सामान्य पैरों के दर्द को दूर करने के उपाय:

 *गर्म पानी में ऑयल की बूंद डालकर सेंक लें। पैरों को पैडीक्‍योर करें और फिर क्रीम लगाकर रिलेक्‍स करें।
कई बार पैरों में ब्‍लड सर्कुलेशन सही ढंग से न होने की वजह से भी पैरों में दर्द होने लगता है। इसलिए पैरों की *हल्‍की मसाज दें, इससे भी दर्द चला जाता है।
* फुट मसाज: पैरों के दर्द को दूर करने में फुट मसाज बहुत कारगर होती है। टेनिस बॉल या रोलिंग पिन से आप फुट मसाज कर सकते हैं। इससे काफी राहत मिलती है।
* लैवेंडर ऑयल को दो चम्‍मच लें, इसमें ऑलिव ऑयल मिक्‍स करें और पैरों पर लगाएं। सर्कुलर मोशन में मसाज करें। आराम मिलेगा।
*. लौंग के तेल को तिल के तेल के साथ मिलाकर पैरों में लगाएं। इससे पैरों की खुजली दूर होगी।
*एक्‍युप्रेशर वाली चप्‍पलें पहनें।
*ठंडे पानी से अपने पैरों को धो लें। चाहें तो 15 मिनट तक भिगोकर भी रख सकते हैं।
* ठंडे पानी से पैरों को धुलने के बाद गर्म पानी से पैरों को सेंक दें। पानी हल्‍का गुनगुना होना चाहिए।
* अगर आपको ऐसा लगता है कि आपके पैर में किसी प्रकार का संक्रमण है तो आप गुनगुने पानी में नमक डालकर पैरों की सिकाई करें। इससे पैरों में होने वाले बैक्‍टीरिया मर जाते हैं।. पिपरमेंट ऑयल या रोजमेरी ऑयल से पैरों की मालिश करें। वैसे लैवेंडर ऑयल भी मददगार होता है।




*हर दिन साफ मोजे पहनें।
*पैरों को नियमित रूप से पैडीक्‍योर करवाएं।
*पैरों को धोने के लिए एंटी-बैक्‍टीरियल प्रोडक्‍ट का इस्‍तेमाल करें।
*जोड़ो और हड्डियों में होने वाले दर्द के कुछ घरेलु आयुर्वेदिक उपचार।
*विजयसार का चूर्ण :- विजयसार का चूर्ण एक छोटा चम्मच एक गिलास पानी में भिगोये और 15 घंटे के बाद इसको अच्छी तरह निचोड़ छान कर इसको घूँट घूँट कर पी लीजिये।
*अगर आपको पत्थरी (स्टोन) की समस्या नहीं है तो आप इस पानी में गेंहू के दाने के सामान चुना (जो पान में लगते हैं, जो लोग जर्दे में मिलते हैं) मिलाये। और इसको पिए।
*अरण्डी के तैल से मालिश करने से भी दर्द में फायदा होता हैं।
*देसी घी के साथ गिलोय का रस लेने से भी इसमें बहुत फायदा होता हैं।
*गर्मियों में एक चम्मच अलसी के बीज नित्य खाए और सर्दियों में ३ चम्मच खाए।

16.9.16

खून की कमी दूर कराते हैं ये फल

एनीमिया रक्त की एक जानी मानी बीमारी है। यदि आपको एनीमिया है तो इसका अर्थ यह है कि आपके रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी है। इसका अर्थ यह भी है कि आपके रक्त में हीमोग्लोबिन का स्तर कम है। क्या आप जानते हैं कि कुछ ऐसे फल हैं जिनका सेवन एनीमिक होने पर अवश्य करना चाहिए? हीमोग्लोबिन रक्त की कोशिकाओं में उपस्थित एक प्रोटीन है जो ऑक्सीजन को शरीर के विभिन्न अंगों तक पहुंचाने में मदद करता है।
एनीमिया के उपचार में फल बहुत सहायक हैं और जब आप इनके बारे में जान जायेंगे तब आप भी इस स्थिति से निपटने में इन फलों का उपयोग कर सकेंगे। एनीमिया का उपचार इसके कारण और गंभीरता के बारे में जानकर किया जा सकता है। सामान्यत: एनीमिया के उपचार में दवाईयां, आहार में परिवर्तन और कभी कभी सर्जरी शामिल हैं। प्रत्येक फल के गुणों के बारे में पढ़ें तथा जानें कि ये फल किस तरह एनीमिया के उपचार में सहायक हैं।
संतरा - आपके शरीर के लिए विटामिन सी अत्यंत आवश्यक होता है क्योंकि यह शरीर को आयरन अवशोषित करने में सहायता करता है। खट्टे फल विटामिन सी का अच्छा स्त्रोत होते हैं। संतरे में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है तथा इसका उपयोग करके एनीमिया से बचा जा सकता है।
आम - आम में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है अत: एनीमिया होने की स्थिति में इनका सेवन करना बहुत अच्छा माना गया है। एनीमिया के उपचार के लिए इसे सर्वोत्तम माना गया है।

कीवी - कीवी में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यदि आप एनीमिक हैं और आयरन की गोलियाँ खा रहे हैं तो गोलियों के साथ साथ आपको कीवी भी खाना चाहिए। कीवी बहुत स्वादिष्ट होता है तथा एनीमिया की स्थिति से निपटने के लिए यह एक उत्तम फल है।
अनार - अनार में विटामिन सी तथा आयरन पाया जाता है। ये शरीर में न केवल रक्त प्रवाह को बढ़ाते हैं बल्कि एनीमिया के लक्षणों जैसे चक्कर आना, थकान, कम$जोरी आदि के उपचार में भी बहुत प्रभावी हैं। प्रतिदिन एक अनार खाएं या इसके रस का सेवन करें।
केला - शरीर में नई कोशिकाओं के निर्माण और रखरखाव के लिए फोलिक एसिड बहुत महत्वपूर्ण होता है। यह एनीमिया के उपचार में भी बहुत मदद करता है, विशेष रूप से तब जब आप गर्भवती हों। केले में फोलिक एसिड पाया जाता है तथा अन्य कई फलों की तरह यह ब्लड काउंट को बढ़ाने में सहायक होता है।
आलू बुखारा - आलूबुखारा तथा इसका रस आयरन के बहुत अच्छे स्त्रोत हैं तथा एनीमिया के उपचार के लिए उत्तम फल है। एनीमिया से बचने के लिए अपने नाश्ते में प्रतिदिन आलूबुखारे शामिल करें।
सेब - सेब उन कई फलों में से एक है जो ब्लड काउंट बढ़ाने में सहायक है। सेब में विटामिन सी होता है जो शरीर को नॉन-हेम आयरन अवशोषित करने में मदद करता है। एनीमिया से बचने के लिए प्रतिदिन एक सेब खाएं।
एप्रीकॉट (खुबानी) - एप्रीकॉट में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है तथा यह आपके शरीर में आयरन के स्तर को बढ़ाने में सहायक होता है। अपने शरीर में आयरन के स्तर को बढ़ाने के लिए प्रतिदिन नाश्ते में या मिड-डे स्नैक के रूप में एक मुट्ठी एप्रीकॉट खाने की आदत डाल लें।
मौसंबी - मौसंबी में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है तथा यदि आप एनीमिया से ग्रसित हैं तो इसका सेवन अवश्य करना चाहिए। आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं या इसका जूस भी पी सकते हैं।

7.9.16

सायनस ,नाक की हड्डी बढ़ने के उपचार


आजकल की अनियमित जीवन शैली में लोग अपनी सेहत का सही प्रकार से ख्याल नहीं रख पाते. जिसे कारण उन्हें अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है. साइनस नाक में होने वाला एक रोग है. आयुर्वेद में इसे प्रतिश्याय नाम से जाना जाता है. साइनस मानव शरीर की खोपड़ी में हवा भरी हुई कैविटी होती हैं जो हमारे सिर को हल्कापन व सांस वाली हवा की नमी को युक्त करते हैं.
साइनस में नाक तो अवरूद्ध होती ही है, साथ ही नाक में कफ आदि का बहाव अधिक मात्रा में होता है. जब किसी व्यक्ति को साइनस का संक्रमण हो जाता है तो इसके कारण व्यक्ति के सिर में भी अत्यधिक दर्द होने लगता है. नाक का रोग होने के कारण व्यक्ति को सांस लेने में रुकावट, हड्डी का बढ़ना, तिरछा होना, साइनस भरना तथा एलर्जी जैसी समस्याएं होने लगती हैं. इस समस्या का सही समय पर उपचार ना करने के कारण अस्थमा और दमा जैसे कई गंभीर रोग हो सकते हैं
साइनस के लक्षण ( Symptoms of Sinus ) :
जब कभी साइनस संक्रमित होता है तो इसके लक्षणों को आँखों और माथों पर साफ़ तौर से महसूस किया जा सकता है.

· सिर दर्द ( Headache ) : इस दर्द में अगर आप लेटना भी चाहो तो आपको तेज सिरदर्द होने लगता है.

· पलकों के ऊपर दर्द ( Pain over Eyes ) : आपको ऐसा महसूस हो रहा होता है कि आपकी आँखें अपने आप बंद हो रही है, आँखों के ऊपर इतना दर्द होता है कि आप अपनी उँगलियों से अपनी आँखों को खोलने की कोशिश करते हो.

· आधासीसी ( Migraine ) : अगर ये अपने अगले चरण में चला जाएँ तो आपको आधासीसी का दर्द आरम्भ हो जाता है अर्थात आपको आधे सिर में दर्द रहने लगता है.

· नाक बंद होना ( Nasal Congestion ) : इसे आप साइनस का प्रमुख लक्षण मान सकते है क्योकि साइनस सीधे रूप से नाक को ही प्रभावित करता है और उसे बंद करके रोगी की हालत खराब करता है.

· नाक से पानी गिरना ( Water from Nose ) : क्योकि नाक में काफ जम जाता है तो नाक से पानी आना भी आरम्भ हो जाता है.
*अकसर कुछ लोगों को साँस लेने में तकलीफ होती है, उन्हें नाक की हड्डी बढ़ी हुई महसूस होती है, नाक में कुछ जमा हुआ सा महसूस होता है। और जब वे नाक में जमा मैल निकालने की कोशिश करते हैं तो उनकी नाक से खून भी निकलने लगता है।
*नाक विशेषज्ञों का कहना है कि एक बार नाक की हड्डी बन जाने के बाद वह कभी भी किसी दिशा में नहीं बढ़ती। जो लोग यह समझते हैं कि हड्डी बढ़ गई है तो उसके कई कारण हैं।
अगर बचपन में कभी हड्डी पर चोट लग गई हो, दब गई हो या दबाव से अपने स्थान से खिसक जाए तो इन दशाओं में नाक की मध्य हड्डी एक तरफ झुक जाती है।
*सिकाई ( Give Warmth ) : साइनस में सिकाई बहुत कारगर होती है तो आप भी 2 गिलास पानी को गर्म करके उसे किसी रबड़ या प्लास्टिक की बोतल में डाल लें और उससे अपने चेहरे, आँखों और सिर की सिकाई करें. आप इस बोतल को कुछ देर गले पर भी अवश्य रखें ताकि आपको मलगम में राहत मिल सके.

·*     सहजन ( Drumstick ) : अगर साइनस बहुत अधिक परेशान करने लगा है तो आप सहजन की फलियों का सूप निकालें और उसमें अदरक, काली मिर्च, प्याज और लहसुन डालकर एक काढा तैयार करें. इस तरह आपको रोजाना 1 कप काढा बनाना है और उसे गरमा गर्म पीना है.

· *प्याज ( Onion ) : वहीँ अगर आपकी नाक से अधिक पानी बह रहा है तो आप अपनी नाक में थोडा प्याज का रस डाल लें. इससे नाक से पानी बहना बंद होता है और आपको साइनस से होने वाले सिर दर्द से भी आराम मिलता है.

