Showing posts with label सूजन और जलन. Show all posts
Showing posts with label सूजन और जलन. Show all posts

26.7.19

पिंपल्स / मुहासे हटाने के घरेलू उपचार // Home Remedies for Pimples / Acne Removal



आजकल त्वचा पर मुंहासे यानी पिंपल निकलने की समस्या बेहद आम हो गई है। खासकर जिनकी त्वचा ऑयली (तैलीय) है, उन्हें पिंपल ज़्यादा परेशान करते हैं।आम तौर पर अधिकतर कील – मुंहासे Teenage तथा युवावस्था में अधिक होते है. अगर एक बार भी किसी के Face पर पिम्पल या एक्ने आने शुरू हो गये तो इन्हें दूर करना काफी मुश्किल लगने लगता है.
मुंहासे क्या हैं?
आमतौर पर जब हमारी त्वचा पर मौजूद तेल ग्रंथियां बैक्टीरिया से संक्रमित हो जाती हैं, तो मुंहासों का जन्म होता है। हथेलियों और तलवों को छोड़कर, ये तेल ग्रंथियां हमारे पूरे शरीर की त्वचा पर मौजूद होती हैं। त्वचा के रोम छिद्र अंदर से इन तेल ग्रंथियों वाली कोशिकाओं से जुड़े होते हैं। यही रोम छिद्र सीबम पैदा करते हैं, जो त्वचा की खूबसूरती और उसके भीतर तेल संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। जब हमारे शरीर में हार्मोनल बदलाव होता है, तो हमारी त्वचा की तेल ग्रंथियों में तेल संतुलन बिगड़ जाता है। इस संतुलन के बिगड़ने की वजह से ही हमारी त्वचा पर मुंहासे नज़र आने लगते हैं।
पिंपल या मुंहासे का होना कोई जानलेवा बीमारी तो नहीं है, फिर भी समय रहते इस बीमारी का इलाज करवा लेना चाहिए। दरअसल, पिंपल अगर ज़्यादा हों और उनका जल्द इलाज न करवाया जाए, तो वे त्वचा पर दाग छोड़ सकते हैं।
पिंपल निकलने का कोई खास लक्षण नहीं होता है। लेकिन, कभी-कभी जहां पिंपल निकलने वाला हो, वहां आपको दर्द महसूस हो सकता है। अगर लगातार कुछ दिनों से आपको पेट से जुड़ी परेशानियां हो रही हों या आप तनाव में हों, तो भी पिंपल हो सकते हैं। सच तो ये है कि पिंपल का होना या न होना, त्वचा और शरीर की बनावट पर निर्भर करता है। इसका कोई निर्धारित लक्षण नहीं होता है।


पिंपल/मुंहासे होने के कारण 

नीचे हम कुछ ऐसी चीज़ों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनकी वजह से पिंपल हो सकते हैं:
1. अनुवांशिकता
पिंपल की समस्या अनुवांशिक हो सकती है। अगर आपके परिवार में किसी को बार-बार पिंपल होते हैं, तो आपको भी पिंपल की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। (1) (3)
2. हार्मोनल बदलाव
बढ़ती उम्र के साथ शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों की वजह से भी पिंपल होते हैं। खासकर महिलाओं को मासिक धर्म, गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति के समय शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों के कारण पिंपल हो सकते हैं। (3)
3. दवाओं के कारण
कभी-कभी तनाव, मिर्गी या मानसिक बीमारी से जुड़ी कुछ दवाओं के सेवन से भी पिंपल निकल सकते हैं। (4)
4. कॉस्मेटिक का ज़्यादा इस्तेमाल
कॉस्मेटिक यानी सौंदर्य प्रसाधनों का ज़रूरत से ज़्यादा इस्तेमाल करने से पिंपल निकल सकते हैं। कई बार महिलाएं पूरे दिन मेकअप में रहती हैं और रात को ठीक से मेकअप नहीं उतारती हैं। इस वजह से भी पिंपल हो सकते हैं। इसलिए, महिलाओं को हल्का मेकअप करने और नेचुरल ब्यूटी प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। (3)
5. खानपान से जुड़ी बुरी आदतें
न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी और द अकादमी ऑफ़ न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स की ओर से प्रकाशित की गई एक रिपोर्ट में बताया गया है कि उच्च ग्लाइसेमिक भोजन, जैसे – बेकरी के खाद्य पदार्थ और हाई शुगर वाले ड्रिंक्स का सेवन करने से भी पिंपल होते हैं। (5) इसके अलावा डेयरी प्रोडक्ट, ऑयली चीज़ें और जंक फ़ूड के ज़्यादा सेवन से भी पिंपल हो सकते हैं।
6. तनाव
ज़्यादा समय तक तनाव में रहने से भी पिंपल की परेशानी हो सकती है। जब आप तनाव में होते हैं तो आपके शरीर के अंदर कुछ बदलाव होते हैं जिस कारण पिंपल हो सकता है। दरअसल, तनाव से न्यूरोपैट्राइड्स नामक रसायन निकलता है जिससे तनाव और भी बढ़ सकता है। (1) (3)
7. बदलता मौसम और प्रदूषण
ज़्यादा समय तक धूल-मिट्टी और प्रदूषित वातावरण में रहने से पिंपल होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा, अगर आप एक शहर से दूसरे शहर तक ज़्यादा आना-जाना करते हैं, तो बदलते मौसम के कारण भी आपको पिंपल हो सकते हैं।
पिंपल्स हटाने के घरेलू उपचार
टूथपेस्ट
अगर आप पिंपल्स व मुंहासों से रातों रात छुटकारा पाना चाहते हैं, तो टूथपेस्ट सबसे बढ़िया घरेलू उपाय है। इसकी मदद से बहुत कम समय में आपके चेहरे से पिंपल से निजात पाई जा सकती है। अच्छी बात यह है, कि टूथपेस्ट हर तरह की पिंपल वाली स्किन पर अपना असर दिखाता है। दरअसल, टूथपेस्ट की एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज उन बैक्टीरिया को खत्म करती हैं, जो पिंपल्स का मुख्य कारण बनते हैं। केवल चेहरे के लिए ही नहीं टूथपेस्ट का उपयोग आप शरीर पर उभरने वाले पिंपल्स के लिए भी कर सकते हैं। नीचे जानते हैं इसे इस्तेमाल करने का तरीका।
सामग्री-
टूथपेस्ट
रूई
पिंपल पर टूथपेस्ट का कैसे करें उपयोग-
चेहरे पर पिंपल हटाने के लिए टूथपेस्ट का उपयोग करना बेहद आसान है। इसके लिए बस आपको रात में रूई में टूथपेस्ट लेकर चेहरे और शरीर के उस हिस्से पर लगाना है, जो पिंपल से प्रभावित है। रातभर इसे ऐसे ही लगा छोड़ दें और सुबह उठने के बाद चेहरा धो लें। बता दें कि पिंपल्स के लिए आपको किसी जेल बेस्ड नहीं बल्कि सफेद टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना है।