· *सब्जियां ( Vegetables ) : साइनस होने पर आपको अपने आहार पर ख़ास ध्यान देना होता है क्योकि आहार से आपको ताकत और वे पौषक तत्व मिलते है जो बीमारियों से लड़ने में सक्षम होते है. इसलिए आप रोजाना 300 मिली गाजर, 200 ग्राम पालक और 100 –100 ग्राम ककड़ी व चुकंदर का रस निकालकार पियें.

·*     गर्म पेय ( Hot Drinks ) : साइनस होने पर आप गर्म पेय जैसेकि सूप इत्यादि अवश्य पियें क्योकि इन्हें साइनस में बहुत कारगर माना जाता है. ये छाती में और नाक में जमे हुए कफ़ को बाहर निकालने में सहायक होता है और बंद नाक को खोलता है. अगर आप चिकन का सूप पिए तो आपके शरीर को अंदर से गर्मी मिलती है और आपको जल्दी आराम मिलता है.
*नाक की हड्डी टूटने, दबने या कभी-कभी पूरी तरह अपने स्थान से खिसकने के कारण भी नाक का आकार ही टेढ़ा दिखाई देने लगता है।
*जब बच्चा युवावस्था में आता है तो ऐसी दशा में टूटी हुई नाक आधी लंबाई में तो बढ़ती ही है, इसके साथ ही टूटा हिस्सा भी अलग दिशा में बढ़ने लगता है, जो नसिका को छोटा कर देता है तथा नाक का छेद छोटा होने से साँस और जुकाम रहने की तकलीफें प्रारंभ हो जाती हैं।
*तीसरी दशा में नाक की हड्डी टूटती नहीं, बल्कि दबकर मुड़ जाती है और 'एस' या 'सी' के आकार में आकर नाक के किसी हिस्से के एक छिद्र को छोटा कर देती है। इससे नाक के एक छिद्र से तो साँस भी नहीं ली जा सकती और दूसरे छिद्र में ज्यादा खुला स्थान होने के कारण धूल के कण भी साँस के साथ भीतर जाने का डर बना रहता है।
शुद्धता ( Purity ) : आपके लिए शुद्धता बहुत जरूरी है इसलिए आप शुद्ध भोजन खाएं, अगर भोजन ज्यादा शुद्ध ना भी हो तो शुद्ध जल अवश्य पिए और आपके लिए सर्वाधिक जरूरी है शुद्ध वायु का होना. क्योकि ये नाक संबंधी रोग है तो आपके लिए वायु बहुत मायने रखती है. किसी भी तरह की एलर्जी आपके रोग को बहुत बढ़ा सकती है और आपके आँख, नाक, मस्तिष्क, कान या फेफड़ें इत्यादि किसी को भी नुकसान पहुंचा सकती है.
चोट या दबाव के अलावा कभी-कभी गर्भ में बच्चे की नाक पर दबाव पड़ जाने से नाक की हड्डी मुड़-तुड़ जाती है। कई बार फारसेप डिलीवरी में भी नाक पर चोट लग जाती है, इसलिए प्रसव के दौरान 10-15 मिनट का सामान्य समय पार हो जाने पर अन्य विकारों के साथ यह विकार आना भी स्वाभाविक है
हल्का बुखार ( Mild Fever ) : जब व्यक्ति को सिर दर्द,बंद नाक और आंखों में भारीपन रहने लगता है तो उसके शरीर में निरंतर ताप बना रहता है जिसे बुखार का नाम दे दिया जाता है.
· सुजन ( Swelling ) : रोगी इस बिमारी से इतना परेशान और तनाव ग्रस्त हो जाता है कि उसके मन में निराशा छा जाती है जो सुजन के रूप में उसके चेहरे से साफ़ दिखाई देने लगती है. सुजन का एक कारण झिल्ली में सुजन भी होता है.
साइनस के रोग की एक खास बात ये भी है कि इसके अगले चरण इससे भी भयंकर और गंभीर रोग लाते है जैसेकि अस्थमा, आधासीसी, सिर में नासूर इत्यादि. वैसे तो साइनस में अधिकतर लोग ऑपरेशन का सहारा लेते है किन्तु इसमें बहुत खर्चा होता है और इसके सफल होने की संभावना भी बहुत कम होती है इसलिए इसके इलाज के लिए आयुर्वेद को ही सर्वोत्तम माना जाता है,आज हम आपको कुछ ऐसे ही घरेलू आयुर्वेदिक उपाय बताने जा रहे है जिनको अपनाकर आप साइनस के रोग को तुरंत दूर कर सकते हो.
नमक और बेकिंग सोडा का उपयोग
साइनस की समस्या होने पर करीब आधा लीटर पानी में एक चम्‍मच नमक और बेकिंग सोडा मिला लीजिए. अब इस पानी के मिश्रण से नाक को धोए. इससे साइनस की समस्या को आसानी से कम किया जा सकता है.
साइनस के घरेलू आयुर्वेदिक उपाय ( Home Aayurvedic Tips to Cure Sinus ) :
· मेथीदाना ( Fenugreek Seeds ) : साइनस को भागने के लिए आप 1 कप पानी में 1 चम्मच मेथी के दाने डालकर उन्हें अच्छी तरह से उबाल लें. अब आप पानी को ठंडा होने के लिए रख दें और छानकर उसे पी जाएँ. कुछ दिन नियमित रूप से उपाय को अपनाएँ आपको जरुर आराम मिलेगा.
साइनस की समस्या को दूर करने के लिए योग
सूर्य नमस्‍कार
सूर्य नमस्‍कार से अधिकतर रोगों को दूर किया जा सकता है. इससे साइनस की समस्या से भी राहत मिलती है. सूर्य नमस्‍कार को करने के लिए सुबह को उगते हुए सूरज की तरफ मुंह करके करना चाहिए. इससे शरीर में ऊर्जा उतपन्न होती है साथ ही साइनस की समस्या को दूर करने में मदद मिलती है.

कपालभाति
कपालभाति में श्वास को शक्ति पूर्वक बाहर छोड़ने में ही पूरा ध्यान दिया जाता है. इसमें श्वास को भरने के लिए प्रयत्न नहीं करते क्योकि सहजरूप से जितना श्वास अन्दर चला जाता है. इस प्राणायाम को 5 मिनिट तक अवश्य ही करना चाहिए. प्रणायाम करते समय जब-जब थकान अनुभव हो तब-तब बीच में विश्राम कर लें. प्रारम्भ में पेट या कमर में दर्द हो सकता है. वो धीरे धीरे कम हों जायेगा.
अनुलोम-विलोम
अनुलोम-विलोम को करने से सांस से सम्बंधित बीमारी ठीक करने में मदद मिलती है. साइनस होने पर आप सबसे पहले आप पद्मासन या सुखासन की स्थिति में बैठ जाए. फिर अपने दाएं हाथ के अंगूठे से नाक के दाएं छिद्र को बंद कर लें और बाएं छिद्र से भीतर की ओर सांस खीचें. अब बाएं छिद्र को अंगूठे के बगल वाली दो अंगुलियों से बंद करें. दाएं छिद्र से अंगूठा हटा दें और सांस छोड़ें. अब इसी प्रक्रिया को बाएं छिद्र के साथ दोहराएं. अनुलोम-विलोम को रोजाना करीब 10 मिनट तक करें. इससे साइनस की समस्या से राहत मिलेगी.
अधिक से अधिक मात्रा में पानी पिए. पानी हमारे शरीर के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण होता है. स्वस्थ शरीर के लिए शरीर में उचित मात्रा में पानी होना अनिवार्य है.
प्याज से ईलाज 
प्याज हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में काफी सहायक होता है. यह साइनस की समस्या को आसानी से दूर करता है. रोजाना अपने आहार में प्याज को शामिल करें. इससे साइनस की समस्या को आसानी से दूर किया जा सकता है.
भस्त्रिका अभ्यास विधि
भस्त्रिका आसान को करने के लिए सबसे पहले पद्मासन, सिद्धासन, सुकासन या कुर्सी पर रीढ़, गला व सिर को सीधा कर बैठ जाएं. अब अपने हाथो को घुटनों पर रख कर आंखों को ढीला बन्द कर लीजिए. इसके बाद अपनी नाक से हल्के झटके से सांस अन्दर और बाहर कीजिए. पहले इस क्रिया को धीरे-धीरे करें फिर इसकी क्रिया को बढ़ाते जाए. इस प्राणायाम को 3 से लेकर 5 मिनट तक रोज करे.
गाजर के रस का प्रयोग
गाजर के रस में अनेक पोष्टिक गुण पाये जाते हैं. जिनके द्वारा साइनस की समस्या को आसानी से दूर किया जा सकता है. कुछ समय तक गाजर के रस का सेवन करने से साइनस की समस्या को दूर किया जा सकता है.
गाजर, चुकंदर, खीरे या पालक का रस
एक ग्लास गाजर का रस में चुकंदर, खीरे या पालक के रस मिला कर इसका सेवन करें. कुछ समस्य तक इस मिश्रण के सेवन से साइनस के लक्षणो के उपचार में मदद मिलेगी.
लहसुन का प्रयोग
लहसुन जैसे तीखे खाद्य पदार्थों से साइनस की समस्या से आसानी से राहत मिलती है. इन खाद्य पदार्थों की की कुछ मात्रा ले सकते हैं और उन्हें धीरे – धीरे बढ़ा सकते हैं. अपने नियमित भोजन में लहसुन को शामिल करे. इससे साइनस रोग को दूर किया जा सकता है.







21.8.16

ब्राम्ही के फायदे ,उपयोग ,उपचार Health benefits of hydrocotyle asiatica



ब्राह्मी (वानस्पतिक नाम :Bacapa monnieri) का एक औषधीय पौधा है जो भूमि पर फैलकर बड़ा होता है। इसके तने और पत्तियाँ मुलामय, गूदेदार और फूल सफेद होते है। यह पौधा नम स्‍थानों में पाया जाता है, तथा मुख्‍यत: भारत ही इसकी उपज भूमि है। इसे भारत वर्ष में विभिन्‍न नामों से जाना जाता है जैसे हिन्‍दी में सफेद चमनी, संस्‍कृत में सौम्‍यलता, मलयालम में वर्ण, नीरब्राम्‍ही, मराठी में घोल, गुजराती में जल ब्राह्मी, जल नेवरी आदि तथा इसका वैज्ञानिक नाम बाकोपा मोनिएरी है।
Brahmi का पौधा हिमालय की तराई में हरिद्वार से लेकर बद्रीनारायण के मार्ग में अधिक मात्रा में पाया जाता है। जो बहुत उत्तम किस्म का होता है। ब्राह्मी पौधे का तना जमीन पर फैलता जाता है। जिसकी गांठों से जड़, पत्तियां, फूल और बाद में फल भी लगते हैं। इसकी पत्तियां स्वाद में कड़वी और काले चिन्हों से मिली हुई होती है। ब्राह्मी के फूल छोटे, सफेद, नीले और गुलाबी रंग के होते हैं। ब्राह्मी के फलों का आकार गोल लम्बाई लिए हुए तथा आगे से नुकीलेदार होता है जिसमें से पीले और छोटे बीज निकलते हैं। ब्राह्मी की जड़ें छोटी और धागे की तरह पतली होती है। इसमें गर्मी के मौसम में फूल लगते हैं। जहां नदी, नाले और नहरों की बहुलता होगी, वहां इसे अध्कि मात्रा में उपलब्ध् किया जा सकता है। जडी-बूटी की पहचान न होने के कारण लोग कभी-कभी मण्डूकपर्णी को भी ब्राह्मी समझ बैठते है। जबकि उसके गुण र्ध्म बिल्कुल पृथक है। इसकी पत्तियाँ एक इंच अथवा इंच के चौथाई भाग तक चौडी गोलाकार होती है। फलों का रंग नीला अथवा हल्का गुलाबी होता है। पफलों की आकृति गोल और अग्रभाग नुकीला रहता है। गर्मी के दिनों में फल और बाद में पफलित होती है। औषध्यि दृष्टि से पूरा पंचाग ;जड, तना, पत्ती, फल और पफलद्ध ही प्रयुक्त होता है।
Brahmi के पत्ते पतले, पुष्प सफेद अथवा नीले और स्वाद में कडवापन होता है। जबकि मण्डूकपर्णी के फूल लाल तीखा स्वाद होता है और सूखने के बाद उसकी औषधीय विशेषताएँ प्रायः नष्ट हो जाती है। ब्राह्मी को सुखाकर भी पाउडर के रूप में उतना ही उपयोगी माना जाता रहा है। एक वर्ष की अवधि तक इसका पूर्ण प्रयोग किया जा सकता है।
यह पूर्ण रूपेण औषधीय पौधा है। यह औषधि नाडि़यों के लिये पौष्टिक होती है। कब्‍ज को दूर करती है। इसके पत्‍ते के रस को पेट्रोल के साथ मिलाकर लगाने से गठिया दूर करती है। ब्राह्मी में रक्‍त शुद्ध करने के गुण भी पाये जाते है। यह हृदय के लिये भी पौष्टिक होता है।
*मिर्गी (अपस्मार) होने पर :-14 से 28 मिलीलीटर ब्राह्मी की जड़ का रस या 3 से 6ग्राम चूर्ण को दिन में3 बार 100 से 250 मिलीलीटर दूध के साथ लेने से मिर्गी का रोग ठीक हो जाता है।
*धातु क्षय (वीर्य का नष्ट होना) :-15 ब्राह्मी के पत्तों को दिन में 3 बार सेवन करने से वीर्य के रोग का नष्ट होना कम हो जाता है।
*आंखों की बीमारी में :-3 से 6 ग्राम ब्राह्मी के पत्तों को घी में भूनकर सेंधानमक के साथ दिन में 3 बार लेने से आंखों के रोग में लाभ होता है।
*आंखों का कमजोर होना :-3 से 6 ग्राम ब्राह्मी के पत्तों का चूर्ण भोजन के साथ लेने से आंखों की कमजोरी दूर हो जाती है।
*स्मरण शक्ति वर्द्धक :
 10 मिलीलीटर सूखी ब्राह्मी का रस, 1 बादाम की गिरी, 3 ग्राम कालीमिर्च को पानी से पीसकर 3-3 ग्राम की टिकिया बना लें। इस टिकिया को रोजाना सुबह और शाम दूध के साथ रोगी को देने से दिमाग को ताकत मिलती है।
*3 ग्राम ब्राह्मी, 3 ग्राम शंखपुष्पी, 6 ग्राम बादाम गिरी, 3 ग्राम छोटी इलायची के बीज को पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को थोड़े-से पानी में पीसकर, छानकर मिश्री मिलाकर पीने से खांसी, पित्त बुखार और पुराने पागलपन में लाभ मिलता है।