मुल्तानी मिट्टी

सामग्री

दो चम्मच मुल्तानी मिट्टी
एक चम्मच गुलाब जल
चार से पांच बूंद नींबू का रस
कैसे तैयार करें?
मुल्तानी मिट्टी, गुलाब जल और नींबू के रस को मिलाकर एक पेस्ट बना लें। आप चाहे तो इसमें थोड़ा पानी भी मिला सकते हैं।
कैसे लगाएं?
हाथ से इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर या सिर्फ़ पिंपल वाली जगह पर लगाएं।
समय
इस पेस्ट को दस से पंद्रह मिनट तक लगाकर रखें फिर पानी से धो लें।
कैसे करता है मदद?
मुल्तानी मिट्टी ना सिर्फ़ त्वचा की गंदगी को बाहर निकालती है, बल्कि त्वचा से बेकार तेल को भी खींच लेती है। साथ ही यह मिट्टी रक्त प्रवाह को बढ़ाती है। यह मिट्टी खासतौर पर तैलीय त्वचा के लिए ज़्यादा फ़ायदेमंद होती है।
अगर आपकी त्वचा रूखी है, तो इस नुस्खे का इस्तेमाल थोड़ा ध्यान से करें। दरअसल, पेस्ट को ज़्यादा देर तक लगाकर रखने से आपकी त्वचा का रूखापन बढ़ सकता है।
सेंधा नमक
सेंधा नमक पिंपल्स के लिए सबसे सस्ता और सरल घरेलू उपाय है। सेंधा नमक स्किन डेड सेल्स को एक्सफोलिएट करके और बैक्टीरिया को मारकर त्वचा की सफाई करता है। इतना ही नहीं यह त्वचा के पीएच लेवल को भी संतुलित रखता है। आप अपने हिप्स और पीठ पर उभरने वाले दर्दनाक मुंहासों से छुटकारा पाने के लिए सेंधा नमक का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल पिंपल व मुंहासों के लिए कैसे करना है, नीचे जानिए।
सामग्री-
1 चम्मच- एप्सम(सेंधा)नमक
1/2 कप- पानी
रूई
पिंपल्स पर सेंधा नमक का इस्तेमाल करने के लिए नमक में पानी घोलें। अब इस नमक के पानी में रूई डुबोकर पिंपल से प्रभावित हिस्सों पर लगा लें। कुछ मिनट के लिए इसे ऐसे ही छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें। रोजाना एक से दो बार इस प्रक्रिया को करने से चेहरे पर दिखने वाले पिंपल बहुत कम हो जाएंगे।
एप्पल साइडर विनेगर
चेहरे पर मौजूद गंदगी के कारण कील मुंहासों की समस्या हो जाती है। अगर इससे निजात पाना चाहते हैं, तो एप्पल साइडर विनेगर सबसे अच्छा घरेलू तरीका है। विनेगर में बहुत हल्के एसिड होते हैं, जो त्वचा पर बार-बार आने वाले तेल को कंट्रोल करते हैं। विनेगर एक रोगाणुरोधी एजेंट भी है, तो आपकी त्वचा को बैक्टीरिया फ्री बनाता है। ऐसे में आप एप्पल साइडर विनेगर का उपयोग करके चेहरे पर दिखने वाले मुंहासों से छुटकारा पा सकते हैं। यह हर मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध है।
सामग्री-
1 चम्मच- पानी1 हिस्सा- सेब साइडर सिरका
कॉटन बॉल
पिंपल्स पर एप्पल साइडर विनगर लगाने की विधि बेहद आसान है। इसे लगाने के लिए एक चम्मच विनेगर को एक चम्मच पानी में मिलाएं। कॉटन बॉल को इस मिश्रण में डुबोएं और प्रभावित हिस्सों पर अप्लाई करें। 5-7 मिनट के लिए ऐसे ही रहने दें और फिर ठंडे पानी से धो लें। सेंसिटिव स्किन के लिए पानी 3 चम्मच तो विनेगर 1 चम्मच लें। इस प्रक्रिया को हफ्ते में रोज करने से पिंपल्स गायब हो जाएंगे।
बेकिंग सोडा
आपकी किचन में मौजूद बेकिंग सोडा पिंपल को रोकने में बहुत मददगार है। बेकिंग सोडा लगाने के बाद पुराने पिंपल भी जड़ से गायब हो जाते हैं, क्योंकि यह त्वचा के पीएच लेवल को संतुलित करता है। इतना ही नहीं यह त्वचा में निखार लाने के साथ मुंहासों के कारण चेहरे पर दिखने वाली सूजन को भी कम करता है। नीचे आप इसका इस्तेमाल करने का तरीका जान सकते हैं।
सामग्री
1 चम्मच- बेकिंग सोडा
पानी
पिंपल व मुहांसों पर बेकिंग सोडा लगाने के लिए पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं और उंगलियों की मदद से इस मिश्रण को प्रभावित हिस्सों पर लगाएं। 5 मिनट तक इसे लगा रहने दें और फिर गुनगुने पानी से धो लें। 5 मिनट से ज्यादा इसे लगा न रहने दें, क्योंकि ऐसा करने से आपकी त्वचा सूखी हो सकती है। अगर जरूरी लगे, तो बेकिंग सोडा लगाने के बाद आप मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
एलोवेरा 
सामग्री
एलोवेरा
कैसे तैयार करें?
इसमें कुछ खास तैयारी की ज़रूरत नहीं पड़ती है। एलोवेरा को जब आप तोड़ेंगे, तो आपको उसके अंदर एक द्रव्य दिखेगा। आपको उसी द्रव्य या जेल का इस्तेमाल करना होता है।
कैसे लगाएं
एलोवेरा से निकले जेल को सीधे पिंपल वाली जगह पर लगाएं।
समय
जेल को दस से पंद्रह मिनट तक पिंपल पर लगा रहने दें और फिर पानी से धो लें।
कैसे करता है मदद?
चेहरे और पीठ पर मौजूद मुंहासों के इलाज के लिए एलोवेरा जेल को मुंहासे वल्गैरिस उपचार में और पूरे चेहरे और पीठ में उपयोग में लाया जाता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एंटीइन्फ़्लैमेट्री गुण त्वचा में होनी वाली सूजन और जलन को कम करते हैं।