*ब्राह्मी के ताजे रस और बराबर घी को मिलाकर शुद्ध घी में 5 ग्राम की खुराक में सेवन करने से दिमाग को ताकत प्रदान होती है।”
*
नींद को कम करने के लिए :-*ब्राह्मी के 3 ग्राम चूर्ण को गाय के आधा किलो कच्चे दूध में घोंटकर छान लें। इसे 1 सप्ताह तक सेवन करने से लाभ पहुंचता है।
*5-10 मिलीलीटर ताजी ब्राह्मी के रस को 100-150 ग्राम कच्चे दूध में मिलाकर पीने से लाभ होता है।”
*
पागलपन (उन्माद) में :-*6 मिलीलीटर ब्राह्मी का रस, 2 ग्राम कूठ का चूर्ण और 6 ग्राम शहद को मिलाकर दिन में 3 बार पीने से पुराना उन्माद कम हो जाता है। 3 ग्राम ब्राह्मी, 2 पीस कालीमिर्च, 3 ग्राम बादाम की गिरी, 3-3 ग्राम मगज के बीज तथा सफेद मिश्री को25 गाम पानी में घोंटकर छान लें, इसे सुबह और शाम रोगी को पिलाने से पागलपन दूर हो जाता है।
*3 ग्राम ब्राह्मी के थोड़े से दाने कालीमिर्च के पानी के साथ पीसकर छान लें। इसे दिन में3 से 4 बार पिलाने से भूलने की बीमारी से छुटकारा मिलता है।
*ब्राह्मी के रस में कूठ के चूर्ण और शहद को मिलाकर चाटने से पागलपन का रोग ठीक हो जाता है।
*ब्राह्मी की पत्तियों का रस तथा बालवच, कूठ, शंखपुष्पी का मिश्रण बनाकर गाय के पुराने घी के साथ सेवन करने से पागलपन का रोग दूर हो जाता है।”
*
बालों के लिए : –100 ग्राम ब्राह्मी की जड़, 100 ग्राम मुनक्का और 50 ग्राम शंखपुष्पी को चौगुने पानी में मिलाकर रस निकाल लें। इस रस का सेवन करने से बालों के सभी रोग दूर हो जाते हैं।
*
पेशाब करने में कष्ट होना (मूत्रकृच्छ) :-ब्राह्मी के 2 चम्मच रस में, 1 चम्मच मिश्री मिलाकर सेवन करने से पेशाब करने की रुकावट दूर हो जाती है।
जलन :-
5 ग्राम ब्राह्मी के साथ धनिया मिलाकर रात को भिगो दें। इसे सुबह पीसकर,छानकर मिश्री के साथ मिलाकर पीने से जलन शांत हो जाती है।
*
उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) :-ब्राह्मी के पत्तों का रस एक चम्मच की मात्रा में आधे चम्म्च शहद के साथ लेने से उच्च रक्तचाप ठीक हो जाता है।
*
कब्ज (Constipation):- ब्राह्मी में पाये जाने वाले औषधीय गुण कब्ज की परेशानी को दूर करने में मदद करते हैं। नियमित रूप से ब्राह्मी का सेवन करने से पुरानी से पुरानी कब्ज की परेशानी दूर हो जाती है। इसके अलावा ब्राह्मी में कई रक्तशोधक गुण भी होते हैं, जो पेट से संबंधित समस्या से बचाव करते हैं।
*
अनिद्रा (Insomnia):- जो व्यक्ति को अनिद्रा की समस्या से परेशान हैं, उन्हें ब्राह्मी इस्तेमाल करना चाहिए। रोजाना सोने से एक घंटा पहले एक गिलास दूध में एक चम्मच ब्राह्मी चूर्ण मिलाकर पीने से व्यक्ति तनावमुक्त होता है और नींद अच्छी आती है।
*इसके सेवन से शरीर की शक्ति का क्षरण तो रूकता ही है पर मस्तिष्क की क्षमता में अप्रत्याशित अभिवृद्धि होने लगती है। Brahmi के घटक स्नायुकोषों का परिपोषण तो करते ही है साथ ही स्फूर्ति प्रदान करने का प्रयोग भी पूरा होता है। विद्युतीय स्फुरणों से स्नायु कोषों की उत्तेजना कम होती और मिर्गी रोग स्वतः ही भागने लगता है।बोलने में हकलाने और अध्कि बोलने से स्वर भंग होने में ब्राह्मी का सेवन ही लाभकारी सिद्ध होता है।
*
उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure):- ब्राह्मी में मौजूद औषधीय गुण रक्तचाप को संतुलित रखते हैं। यदि कोई व्यक्ति उच्च रक्तचाप की वजह से परेशान है तो उसे ब्राह्मी की ताजी पत्तियों का रस शहद में मिलाकर पीना चाहिए। ऐसा करने से रक्तचाप नियंत्रण में रहता है।
*
निद्राचारित या नींद में चलना :-ब्राह्मी, बच और शंखपुष्पी इनको बराबर मात्रा में लेकर ब्राह्मी के रस को 12 घंटे छाया में सुखाकर और 12 घंटे धूप में रखकर पूरी तरह से सुखाकर इसका चूर्ण तैयार कर लें। लगभग 480 मिलीग्राम से 960 मिलीग्राम सुबह और शाम को समान मात्रा में घी और शहद के साथ मिलाकर नींद में चलने वाले रोगी को देने से उसका स्नायु तंत्र मजबूत हो जाता है। इसका सेवन करने से नींद में चलने का रोग दूर हो जाता है।
*
वीर्य रोग : -ब्रह्मी, शंखपुष्पी, खरैटी, ब्रह्मदंडी तथा कालीमिर्च को पीसकर खाने से वीर्य रोग दूर होकर शुद्ध होता है।
*
अवसाद उदासीनता सुस्ती :-लगभग 10 ग्राम ब्राह्मी (जलनीम) का रस या लगभग480 से 960मिलीग्राम चूर्ण को लेने से उदासीनता, अवसाद या सुस्ती दूर हो जाती है।
*
बुद्धिवैकल्प, बुद्धि का विकास कम होना : -ब्राह्मी, घोरबच (बच), शंखपुष्पी को बराबर मात्रा में लेकर ब्राह्मी रस में तीन भावनायें (उबाल) देकर छाया में सुखाकर चूर्ण बना लें और रोजाना 1 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम को असमान मात्रा में घी और शहदके साथ मिलाकर काफी दिनों तक चटाने से बुद्धि का विकास हो जाता है।
*
मूत्ररोग :-4 मिलीलीटर ब्राह्मी के रस को शहद के साथ चाटने से मूत्ररोग में लाभ होता है।
*
दिल की धड़कन :-20 मिलीलीटर ताजी ब्राह्मी का रस और 5 ग्राम शहद को मिलाकर रोजाना सेवन करने से दिल की कमजोरी दूर होकर तेज धड़कन भी सामान्य हो जाती है।
*गुल्यवायु हिस्टीरिया :-
10-10 ग्राम ब्राह्मी और वचा को बराबर मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर सुबह और शाम 3-3 ग्राम की मात्रा में त्रिफला के जल से खाने पर हिस्टीरिया के रोग में बहुत लाभ होता है।
*
खांसी और बुखार (Cold and Fever):- ब्राह्मी, शंखपुष्पी, बादाम, छोटी या सफ़ेद इलायची चूर्ण एक समान मात्रा में लेकर पानी में घोलकर छान लें। इस पानी में मिश्री मिलाकर रोजाना सुबह- शाम आधा- आधा गिलास पीएं। इससे खांसी, जुकाम, बुखार आदि से राहत मिलती है।
*महर्षि चरक ने Brahmi को मानसिक दुर्बलता के कारण उत्पन्न रोगों की रामबाण औषधि घोषित किया है। मनोबल की कमी से ही तो मिरगी रोग की उत्पत्ति होती है। सुश्रुत संहिता में भी कुछ इसी तरह के तथ्यों का उल्लेख है। मानसिक विकृति के कारण ही तो नाडी दौर्बल्य, उन्माद, अप्रसार एवं स्मरण शक्ति के लोप होने लगता है। इसलिए तो ब्राह्मी को एक प्रकार का नर्वटॉनिक भी माना गया है। Brahmi के सूखे चूर्ण को मानसिक तनाव और घबराहट मिटती और अवसाद की प्रवृत्ति समाप्त होती है।



बालों की समस्या (Hair Problem):- यदि आप बालों से जुड़ी किसी समस्या से परेशान है तो पंचांग चूर्ण (ब्राह्मी के पांच भागों का चूर्ण) का एक चम्मच की मात्रा में रोजाना सेवन करने से बालों का झड़ना, रूसी, कमजोर बाल आदि परेशानी दूर होती हैं।
मिर्गी (अपस्मार) : -
*ब्राह्मी का रस शहद के साथ मिलाकर खाने से मिर्गी का रोग ठीक हो जाता है।
*मिर्गी के रोग में ब्राह्मी (जलनीम) से निकाले गये घी का सेवन करने से लाभ होता है।
ब्राह्मी, कोहली, शंखपुष्पी, सांठी, तुलसी और शहद को मिलाकर मिर्गी के रोगी को पिलाने से मिर्गी से छुटकारा मिल जाता है।”
ब्राह्मी का तीन ग्राम चूर्ण गौ दुग्ध् के साथ प्रतिदिन लेने से बीस-पच्चीस पत्तों को गाय के दूध् में उबालकर हर रोज लेने से अनिद्रा रोग सदा के लिए भाग खडा होता है।
*मिरगी के दौरों में आध चम्मच ब्राह्मी स्वरस मधु के साथ लेने से रोग से राहत मिलती है। स्वरस के स्थान पर चूर्ण का भी सेवन किया जा सकता है।
कभी-कभी शरीर कुष्ट तथा अन्यान्य प्रकार के क्षय रोगों का शिकार बन दुर्बलता के शिकंजे में कसता चला जाता है। ऐसी स्थिति में तेल की तरह ब्राह्मी का लेपन भी कापफी आराम दायक होता है।
*खाँसी तथा क्षय रोग में भी ब्राह्मी का लेपन से रोगोपचार की प्रक्रिया सफल होती है।
आंत भारी तो मॉथ भारी यानी पेट की कब्ज से रक्त विकार उत्पन्न होते और हृदयघात जैसी दुर्बलता सामने आती है।
*ब्राह्मी स्वरस में काली मिर्च मिलाकर खाने से पाचन संस्थान मजबूत होता तथा *विभिन्न प्रकार के विष और ज्वर में शीघ्र लाभ पहुँचता है।
प्रारम्भ में शरीर और मन को शक्ति और स्फर्ति प्रदान करने वाला यह टॉनिक अब आत्मबल बढाने में भी बडा सहायक सिद्व हो रहा है।
*स्मरण शक्ति के कमजोर तथा मंदबुद्वि होने पर इसका स्वरस और चूर्ण जल अथवा मिश्री के साथ लेने का विधन है।
*इसकी मालिश करने से भी मस्तिष्क की खुश्की मिटती और मेध संवर्धन का सदुद्देश्य पूरा होता है।
*मानसिक शांति प्राप्त करने के लिए तो उसका प्रयोग ठण्डाई में भी करते है।
*हृदय की समस्या (Heart Disease):-
ब्राह्मी में ब्राहमीन एल्केलाइड (Brahmin Alkaloid) गुण मौजूद होता है, जो हृदय यानि दिल के लिए फायदेमंद साबित होता है। यदि ब्राह्मी का नियमित रुप से सेवन किया जाए तो सारी उम्र हृदय यानि दिल से जुड़ी बीमारी नहीं हो सकती।
*
मिर्गी के दौरे (Epilepsy Disease):- मिर्गी की बीमारी होने पर रोगी को ब्राह्मी की जड़ का रस या या ब्राह्मी चूर्ण का सेवन दिन में 3 दूध के साथ करवाएं। ऐसा करने से रोगी को लाभ मिलेगा और मिर्गी के दौरे आना बंद हो जाएंगे।
खसरा : -
ब्राह्मी के रस में शहद मिलाकर पिलाने से खसरा की बीमारी समाप्त होती है।
*बलगम :-
बालकों के सांस और बलगम में ब्राह्मी को थोड़ा-सा गर्म करके छाती पर लेप करने से लाभ होता है।
*पीनस :-
मण्डूकपर्णी की जड़ को नाक से लेने से पीनस (पुराना जुकाम) के रोग में लाभ होता है।
*दांतों के दर्द: -
दांतों में तेज दर्द होने पर एक कप पानी को हल्का गर्म करें। फिर उस पानी में 1 चम्मच ब्राह्मी डालकर रोजाना दो बार कुल्ला करें। इससे दांतों के दर्द में आराम मिलता है।
*हकलाना, तुतलाना :
-ब्राह्मी घी 6 से 10 ग्राम रोजाना सुबह-शाम मिश्री के साथ खाने से तुतलाना (हकलाना) ठीक हो जाता है।
*कमजोरी :-
40 मिलीलीटर केवांच की जड़ का काढ़ा सुबह-शाम सेवन करने से स्नायु की कमजोरी मिट जाती है। इसके जड़ का रस अगर 10-20 मिलीलीटर सुबह-शाम लिया जाए तो भी कमजोरी में लाभ होता है।



*एड्स : -ब्राह्मी नामक बूटी का रस 5 से 10 मिलीलीटर अथवा चूर्ण 2 ग्राम से 5 ग्राम सुबह शाम देने से एड्स में लाभ होता है क्योंकि यह गांठों को खत्म करता है और शरीर के अंदर गलने को रोकता है। निर्धारित मात्रा से अधिक लेने से चक्कर आदि आ सकतेहैं।
*दांत दर्द (Tooth Ache):-
ब्राह्मी का इस्तेमाल, दांत दर्द जैसी परेशानी में भी किया जाता है। आधा गिलास पानी में आधा चम्मच ब्राह्मी डालकर गर्म करके रख लें। इस पानी से रोजाना दिन में दो बार कुल्ला करें। ऐसा करने से दांतों के दर्द से छुटकारा मिलता है।
*एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidant):-
ब्राह्मी का उपयोग बौद्धिक विकास बढ़ाने के लिए प्राचीनकाल से किया जा रहा है। ब्राह्मी में कई एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं इसलिए ब्राह्मी रस या इसके 7 पत्तों का रोजाना सेवन करना चाहिए।
*ब्राह्मी क्वाथ को पिलाने के पीछे एक ही उद्देश्य रहा कि आत्मबल अर्थात ब्रह्मवर्चस की प्राप्ति होती है । हमारी दृष्टि में Brahmi का एक रासायनिक घटक हर्सेपोनिन सीधे पीनियल ग्रन्धि को प्रभावित करके सिरॉटानिन नामक स्नायु रसायन का उत्सर्जन करता है जो साध्ना की सपफलता का रहस्य भी यही है और आत्म बल सम्पन्न सपफल जीवन जीने की रीति-नीति भी। स्मृति, मेध और प्रतिभा के प्रमापन के लिए प्रयोगशाला भी बनाई थी जिसमें साध्ना काल में अनेकानेक तरह के उत्साहवर्धक परिणाम भी मिले।
*एकाग्रता बढ़ाए
(Increase Concentration):- एकाग्रता की कमी के कारण अक्सर बच्चों का ध्यान पढ़ाई से दूर भागता है। ऐसे में दूध के साथ ब्राह्मी चूर्ण का रोजाना सेवन करने से बच्चों में एकाग्रता और स्मरण शक्ति बढ़ती है, जिसके फलस्वरूप बच्चों का मन पढ़ाई में लगने लगता है।
*कार्यक्षमता बढ़ाए
(Increase Efficiency):- ब्राह्मी का सबसे ज्यादा प्रभाव मुख्य रूप से मस्तिष्क पर होता है। यह मस्तिष्क के लिए एक चमत्कारी औषधि है, मस्तिष्क को शीतलता प्रदान करती है। लगातार काम करने से थकावट हो जाने पर कार्यक्षमता अक्सर कम हो जाती है। इससे बचने के लिए ब्राह्मी रस या ब्राह्मी चूर्ण का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से मानसिक तनाव, थकावट या सुस्ती कम होती है और कार्य क्षमता बढ़ती है।
ब्राह्मी की ताजा अवस्था का प्रयोग तो सर्वोत्तम है। कहीं उपलब्ध नहीं हो तो सुखाकर पाउडर के स्वरूप में भी प्रयोग किया जा सकता है।
मात्रा : 1 से 3 चम्मच ब्राह्मी के पत्तों का रस, ताजी हरी पत्तियां 10 तक सुखाया हुआ बारीक चूर्ण 1 से 2ग्राम तक, पंचांग (फूल, फल, तना, जड़ और पत्ती) चूर्ण 3 से 5 ग्राम तक और जड़ के चूर्ण का सेवन आधे से 2 ग्राम तक करना चाहिए।

16.7.16

एलोवेरा के गुण ,लाभ, उपचार Benefits of Aloe Vera




हमारे आस पास तमाम ऐसी वनस्पतियां पाई जाती हैं जिनमें औषधीय गुण मिलते हैं। समझ और सजगता का अभाव होने के कारण इनका सही प्रयोग नहीं हो पाता। इन्हीं वस्पतियों में घृतकुमारी का नाम प्रमुखता से लिया जाता है। आयुर्वेद में इसे ग्वारपाठा, घी कुंवारा, स्थूलदला, कुमारी आदि नामों से इसे जाना जाता है। घृतकुमारी के पत्तों का इस्तेमाल यकृत विकार, आमवात, कोष्ठबद्धता, बवासीर, स्त्रियों के अनियमित मासिक चक्र और मोटापा घटाने के साथ ही चर्म रोग में भी लाभकारी होता है। घृतकुमारी सभी स्थानों पर पूरे वर्ष सुगमता से मिलता है। इसके गूदे में लौह, कैल्शियम, पोटैशियम एवं मैग्नीशियम पाया जाता है।एलोवेरा विवेचन निम्न प्रकार है-

पीलिया रोग


1. पीलिया रोग से ग्रसित रोगी के लिए एलोवीरा एक रामबाण औषधि है। 15 ग्राम एलोवेरा का रस सुबह शाम पीयें। आपको इस रोग में फायदा मिलेगा। मूत्र संबंधी रोग हो या गुर्दों की समस्या हो तो एलोवेरा आपको फायदा पहुंचाता है। एलोवेरा का गूदा या रस का सेवन करें।

चेहरा सुंदर और चमकदार

2. एलोवेरा का गूदा चेहरे पर लगाने से चेहरा सुंदर और चमकदार बन जाता है। पुरूष हो चाहे स्त्री दोनों को एलोवेरा का पेस्ट चेहरे पर लगाना चाहिए। यह पूर्णरूप से प्राकृतिक क्रिम है। यदि सिर में दर्द हो तो आप हल्दी में 10 ग्राम एलोवेरा मिलाकर सिर पर इसका लेप लगाएं एैसा करने से सिर दर्द में राहत मिलती है। और ताजगी का अहसास होता है।

मोटापा

3. एलोवेरा मोटापा कम करने में फायदा करता है। 10 ग्राम एलोवेरा के रस में मेथी के ताजे पत्तों को पीसकर उसे मिलाकर प्रतिदिन सेवन करें या 20 ग्राम एलोवेरा के रस में 4 ग्राम गिलोय का चूर्ण मिलाकर 1 महिने तक सेवन करने से मोटापे से राहत मिलती है।

प्राकृतिक कंडीशनर

4. यह एक तरह का प्राकृतिक कंडीशनर है। एलोवेरा को बालों पर 20 मिनट तक उंगलियों के जरिए बालों पर लगाते रहें। और थोड़ी देर में पानी से बालों को धों लें। यह बालों को सुदंर, घना और आकर्षक बनाता है। चेहरे की झुर्रियों को दूर करने में आप एलोवेरा का गूदा कच्चे दूध के साथ मिलाकर चेहरे पर मलें। यह झुर्रियों को खत्म करके चेहरे कांतिमान बनाता है।

डायबिटीज की समस्या

5. डायबिटीज की समस्या से परेशान हैं तो 10 ग्राम एलोवेरा के रस में 10 ग्राम करेले का रस मिलाकर कुछ दिनों तक सेवन करने से डायबिटीज से मुक्ति मिलती है। 20 ग्राम आंवले के रस में 10 ग्राम एलोवेरा के गूदे को मिलाकर प्रतिदिन सुबह सेवन करें। यह शूगर की बीमारी को दूर करेगा।

6. आग से शरीर का कोई अंग जल या झुलस गया हो तो आप एलोवेरा का गूदा उस जगह पर लगाएं आपको जलन से राहत मिलेगी और घाव भी जल्दी ठीक होगा।
7. सर्दी, जुकाम या खांसी होने पर शहद में 5 ग्राम एलोवेरा के ताजे रस में मिलाकर सेवन करें आपको फायदा होगा। शरीर में कैल्शियम की कमी हो तो एलोवेरा के गूदे का सेवन जरूर करें ।

बवासीर
8. बवासीर में यदि खून ज्यादा बहता हो तो एलोवेरा के पत्तों का सेवन 25-25 ग्राम की मात्रा में सुबह शाम करते रहें। बवासीर के मस्से खत्म करने के लिए एलोवेरा के गूदे में नीम की पत्तियों को जलाकर उसका राख मिला लें और इस पेस्ट को मलद्वार पर बांध लें।

9. खुजली, मुंहासों और फुंसी होने पर डेली 10 से 15 ग्राम एलोवेरा का रस पीना चाहिए यह खून को शु़द्ध करता है और चेहरे से मुंहासों को भी हटा देता है। दाद होने पर 10 ग्राम अनार के रस में 10 ग्राम एलोवेरा रस मिलाकर दाद वाली जगह पर लगाने से दाद ठीक हो जाते हैं।