नारियल तेल

हार्मोनल परिवर्तन के कारण युवाओं के चेहरे पर मुंहासों की समस्या पैदा हो जाती है। इसके लिए नारियल तेल सबसे अच्छा घरेलू उपचार है, क्योंकि यह त्वचा को कोमल बनाए रखने के लिए इसे हाइड्रेट करता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज के कारण, इसे आजकल मॉइस्चराइजर और लोशन में भी इस्तेमाल किया जाने लगा है। वहीं इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट स्किन सेल्स के पुर्नजन्म में मदद करते हैं। नीचे आप पिंपल्स पर नारियल तेल का उपयोग करने की विधि जान सकते हैं।
सामग्री-
6-7 बूंद नारियल तेल
पिंपल पर नारियल तेल का उपयोग करने के लिए पहले एक कटोरी में तेल लेकर इसे गर्म करें। अब फिंगर टिप्स की मदद से पिंपल वाली जगह पर नारियल तेल लगाएं और सकुर्लर मोशन में मसाज करें। कुछ घंटों के लिए इसे ऐसे ही रहने दें। हर रोज दिन में दो बार पिंपल पर नारियल तेल लगाने से आपके चेहरे के पिंपल पूरी तरह से गायब हो जाएंगे।
लहसुन 
सामग्री
दो से तीन लहसुन की कलियां
पानी
कैसे तैयार करें?
लहसुन की कलियों का पेस्ट बनाकर उसमें थोड़ा-सा पानी मिला लें।
कैसे लगाएं?
इस पेस्ट को सीधे पिंपल के ऊपर लगाएं। इस्तेमाल से पहले लहसुन का रस पानी में पूरी तरह से घुलने दें। इसके बाद ही तैयार हुए पेस्ट को पिंपल पर लगाएं।
समय
पेस्ट को पांच से दस मिनट तक लगा रहने दें और फिर पानी से धो लें।
कैसे करता है मदद?
लहसुन में एलिसिन के एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो मुंहासों के लिए ज़िम्मेदार माने जाने वाले बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं।
हल्दी 
सामग्री
हल्दी पाउडर
पानी
कैसे तैयार करें?
हल्दी में पर्याप्त मात्रा में पानी मिलाकर इसका पेस्ट बना लें।
कैसे लगाएं?
पेस्ट को उंगली से पिंपल पर अच्छी तरह लगाएं।
समय
पेस्ट को सूखने के लिए 10 से 15 मिनट का समय दें और फिर उसे पानी से धो लें।
कैसे करता है मदद?
हल्दी एक एंटीसेप्टिक औषधि है। आमतौर पर त्वचा में संक्रमण होने पर हल्दी के लेप का इस्तेमाल किया जाता है। चूंकि हल्दी त्वचा पर मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया को मारती है और त्वचा की कोशिकाओं को जल्द ठीक करती है। इसलिए यह पिंपल के उपचार में भी कारगर साबित हो सकती है।
गुलाबजल
गुलाबजल में एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो त्वचा पर मौजूद बैक्टीरिया को मार गिराते हैं। गुलाबजल मुंहासों के निशान को ठीक करने और त्वचा को साफ करने में भी मदद करता है। इसके अलावा गुलाबजल में कूलिंग प्रॉपर्टी होती हैं, जो छिद्रों को बंद करने और तेल उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करती हैं । गुलाबजल आमतौर पर टोनर के रूप में भी काम करता है। नीचे इसके इस्तेमाल करने का तरीका आप जान सकते हैं।
सामग्री-
2 चम्मच- ग़ुलाब जल
2 चम्मच- चंदन पाउडर
पिंपल वाली त्वचा पर गुलाबजल लगाने के लिए पहले गुलाबजल और चंदन पाउडर को मिलाकर एक पेस्ट तैयार करें। अब इस पेस्ट को उंगली की मदद से पिंपल वाली जगह पर लगाएं। इसके सूखने का इंतजार करें और फिर पानी से धो लें। इस विधि को आप रोज अपने पिंपल पर ट्राई करें। बहुत जल्द पिंपल हल्के पड़ जाएंगे।
पुरुष ग्रंथि (प्रोस्टेट) बढ़ने से मूत्र - बाधा का अचूक इलाज 

*किडनी फेल(गुर्दे खराब ) रोग की जानकारी और उपचार*

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका के अचूक उपचार 

गुर्दे की पथरी कितनी भी बड़ी हो ,अचूक हर्बल औषधि

पित्त पथरी (gallstone) की अचूक औषधि