10. पेट संबंधी कोई भी बीमारी हो तो आप 20 ग्राम एलोवेरा के रस में शहद और नींबू मिलाकर उसका सेवन करें। यह पेट की बीमारी को दूर तो करता ही है साथ ही साथ पाचन शक्ति को भी बढ़ाता है।

आजकल किडनी रोग की समस्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में एलोवीरा का सेवन करने से किडनी समस्या ठीक हो सकती है। साथ ही साथ एलोवीरा के सेवन से किडनी की संक्रमण समस्या भी दूर हो जाती है।

उर्जा बढ़ाने के लिए
एलोवेरा शरीर में उर्जा को बढ़ाता है। यदि आप नियमित एलोवेरा का जूस पीते हैं तो इससे शरीर में मिनरल और विटामिन शरीर को मिलते हैं जिससे शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है। एलोवेरा के रस से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।
दांतों और छालों के लिए एलोवेरा
दांतो में कीटाणु लग जाने की वजह से दांत खराब हो जाते हैं। इससे बचने के लिए एलोवेरा का जूस पीएं। यदि मुंह में छाले पड़ गए हों और उनसे खून निकल रहा हो तो आप एलोवेरा जूस से कुल्ला करें।

कब्ज नाशक है एलोवेरा

एलोवेरा कब्ज की समस्या को खत्म करता है। रोज सुबह एक गिलास एलोवेरा जूस का सेवन करने से पुरानी से पुरानी कब्ज पल भर में ठीक हो जाती है।
एलोवेरा के गुण लाभ
* एलोवेरा में 18 धातु, 15 एमिनो एसिड और 12 विटामिन मौजूद होते हैं जो खून की कमी को दूर कर रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढाते हैं।
* एलोवेरा के कांटेदार पत्तियों को छीलकर रस निकाला जाता है। 3 से 4 चम्मच रस सुबह खाली पेट लेने से दिन-भर शरीर में चुस्ती व स्फूर्ति बनी रहती है।
* एलोवेरा का जूस पीने से कब्ज की बीमारी से फायदा मिलता है।
* एलोवेरा का जूस मेहंदी में मिलाकर बालों में लगाने से बाल चमकदार व स्वस्थ होते हैं।
कब्ज की बीमारी 

* एलोवेरा का जूस पीने से शरीर में शुगर का स्तर उचित रूप से बना रहता है।
एलोवेरा का जूस बवासीर, डायबिटीज, गर्भाशय के रोग व पेट के विकारों को दूर करता है।
* एलोवेरा का जूस पीने से त्वचा की खराबी, मुहांसे, रूखी त्वचा, धूप से झुलसी त्वचा, झुर्रियां, चेहरे के दाग धब्बों, आखों के काले घेरों को दूर किया जा सकता है।
* एलोवेरा का जूस पीने से मच्छर काटने पर फैलने वाले इन्फेक्शन को कम किया जा सकता है।
* एलोवेरा का जूस ब्लड को प्यूरीफाई करता है साथ ही हीमोग्लोबिन की कमी को पूरा करता है।
* एलोवेरा को सौंदर्य निखार के लिए हर्बल कॉस्मेटिक प्रोडक्ट जैसे एलोवेरा जैल, बॉडी लोशन, हेयर जैल, स्किन जैल, शैंपू, साबुन, फेशियल फोम आदि में प्रयोग किया जा रहा है।
एलर्जी में एलोवेरा
एलोवेरा में एमिनों एसिड की मात्रा भरपूर होती है जो एलर्जी को दूर करने का काम करता है। एलोवीरा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।
जो इंसान एलोवेरा का रस रोज पीता है वह कभी बीमार नहीं पड़ता है।
एलोवेरा खून साफ करता है जिससे जोड़ों का दर्द ठीक होता है।
यदि एडि़यां फट गई हों तो रोज एलोवेरा जेल से मालिश करें।
त्वचा में नमी को बनाए रखता है एलोवेरा।
अल्सर, वायु रोग और अम्लपित्त आदि की शिकायतें दूर होती हैं एलोवेरा जूस को पीने से।
गर्मियों के समय में अक्सर त्वचा में सनबर्न की शिकायत हो जाती है। ऐसे में एलोवेरा को त्वचा पर लगाने से सनबर्न ठीक हो जाता है।

स्कैल्प का ड्राई होना

एन्टीबैक्टिरीयल गुण होने की वजह से एलोवेरा जेल ड्राई स्कैल्प की समस्या को खत्म करता है। इसके लिए आप एलोवेरा जेल को अपने सिर पर लगा लें और पंद्रह मिनट के बाद शैंपू से अपने बालों को धो लें।

एलोवेरा कोई साधारण पौधा नहीं है। इसमें समाया हुआ है प्राकृतिक तत्वों का रहस्य जिससे आप अभी तक अनजान थे। एलोवेरा में ही छिपा हुआ है कई बीमारियों का इलाज। आप भी एलोवेरा का पेड़ अपने घर आंगन में लगा सकते हो और इसके फायदे उठा सकते हो। भारत और जापान में पुराने समय से ही एलोवीरा का प्रयोग चिकित्सा के रूम में किया जाता रहा है। एलोवीरा का जरूरत से ज्यादा सेवन करना भी सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता है।

15.7.16

तेज पत्ता के फायदे Benefits of bayleaf





तेजपत्‍ता को भारतीय व्‍यंजनों में उसकी अद्वितीय खुशबु और स्‍वाद के लिए जाना जाता है। लोगों को लगता है कि इससे सब्‍जी में अच्‍छी खुशबु आती है लेकिन इस पत्‍ते के कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी होते हैं। इसमें फ्लेवोनॉड्स, एंटी-ऑक्‍सीडेंट, आवश्‍यक तेल और टैनिन भरपूर मात्रा में होते हैं जो भोजन को विशेष प्रकार की एरोमा से भर देते हैं। तेजपत्‍ता में जीवाणुरोधी, एंटी-इंफ्लामेंट्री और मूत्रवर्धक गुण होते हैं।
तेज पत्ता को हम ‘Bay Leaf’ के नाम से भी जानते है। इसके सेवन से डायबटीज से पीडित मरीज को फायदा होता है। यह पाचन क्रिया को दुरूस्‍त बनाता है और हद्य लाभ प्रदान करता है। इसके सेवन से सर्दी-जुकाम में भी आराम मिलता है। तेजपत्‍ता एक प्रकार का मसाला होता है जिसमें कॉपर, पौटेशियम, कैल्शियम, मैग्‍नीशियम, सेलेनियम और आयरन की मात्रा काफी ज्‍यादा होती है। लेकिन हममें से बहुत कम लोगों को इसके गुणों के बारे में पता होता है।
इसके अलावा, तेजपत्‍ता, बालों, दांतों और त्‍वचा में चमक प्रदान करता है। रूसी होने पर भी तेजपत्‍ता, फायदा करता है। यह स्वाद में कड़वा होता है जिसे हम कोरा नहीं खा सकते। तो आइये जानते है इसके स्वास्थवर्धक फायदों के बारे में जिनसे आप अपने आप को स्वस्थ रख सकते है।
पाचन शक्ति बढ़ाये:-
तेजपत्‍ता, पाचन में सहायक होता है और इसके सेवन से कई प्रकार के पाचन सम्‍बंधी विकार सही हो जाते हैं। अगर आपको कब्‍ज, एसिड और ऐंठन की शिकायत रहती है तो तेजपत्‍ता आपके लिए रामबाण साबित हो सकता है।
कैंसर को रोकने में लाभदायक:-
तेजपत्‍ता में कैंसर से लड़ने के गुण होते हैं। इसमें कैफीक एसिड, क्‍वेरसेटिन और इयूगिनेल नामक तत्‍व होते हैं जो मेटाबोल्जिम को कैंसर जैसी घातक बीमारी को होने से रोक लेता है। और आपको कैंसर जैसी बीमारी से दूर रखता है।तेजपत्‍ता में कैंसर से लड़ने के गुण होते हैं। इसमें कैफीक एसिड, क्‍वेरसेटिन और इयूगिनेल नामक तत्‍व होते हैं जो मेटाबोल्जिम को कैंसर जैसी घातक बीमारी को होने से रोक लेता है।
कार्डियोवस्‍कुलर लाभ:
दिल सम्‍बंधी कई समस्‍याओं में तेजपत्‍ता लाभप्रद होता है। इसके सेवन से दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम होता है और दिल स्‍वस्‍थ रहता है।



रूसी दूर करें:-
तेजपत्‍ता की सूखी पत्तियों का पाउडर बना लें और इस पाउडर को दही में मिला लें। इस मिश्रण को सिर की त्‍वचा पर अच्‍छे से लगा लें और कुछ देर बार धो लें। इससे रूसी निकल जाएगी और खुजली की समस्‍या से भी आराम मिल जाएगा।

बालों में चमक लोटाये:-
तेजपत्‍ता के पत्‍तों को बालों की चमक बढ़ाने के लिए भी इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसके कुछ पत्‍तों को लें और उन्‍हें पानी में उबाल दें। इस पानी के ठंडा होने पर इससे बालों को धो लें। ये पानी बालों में कंडीशनर की तरह काम करता है और चिपचिपाहट को दूर कर देता है।
ऊपर दिए गए सभी सुझावों का नियमित रूप से सेवन करे और स्वस्थ रहिये। इन फायदों के अलावा भी तेज पत्ता आपको कई बीमारियो के होने से बचाते है, आपकी किडनी को भी स्वस्थ रखने में आपकी मदद करते है।
किडनी की समस्‍या दूर करें:
तेजपत्‍ता, किडनी में होने वाली समस्‍या को दूर करने में सहायक होता है। इसके लिए, तेजपत्‍ता डालकर पानी उबालें और उस पानी को पिएं।
फ्रेश और दमकती त्‍वचा:-
हाल ही में एक शोध से यह बात सामने आई है कि तेजपत्‍ता में ऐसे गुण होते हैं जो त्‍वचा को बेहद दमकदार बनाते हैं। तेजपत्‍ता डालकर उबाले गए पानी से चेहरा धुलने पर चेहरे में शाइन आ जाती है। साथ ही तेज पत्ता आपके चेहरे पर हो रहे मुँहासे को दूर करने में मदद करता है। इसकी मदद से आपका चेहरा बिना दाग धब्बे का हो जाता है और चमकदार बनता है।
*नींद ज्‍यादा आने पर तेजपत्‍ते को पानी में कम से कम 6 घंटे तक भिगों दें और उठने के बाद उस पानी को पी लें। इससे आपको काफी राहत मिलेगी और नींद वाला हैंगओवर उतर जाएगा।
दांतों की चमक को बनाएं रखें:-
दातों का पीला पड़ना एक प्रकार की समस्‍या है, जिसके निदान के लिए लोग बहुत प्रयास करते हैं। तेजपत्‍ते की एक पत्‍ती को लीजिए और इसे अपने दांतों पर रगड़ दीजिए, इससे दांतों का पीलापन दूर हो जाएगा।
*टाइप 2 प्रकार की डायबटीज होने पर तेजपत्‍ता आपके लिए अच्‍छा साबित हो सकता है। यह ब्‍लड सुगर को नियंत्रित रखता है और दिल को स्‍वस्‍थ बनाएं रखता है। इसलिए, अगर आप डायबटीज के शिकार हैं तो तेजपत्‍ता का इस्‍तेमाल खाने में करने लगे।
दर्द में राहत:
तेजपत्‍ते के तेल को दर्द होने वाली जगह पर लगाने से दर्द में आराम मिलती है। आप चाहें तो दर्द होने वाली जगह पर इससे मसाज करें, काफी फायदा मिलेगा।



26.6.16

सर्प दंश के उपचार How to tackle snake bite






एक समय था जब साँप के काटने से ज्यादातर लोग बिना सही इलाज के ही मर जाते थे। लोगों को यह पता ही नहीं था कि क्या करना चाहिए और क्या नहीं। बहुत कम लोगों को मालूम है कि सारे साँप जहरीले नहीं होते हैं। भारत में लगभग पाँच से छह सौ किस्म के साँप मिलते हैं जिनमें बहुत कम साँप ही जहरीले होते हैं। लेकिन आम तौर पर लोग साँप के काटने पर वह जहरीला है कि नहीं इसके बारे में बिना जाने ही डर से मर जाते हैं, शायद डर के मारे उन्हें दिल का दौरा पड़ जाता है।
सर्पदंश का प्राथमिक उपचार शीघ्र से शीध्र करना चाहिए। दंशस्थान के कुछ ऊपर और नीचे रस्सी, रबर या कपड़े से ऐसे कसकर बाँध देना चाहिए कि धमनी का रुधिर प्रवाह भी रुक जाए। लाल गरम चाकू से दंशस्थान को 1/2 इंच लंबा और 1/4 इंच चौड़ा चीरकर वहाँ का रक्त निकाल देना चाहिए। तत्पश्चात् दंशस्थान साबुन, या नमक के पानी, या 1 प्रतिशत पोटाश परमैंगनेट के विलयन से धोना चाहिए। यदि ये प्राप्य न हों तो पुरानी दीवार के चूने को खुरचकर घाव में भर देना चाहिए। कभी कभी पोटाश परमैंगनेट के कणों को भी घाव में भर देते हैं, पर कुछ लोगों की राय में इससे विशेष लाभ नहीं होता। यदि घाव में साँप के दाँत रह गए हों, तो उन्हें चिमटी से पकड़कर निकाल लेना चाहिए। प्रथम उपचार के बाद व्यक्ति को शीघ्र निकटतम अस्पताल या चिकित्सक के पास ले जाना चाहिए। वहाँ प्रतिदंश विष (antivenom) की सूई देनी चाहिए। दंशस्थान को पूरा विश्राम देना चाहिए। किसी दशा में भी गरम सेंक नहीं करना चाहिए। बर्फ का उपयोग कर सकते हैं। ठंडे पदार्थो का सेवन किया जा सकता है। घबराहट दूर करने के लिए रोगी को अवसादक औषधियाँ दी जा सकती हैं। श्वासावरोध में कृत्रिम श्वसन का सहारा लिया जा सकता है। चाय, काफी तथा दूध का सेवन कराया जा सकता है, पर भूलकर भी मद्य का सेवन नहीं कराना।किसी  जहरीले साँप के काटे जाने पर संयम रखना चािहये ताकि  ह्रदय गति तेज न हाे। साँप के काटे जाने पर जहर सीधे खून में पहुँच कर रक्त कणिकाआे काे नष्ट करना प्रारम्भ कर देते है, ह्रदय गति तेज हाेने पर पर जहर तुरन्त ही रक्त के माध्यम से ह्रदय में पहुँच कर उसे नुक़सान पहुँचा सकते हैं। काटे जाने के बाद तुरन्त बाद काटे गये स्थान काे पानी से धाेते रहना चाहिये। साँप के काटे जाने पर बिना घबराये तुरन्त ही नजदीकी प्रतिविष केन्द्र में जाना चाहिये।





कोबरा के काट लेने के लक्षण क्या हैं- काटा हुआ स्थान पन्द्रह मिनट के भीतर सूजने लगता है. यह कोबरा के काटे जाने का सबसे प्रमुख पहचान है. ध्यान से देखें तो दो मोटी सूई के धसने से बने निशान-विषदंत के निशान दिखेंगे. प्राथमिक उपचार में नयी ब्लेड से धन के निशान का चीरा सूई के धसने वाले दोनों निशान पर लगा कर दबा दबा कर खून निकालें और किसी के मुहँ में यदि छाला घाव आदि न हो तो वह खून चूस कर उगल भी सकता है.

विष का असर केवल खून में जाने पर ही होता है यदि किसी के मुंह में छाला, पेट में अल्सर आदि न हो तो वह सर्पविष बिना नुकसान के पचा भी सकता है. करैत जयादा खतरनाक है मगर इसके लक्षण बहुत उभर कर सामने नही आते यद्यपि थोड़ी सूजन इसमें भी होती है. करैत और कोबरा दोनों के विष स्नायुतंत्र पर घातक प्रभाव डालते हैं.अक्सर यह कहा जाता है कि साँप का जहर दिल और मस्तिष्क तक पहुँचने या पूरे शरीर तक फैलने में लगभग तीन से चार घंटे का समय लेता है, उसके बाद धीरे-धीरे विष का असर पूरे शरीर में होने लगता है। लेकिन इन घंटों में अगर आप अपने दिमाग का सही प्रयोग करके डॉक्टर के पास ले जाने की तैयारी करने के बीच कुछ घरेलू इलाजों के मदद से विष के खतरे को कुछ हद तक कम कर सकते हैं-
घी -पहले मरीज को 100 एम.एल. (लगभग आधा कप) घी खिलाकर उल्टी करवाने की कोशिश करें, अगर उल्टी न हो तो दस-पंद्रह के बाद गुनगुना पानी पिलाकर उल्टी करवायें, इससे विष के निकल जाने या असर के कम होने की संभावना होती है।
तुअर दाल-
तुअर दाल का जड़ पीसकर रोगी को खिलाने से भी इन्फेक्शन या विष का असर कम होता है।
कंटोला-
कंटोला दो तरह का होता है, एक में फूल और फल दोनों होता है और दूसरे में सिर्फ फूल आता है उसको ‘बांझ कंटोला’ कहते हैं, उसका कंद (bulb) घिसकर सर्पदंश वाले जगह पर लगाने से विष का असर या इन्फेक्शन की संभावना कम होती है।
लहसुन-
लहसुन तो हर किचन में मिल जाता है,उसको पीसकर पेस्ट बना लें और सर्पदंश वाले जगह पर लगायें या लहसुन के पेस्ट में शहद मिलाकर खिलाने या चटवाने से इन्फेक्शन कम हो जाता है।


सर्प दंश का विष नष्ट करने हेतु सरल उपाय
पहला प्रयोगः तपाये हुए लोहे से डंकवाले भाग को जला देने से नाग का प्राणघातक जहर भी उतर जाता है।
दूसरा प्रयोगः सर्पदंश की जगह पर तुरंत चीरा करके विषयुक्त रक्त निकालकर पोटेशियम परमैंगनेट भर देने से जहर फैलना एवं चढ़ना बंद हो जाता है।
साथ में मदनफल (मिंडल) का 1 तोला चूर्ण गरम या ठण्डे पानी में पिला देने से वमन होकर सर्पविष निकल जाता है। मिचाईकंद का टुकड़ा दो ग्राम मात्रा में घिसकर पिलाना तथा दंशस्थल पर लेप करना सर्पविष की अक्सीर दवा है।
तीसरा प्रयोगः मेष राशि का सूर्य होने पर नीम के दो पत्तों के साथ एक मसूर का दाना चबाकर खा जाने से उस दिन से लेकर एक वर्ष तक साँप काटे तो उसका जहर नहीं चढ़ता।
साँप के काटने पर शीघ्र ही तुलसी का सेवन करने से जहर उतर जाता है एवं प्राणों की रक्षा होती है।
अनुभूत प्रयोगः जिस व्यक्ति को सर्प ने काटा हो उसे कड़वे नीम के पत्ते खिलायें। यदि पत्ते कड़वे न लगें तो समझें कि सर्प विष चढ़ा है। छः सशक्त व्यक्तियों को बुलाकर दो व्यक्ति मरीज के दो हाथ, दो व्यक्ति दो पैर एवं एक व्यक्ति पीछे बैठकर उसके सिर को पकड़े रखे। उसे सीधा सुला दें एवं इस प्रकार पकड़ें कि वह जरा भी हिल न सके।
इसके बाद पीपल के हरे चमकदार 20-25 पत्तों की डाली मँगवाकर उसके दो पत्ते लें। फ़िर ‘सुपर्णा पक्षपातेन भूमिं गच्छ महाविष।’ मंत्र जपते हुए पत्तों के डंठल को दूध निकलनेवाले सिरे से धीरे-धीरे मरीज के कानों में इस प्रकार डालें कि डंठल का उँगली के तीसरे हिस्से जितना भाग ही अंदर जाय अन्यथा कान के परदे को हानि पहुँच सकती है। जैसे ही डंठल का सिरा कान में डालेंगे, वह अंदर खिंचने लगेगा व मरीज पीडा से खूब चिल्लाने लगेगा, उठकर पत्तों को निकालने की कोशिश करेगा। सशक्त व्यक्ति उसे कसकर पकड़े रहें एवं हिलने न दें। डंठल को भी कसकर पकड़े रहें, खिंचने पर ज्यादा अंदर न जानें दे।
जब तक मरीज चिल्लाना बंद न कर दे तब तक दो-दो मिनट के अंतर से पत्ते बदलकर इसी प्रकार कान में डालते रहें। सारा जहर पत्तें खिंच लेंगे। धीरे-धीरे पूरा जहर उतर जायेगा तब मरीज शांत हो जायेगा। यदि डंठल डालने पर भी मरीज शांत रहे तो जहर उतर गया है ऐसा समझें।
जहर उतर जाने पर नमक खिलाने से खारा लगे तो समझें कि पूरा जहर उतर गया है। मरीज को राहत होने पर सौ से डेढ़ सौ ग्राम शुद्ध घी में 10-12 काली मिर्च पीसकर वह मिश्रण पिला दें एवं कानों में बिल्वादि तेल की बूँदे डाल दें ताकि कान न पकें। कम से कम 12 घण्टे तक मरीज को सोने न दें। उपयोग में आये पत्तों को या तो जला दें या जमीन में गाड़ दें क्यों कि उन्हें कोई जानवर खाये तो मर जायेगा।
इस प्रयोग के द्वारा बहुत मनुष्यों को मौत को मुख में से वापस लाया गया है। भले ही व्यक्ति बेहोश हो गया हो या नाक बैठ गयी हो, फिर भी जब तक जीवित हो तब तक यह प्रयोग चमत्कारिक रूप से काम करता है।

जहर पी लेने परः कितना भी खतरनाक विषपान किया हो, नीम का रस अधिक मात्रा में पिलाकर या घोड़ावज (वच) का चूर्ण या मदनफल का चूर्ण या मुलहठी का चूर्ण या कड़वी तुम्बी के गर्भ का चूर्ण एक तोला मात्रा में पिलाकर वमन (उलटी) कराने से लाभ होगा। जब तक नीला-नीला पित्त बाहर न निकले तब तक वमन कराते रहें।
साँप -दंश  के मंत्र तंत्र  मे कितने सच्चाई है ?
गांवों में एक प्रथा सी है कि जब भी किसी व्यक्ति को कोई सर्प या बिच्छु काट लेता है तो तुरंत ही किसी तांत्रिक या ओझा को बुलाकर झाड़फुंक कराया जाता है, कई लोग झाड़फुंक से बिल्कुल स्वस्थ्य हो जाते हैं |, तब उन तांत्रिक ओझाओं की वाह-वाही होने लगती है। लोगों को लगता है कि वह बहुत बड़ा तांत्रिक है। दिन प्रतिदिन ऐसे तांत्रिक ओझाओं की ख्याती बढ़ने लगती है, और दूर-दूर से लोग सर्पदंश का ईलाज कराने आने लगते है। मगर कभी-कभी उन्ही प्रसिद्ध तांत्रिकों के झाड़फुंक करने के बावजूद भी सर्पदंश के ग्रसित व्यक्ति बच नहीं पाता तब ऐसे तांत्रिकों पर सवालिया निशान लग जाता है,| आखिर ऐसा क्यों होता है कि जिस तांत्रिक ने कई लोगों को झाड़फुंक कर पूर्णतः स्वस्थ्य कर दिया हो वही तांत्रिक किसी व्यक्ति को झाड़फुंक करते हुये उसके मृत्यु का कारण बन जाता है। आईये इसे मै आपको विस्तार पूर्वक समझाता हूँ।



यह नहीं कहा जा सकता की मंत्र में शक्ति नहीं होती ,क्योकि मन्त्रों की शक्ति अकाट्य रूप से प्रमाणित है |अतः सर्पदंश में भी मन्त्रों से प्रभाव पड़ सकता है ,किन्तु इसके लिए ऐसे मान्त्रिक साधक की जरुरत होती है जो अपने मंत्र बल से शरीर में रासायनिक परिवर्तन ला सके ,,क्योकि सर्पदंश में मंत्र से सर्प विष को कहने को तो कहते हैं उतारा जा रहा है किन्तु उसका अर्थ होता है की उसे निष्प्रभावी किया जा रहा है ,क्योकि वह बाहर नहीं निकलता अपितु रक्त में मिलता जाता है |अर्थात उसे निष्प्रभावी करने पर ही इलाज संभव है और यह एक शारीरिक रासायनिक परिवर्तन होगा ,विष के गुणों को बदल देना |अच्छे से अच्छे साधकों में यह क्षमता नहीं पायी जाती की वह किसी व्यक्ति के शरीर में रासायनिक परिवर्तन कर दें |इसके लिए बेहद उच्च शक्ति की साधना और कम से कम कुंडलिनी के किसी एक चक्र की विशेष क्रियाशीलता होनी चाहिए |जबकि सर्पदंश का इलाज आपको गावों में आपको ऐसे ओझा -मान्त्रिक करते मिलेंगे जो कुंडलिनी तो क्या उसका नाम तक नहीं जानते |उन्होंने कभी किसी उच्च शक्ति की साधना नहीं की |झाडफूंक ही किये और सामान्य पूजा आदि किये |यह लोग शाबर मन्त्रों का प्रयोग करते मिलेंगे |यद्यपि शाबर मंत्र कुछ मामलों में बेहद प्रभावी होते हैं किन्तु कम से कम रासायनिक परिवर्तन तो नहीं कर सकते ,सामान्य साधकों द्वारा उच्चारित होने पर | शाबर मन्त्रों के उच्च प्रभाव के लिए भी बेहद उत्कृष्ट साधक की जरूरत होगी जो सामान्य जन मानस में उस स्थिति में आने पर नहीं मिलेगा |यद्यपि शाबर मंत्र से कुंडलिनी साधना नहीं होती हाँ शक्तियों की साधना होती है और विरला साधक उच्च स्तर पर भी पहुँच जाता है |
जीव वैज्ञानिकों के द्वारा निरंतर अध्ययन एवं शोध करने पर वैज्ञानिकों ने इस तथ्य को प्रमाणित किया है कि भारत वर्ष में पाये जाने वाले सर्पो में से लगभग 90 प्रतिशत सर्प जहरीले नही होते या फिर कम जहरीले होते हैं , जिनके काटने पर व्यक्ति की मृत्यु नहीं होती मात्र हल्का सा नशा होता है और चक्कर आने लगता है। परंतु कुछ समय बाद ही सर्प विष का प्रभाव समाप्त हो जाता है और पीडि़त व्यक्ति पूर्णतः स्वस्थ्य हो जाता है। लेकिन सर्प द्वारा अचानक काटे जाने पर व्यक्ति भयभीत हो जाता है, और लगता है शरीर में जहर फैल रहा है, तथा डर से व्यक्ति के हाथ-पांव थर-थराने लगते हैं। कई व्यक्ति तो डर से बेहोश तक हो जाते हैं। इस दौरान गांवों में तांत्रिको के द्वारा झाड़फुंक चालू हो जाता है, और कुछ समय बाद जब जहर का असर समाप्त होता है तो व्यक्ति होश में आने लगता है, तथा वह व्यक्ति स्वस्थ्य होने लगता है।
इस प्राकृतिक प्रक्रिया के द्वारा स्वयं ठीक हुये व्यक्ति को तथा देखने वाले को लगता है कि झाड़फुंक के माध्यम से ही सर्प का विष उतरा वरना व्यक्ति मर जाता। इसी अंधविश्वास के कारण लोगों की श्रद्धा और बढ़ जाती है। तब किसी जहरीले सांपों के द्वारा काटे जाने पर भी अन्ध श्रद्धा और अन्धविश्वास में आकर जो व्यक्ति झाड़फुंक करवाने में विश्वास रखता है उसे अपने जान से हाथ धोना पड़ जाता है, और पछताने के लिए अपने परिजनो को छोड़ जाता है।
यहि बात बिच्छु के काटने पर भी लागु होती है, मगर बिच्छु के काटने पर किसी की जान नहीं जाती मगर कष्ट बहुत होता है। इसका विष भी धीरे-धीरे स्वयं ही उतर जाता है तथा किसी बिच्छु का विष विलम्ब से उतरता है, मगर उतरता स्वयं ही है, लेकिन जिसे बिच्छु ने काटा हो वह कहाँ मानने वाला वह तो झाड़फुंक करायेगा ही भले ही वह झाड़फुंक घंटों तक ही क्यों न चले। आखिरकार जहर तो उतारना ही है सो उतरेगा ही अन्ततः व्यक्ति स्वस्थ्य हो जाता है और तांत्रिक वाह-वाही बटोर लेता है।
कई प्रकार के तांत्रिक ग्रंथों तथा शाबर मंत्र के ग्रंथों में भी सर्प विष झाड़ने के मंत्र तथा प्रयोग उल्लेखित है, मेरे पास भी ऐसे कई प्रकार के शाबर मंत्र तथा प्रयोग है, मगर मै यहां पर उन मंत्रो का उल्लेख कर आपको भ्रमित नहीं करना चाहता बल्कि उस वास्तविक्ता से परिचित कराना चाहता हूँ, जिसके माध्यम से सर्पदंश द्वारा पीडि़त व्यक्ति को उचित ईलाज के द्वारा बचाया जा सके। वैसे तो कई प्रकार के सर्प झाड़़ने के मंत्र तथा प्रयोग है जो देखने और सुनने में अटपटे भी लग सकते हैं, और उन पर यकीन करना भी संभव नही।
एक प्रयोग तो ऐसा है कि जो व्यक्ति तांत्रिक को बुलाने जाता है और कहता है कि अमुक व्यक्ति को सर्प ने काटा है। चलिए उसे ठीक कर दीजिए मै आपको लेने आया हूँ। तांत्रिक द्वारा वहीं पर मंत्र पढ़कर बुलाने गये हुये व्यक्ति के गालों पर जोरदार थप्पड़ मारा जाता है और इसके प्रभाव से सर्प द्वारा काटे गये व्यक्ति पर असर होता है तथा उसका जहर धीरे-धीरे उतरने लगता है।
कई लोग चित्ती कौड़ी उड़ाने की बात भी करते हैं, जिसमें एक सादे कागज पर एक विशेष प्रकार का यंत्र बनाया जाता है, जिसके चारो कोनो पर कौड़ी तथा बीच में चित्ती कोड़ी रखकर विशेष मंत्रो द्वारा नाग देवता का आह्वान किया जाता है। कुछ ही क्षणों में मंत्रशक्ति के माध्यम से बीच में रखा हुआ चित्ती कौड़ी उड़ जाता है तथा उड़कर उसी सर्प के मस्तक पर चिपक जाता है जिसने व्यक्ति को काटा हो फिर वह सर्प मंत्रशक्ति से आकर्षित होकर दंशित व्यक्ति के पास आकर उसका जहर खींच लेता है। मगर ऐसी कहानी एक कोरी कल्पना के अतिरिक्त और कुछ नहीं लगती क्योंकि आज तक मैंने ऐसा कहीं देखा नहीं। फिर भी इससे में इनकार नहीं कर सकता की ऐसा हो ही नहीं सकता ,क्योकि में मन्त्रों की शक्ति से खुद अच्छे से परिचित और tantra के क्षेत्र में हूँ ,पर ऐसी क्षमता के लिए साधक को बहुत उच्च स्तर का होना चाहिए ,सभी साधक ऐसा नहीं कर सकते ,जबकि आपको ऐसे ऐसे साधक झाड फूंक करते मिलेंगे जो साल में एक दिन इसका शाबर मंत्र जगाते हैं |
कई तांत्रिक सर्प दंशित व्यक्ति के पीठ पर कांसे की थाली चिपका कर ईलाज करते हैं, जब तक विष नहीं उतरता तब तक कांसे की थाली पीठ पर चिपका रहता है, तथा मंत्र पढ़कर राई के दाने थाली पर फेंके जाते हैं। विष समाप्त होते ही थाली पीठ से गिर जाती है और व्यक्ति स्वस्थ हो जाता है। ऐसा ही एक पत्थर सपेरों के पास भी रहता है। जिसे सर्प के काटे हुए स्थान पर रखने से वह पत्थर चिपक जाता है तथा विष को खींच लेता है। मगर ऐसे पत्थरों पर भी ज्यादा यकीन नहीं करना चाहिए क्योंकि सपेरे इस पत्थर का प्रेक्टिकल करने के लिए अपने पास पाले हुए सर्प से कटवाकर वहाँ पर पत्थर को चिपका कर दिखाते है। जिसकी वास्तविक्ता यह है, कि वह सर्प विषैला नहीं होता है या फिर उसके विष के दांत तोड़े जा चुके होते हैं तथा पत्थर का उस स्थान पर चिपकना महज ही सर्प के मुंह से निकले हुये चिपचिपे पदार्थ की वजह से होता है।



यह एकदम से नहीं कहा जा सकता की सर्पदंश का इलाज इन विधियों से नहीं हो सकता ,क्योकि अगर शास्त्रों में इनका उल्लेख है तो कुछ सच्चाई तो जरुर होगी |किन्तु जिस समय यह शास्त्र लिखे गए उस समय के साधकों और आज के साधकों में जमीन आसमान का फर्क हो सकता है |तब के साधकों का काम केवल साधना था ,ईष्ट प्रबलता और आत्मबल इतना हो सकता है की व्यक्तियों में वह रासायनिक परिवर्तन कर सकें ,पदार्थों के गुण बदल सकें ,मंत्र शक्ति से सर्प को खींच सके ,किन्तु क्या आज भी वाही स्थिति है |आज तो एक दो दिन शाबर मंत्र करके खुद को सिद्ध मान लेते हैं ,ऐसे ही लोग इलाज करते हैं और तुक्के लग जाते हैं क्योकि ९० प्रतिशत सांप जहरीले नहीं होते और यह मात्र भय का इलाज करते हैं ,इनमे जो जहरीले साँपों से दंशित हो जाते हैं उनको भाग्य का लिखा कहकर यह मुक्त हो लेते हैं |अतः सर्पदंश पर ओझा-मान्त्रिक के पास जाकर समय बर्बाद कर पीड़ित की जान जोखिम में डालना मूर्खता हो सकता है ,क्योकि कोई यह नहीं जानता की जिसके पास वह लेकर जा रहा है उसमे इतनी शक्ति है की नहीं की वह विष को प्रभावहीन कर सके ,पदार्थ के गुण बदल सके ,शरीर में रासायनिक परिवर्तन ला सके |जिस साधक में इतनी क्षमता आ जायेगी वह इस तरह आराम से नहीं मिल सकता |उसका लक्ष्य बदल जाता है |इससे बेहतर तो सामान्य जड़ीबूटियों का उपयोग करते हुए यथा शीघ्र पीड़ित को डाक्टर के पास ले जाना ही होता है |
आयुर्वेद में है सर्पदंश का ईलाज
भारत के प्राचीनतम् आयुर्वेदिक ग्रंथों में ऐसे सैकड़ों प्रकार के आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का उल्लेख मिलता है। जिसके माध्यम से सर्पविष का निवारण किया जा सकता है। ऐसे ही कुछ विशेष विशिष्ट जड़ी-बूटियों का उल्लेख नीचे किया जा रहा है।
निर्विषी:- निर्विषी नामक जड़ी का चूर्ण बनाकर एक-एक चम्मच एक-एक घंटे के अंतर में पानी में घोलकर पीलाये तो कुछ ही देर में विष से बेहोश व्यक्ति को भी होश आ जाता है तथा कुछ ही देर में रोगी पूर्णतः स्वस्थ्य हो जाता है।
कुचला:- दोला यंत्र द्वारा एक प्रहर तक शुद्ध किया हुआ कुचला को चूर्ण बनाकर सर्प दंशित व्यक्ति को 2 रत्ती चूर्ण पानी के साथ पिलावे साथ ही 1 तोला चूर्ण को पानी में लेप बनाकर सर्प दंश के स्थान पर लगायें तथा शरीर पर भी लेप करें ऐसा करने से सर्पविष से मुर्छित मनुष्य को आधे घंटे में होश में आ जायेगा। यदि वह इतना बेहोश हो कि मृत्यु के समीप हो तो 5 से 6 रत्ती चूर्ण को नीबू के रस के साथ बूंद बूंद गले में टपकाये तथा शरीर पर पारे का मर्दन करें ऐसा करने पर रोगी विषमुक्त होकर स्वस्थ हो जाता है।
अंकोल:- अंकोल के जड़ का चूर्ण बनाकर 1-1 तोला सर्पदंश से पीडि़त व्यक्ति को दिया जाय तो उल्टी तथा वमन के माध्यम से सारा विष बाहर निकल जाता है तथा पीडि़त रोगी पूर्णतः स्वस्थ्य हो जाता है।
आक (मदार):- जहाँ पर सर्प ने काटा हो उस स्थान पर मदार की पत्ती को तोड़ कर उसका दूध उस स्थान पर टपकाये कुछ ही देर में वह दूध विष के जगह में काला हो जाता है, फिर उसे पोछकर फिर से ताजा दूध टपकाये फिर काला होने पर पोछे इस प्रकार यह क्रिया तबतक करते रहें जबतक की दूध सफेद न रह जाये जब मदार का दूध सफेद का सफेद ही रहे तो समझ ले कि सर्प का विष समाप्त हो गया है।
द्रोण पुष्पी:- द्रोण पुष्पी के पंचांग का स्वरस काली र्मिच मिलाकर दो-दो तोला थोड़ी -थोड़ी देर में पिलाते रहें तथा नाक, कान, आंख में भी टपकाते रहें ऐसा करने से व्यक्ति बेहोश नहीं होता तथा सर्पदंश से बेहोश व्यक्ति भी होश में आ जाता है।
ऐसे सैकड़ो प्रकार की जड़ी बूटीयाँ हैं जिनके माध्यम से सर्पदंशित व्यक्ति का इलाज कर पूर्णतः विष मुक्त किया जा सकता है। फिर भी आज के आधुनिक वैज्ञानिक युग में मात्र किसी एक औषधी अथवा झाड़ फूंक के चक्कर में पड़ कर अपना तथा अपने परिवार का जान संकट में डालना मूर्खता ही होगा।



परामर्श
यदि दुर्भाग्यवश आपको या आपके परिवार या पड़ोस में किसी को भी सर्प काट ले तो यथाशीघ्र किसी अच्छे अस्पताल में जाकर ईलाज कराएं तब तक उपर बताये हुए आयुर्वेदिक जड़ी - बूटियों में से जो भी मिल जाए उसका उपयोग करना चाहिए। सर्व प्रथम जहाँ पर सर्प ने काटा हो उसके उपर तथा नीचे रस्सी से कस कर बांध दे जिससे जहर न फैले, फिर किसी धारदार हथियार या ब्लेड से चिरा लगाकर वहाँ का खून निकाल दें तथा बिना बुझा चूना उस पर रखें चूना विषैले रक्त को अवशोषित कर लेती है चूना नहीं मिलने पर मदार का दूध उपयोग करना चाहिए। तथा सर्पदंशित व्यक्ति को 12 घन्टे तक सोने नहीं देना चाहिए नींद आने पर द्रोणपुष्पी का रस आखों में डाले तथा तत्काल किसी योग्य चिकित्सक से ईलाज कराना चाहिए। ...



एंटीवेनम सूई है एकमात्र इलाज (Antivenom Injection):




यह सूई अगर आसपास किसी बाजार हाट के मेडिकल स्टोर पर मिल जाय तो पहले इंट्रामस्कुलर (Intramuscular Injection) देकर अस्पताल तक पहुंचा जा सकता है, जहाँ आवश्यकता जैसी होगी चिकित्सक फिर इंट्रा वेनस दे सकता है. अगर आप के क्षेत्र में साँप काटने की घटनाएँ अक्सर होती है तो पी एच सी के चिकित्सक से तत्काल मिल कर एंटी वेनम की एडवांस व्यवस्था सुनिशचित करें- मेडिकल दूकानों पर भी इसे पहले से रखवाया जा सकता है. एंटीवेनम 10 हज़ार लोगों में एकाध को रिएक्शन करता है-कुशल चिकित्सक एंटीवेनम के साथ डेकाड्रान(Decadron)/कोरामिन(Coramin) की भी सूई साथ साथ देता है-बल्कि ऐसा अनिवार्य रूप से करना भी चाहिए। याद रखें जहरीले सांप के काटने पर कई वायल एंटीवेनम के लग सकते हैं. इसलिए इनका पहले से ही प्रयाप्त इंतजाम जरुरी है.

साँप काटने पर क्या न करें?

साँप के काटने पर झाड़-फूँक और जड़ी-बूटी आदि के द्वारा इलाज के चक्कर में समय न गंवाएँ। क्योंकि सर्पदंश के मामले में एक क्षण की भी देरी पीड़ित के लिए मौत का सबब बन सकती है।

किसी व्यक्ति को साँप काटने पर काटने वाले साँप की खोजबीन करके उसे पकड़ने की कोशिश कत्तई न करें, इससे साँप भड़क सकता है और वह अन्य लोगों को भी अपना शिकार बना सकता है।

पीड़ित व्यक्ति को दर्द से तड़पता देखकर उसे अपने मन से कोई दवा विशेष एस्प्रिन वगैरह कदापि न दें न ही कोई दादी-नानी का नुस्खा उसपर आजमाएँ।

यदि आप उपरोक्त सावधानियों को ध्यान में रखें और यथासमय पीड़ित को अस्पताल पहुँचाकर एन्टीवेनम दिलवा सकें, तो बहुत सम्भव है कि साँप के ज़हर के दुष्प्रभाव को कम किया जा सके और पीड़ित की जान बचाई जा सके।

--------------------

21.6.16

याददाश्त तेज करने के उपाय : Home remedies to boost memory power.

स्मरण शक्ति बढाने के सरल उपचार. how to enhance memory power?



                                                   
                                                                                                   

   स्मरण शक्ति की कमजोरी या विकृति से विद्यार्थी  और दिमागी काम करने वालों को असुविधाजनक स्थिति से रुबरु होना पडता है। यह कोई रोग नहीं है और न किसी रोग का लक्छण है। इसकी मुख्य वजह एकाग्रता(कन्संट्रेशन) की कमी होना है।







        स्मरण शक्ति बढाने के लिये दिमाग को सक्रिय रखना आवश्यक है।  शरीर और मस्तिष्क की कसरतें अत्यंत लाभदायक होती हैं। किसी बात को बार-बार रटने से भी स्मरण शक्ति में इजाफ़ा होता है और वह मस्तिष्क में द्रडता से अंकित हो जाती है। आजकल कई तरह के विडियो गेम्स प्रचलन में हैं । ये खेल भी मस्तिष्क को ताकतवर बनाने में सहायक हो सकते हैं|पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित पहेलियां हल करने से भी मस्तिष्क की शक्ति बढती है।

    मैं नीचे कुछ ऐसे सरल उपचार प्रस्तुत कर रहा हूं जो मेमोरी पावर बढाने मे अत्यंत उपकारी सिद्ध होते हैं--


१)  बादाम ९ नग रात को पानी में गलाएं।सुबह छिलके उतारकर बारीक पीस कर पेस्ट बनालें। अब एक गिलास दूध गरम करें और उसमें बादाम का पेस्ट घोलें।  इसमें ३ चम्मच शहद भी डालें।भली प्रकार उबल जाने पर उतारकर मामूली गरम हालत में पीयें। यह मिश्रण पीने के बाद दो घंटे तक कुछ न लें। यह स्मरण शक्ति वृद्दि करने का जबर्दस्त उपचार है। दो महीने तक करें।


२)   ब्रह्मी दिमागी शक्ति बढाने की मशहूर जडी-बूटी है। इसका एक चम्मच रस नित्य पीना हितकर है। इसके ७ पत्ते चबाकर खाने से भी वही लाभ मिलता है। ब्राह्मी मे एन्टी ओक्सीडेंट तत्व होते हैं जिससे दिमाग की शक्ति घटने पर रोक लगती है।



३)  अखरोट  जिसे अंग्रेजी में वालनट कहते हैं स्मरण शक्ति बढाने में सहायक है। नियमित उपयोग हितकर है। २० ग्राम वालनट और साथ में १० ग्राम किशमिस लेना चाहिये।












४)  एक सेवफ़ल नित्य खाने से कमजोर मेमोरी में लाभ होता है। भोजन से १० मिनिट पहिले खाएं।







५)    जिन फ़लों में फ़ास्फ़ोरस तत्व पर्यात मात्रा में पाया जाता है वे स्मरण शक्ति बढाने में विशेषतौर पर  उपयोगी होते है।  अंगूर ,खारक ,अंजीर एवं संतरा दिमागी ताकत बढाने के लिये नियमित उपयोग करना चाहिये।



६)  भोजन में कम शर्करा वाले पदार्थ उपयोगी होते हैं। पेय पदार्थों में भी कम ्चीनी का प्रयोग करना चाहिये।इन्सुलीन  हमारे दिमाग को तेज और धारदार बनाये रखने में महती भूमिका रखता है। इसके लिये मछली बहुत अच्छा भोजन है। मछली में उपलब्ध ओमेगा ३ फ़ेट्टी एसीड  स्मरण शक्ति को मजबूती प्रदान करता है।



७)  दालचीनी का पावेडर बनालें। 5 ग्राम पावडर शहद में मिलाकर चाटलें। कमजोर दिमाग की अच्छी दवा है।

८) धनिये का पावडर दो चम्मच शहद में मिलाकर लेने से स्मरण शक्ति बढतीहै।



९)  आंवला का रस एक चम्मच २ चम्मच शहद मे मिलाकर उपयोग करें। भुलक्कड पन में आशातीत लाभ होता है।






१०)  अदरक ,जीरा और मिश्री  तीनों को पीसकर लेने से कम याददाश्त की स्थिति में लाभ होता है।


११)   दूध और शहद मिलाकर पीने से भी याद दाश्त में बढोतरी होती है। विद्ध्यार्थियों के लिये फ़ायदेमंद उपचार है।२५० मिलि गाय के दूध में २ चम्मच शहद मिलाकर उपयोग करना चाहिये।








१२)  तिल में स्मरण शक्ति वृद्दि करने के तत्व हैं। २० ग्राम तिल और थोडा सा गुड का तिलकुट्टा बनाकर नित्य सेवन करना परम हितकार उपचार है।




१३)   काली मिर्च का पावडर एक चम्मच असली घी में मिलाकर उपयोग करने से याद दाश्त में इजाफ़ा होता है।













१४)   गाजर में एन्टी ओक्सीडेंट तत्व होते हैं। इससे रोग प्रतिरक्षा प्राणाली ताकतवर बनती है।  दिमाग की ताकत बढाने के उपाय के तौर पर इसकी अनदेखी नहीं करना चाहिये।








१५)   आम रस (मेंगो जूस) मेमोरी बढाने में विशेष सहायक माना गया है। आम रस में २ चम्मच शहद मिलाकर लेना उचित है।




१६) पौष्टिकता और कम वसा वाले भोजन से  अल्जाईमर्स नामक बीमारी होने का खतरा कम रहता है और दिमाग की शक्ति में इजाफ़ा होता है इसके लिये अपने भोजन में ताजा फ़ल-सब्जियां.मछलियां ,ओलिव आईल आदि प्रचुरता से शामिल करें।

१७) तुलसी के ९ पत्ते ,गुलाब की पंखुरी और काली मिर्च नग एक  खूब चबा -चबाकर खाने से दिमाग के सेल्स को ताकत मिलती है।



१७)   चित्र में प्रदर्शित योगासन करने से भी मेमोरी पावर में  इजाफ़ा  होता है। योग और प्राणायाम की अनदेखी करना ठीक नहीं।