Showing posts with label शीर्षासन. Show all posts
Showing posts with label शीर्षासन. Show all posts

20.7.18

याददाश्त ,स्मरणशक्ति तेज करने के उपाय //ways to sharpen memory


                                                                       


   अच्छी और तीव्र स्मरण शक्ति के लिए हमें मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ, सबल और निरोग रहना होगा | जब तक हम पूरी तरह से स्वस्थ और सबल नहीं रहेंगे हमारी स्मरण शक्ति कभी भी तेज नहीं हो सकतीहैं |
ध्यान रहे कि स्मरण शक्ति हमेशा ध्यान और मन की एकाग्रता पर ही निर्भर होती हैं | हम जिस तरफ जितना अधिक ध्यान केन्द्रित करेंगे उस तरफ हमारी विचार शक्ति उतनी ही अधिक तीव्र हो जायेगी | आप जिस भी कार्य पर जितना अधिक तीव्रता और ध्यान के साथ, स्थिरिता के साथ मन लगायेंगे वह चीज उतनी ही जल्दी हमारे मानस पटल पर, हमारे स्मृति पटल पर अंकित हो जायेगा
बाहरी उपचार भी बुद्धि बढ़ाने में बहुत सहायता पहुँचाते देखे गये हैं। कान के ऊपर वाले कोने से लेकर कनपटी तक की जगह के स्नायु बुद्धि धारण करने के काम में अधिक आते हैं। मस्तिष्क के बुद्धिकोषों का पोषण इनके द्वारा होता है। इन स्नायुओं को परिपुष्ट करने के लिए हलकी मालिश करना बहुत मुफीद है। आँवले के तेल से, कान की ऊपर वाली जड़ से लेकर कनपटी तक की जगह की धीरे-धीरे मालिश करनी चाहिए। इसके लिए प्रातःकाल का समय बहुत अच्छा है।



*स्नान करते समय सिर के ऊपर ठंडे जल की धार छोड़ने से भी बड़ा लाभ होता है। नल के नीचे बैठकर सबसे पहले दस पन्द्रह मिनट सिर के ऊपर ही पानी लिया जाय तो बड़ा अच्छा हो। इस समय धीरे-धीरे सिर को मलते जाना चाहिए। दस पन्द्रह मिनट हो जाने के बाद तब हाथ पाँव एवं शरीर के अन्य स्थानों को धोया जाय। इस प्रकार के स्नान से भी मस्तिष्क को बल मिलता है और बुद्धि तीक्ष्ण होती है।
*पढ़ने-लिखने का काम करने वाले सभी लोग प्रायः सिर में तेल डालते हैं। फैशन की दृष्टि से सुगन्धित तेलों का रिवाज भी चल पड़ा है। हर व्यक्ति की यही कोशिश होती है कि वह खुशबूदार तेल बालों में डाले। इसमें कई प्रकार का खतरा भी होता है। मिट्टी के तेलों पर बनी हुई कई तरह की विलायती सुगंधित शीशियाँ बाजार में बिकती हैं, यह हानिकारक हैं। यह बालों की जड़ों को कमजोर करती है और दिमाग को गर्मी पहुँचाती है। चमेली की खुशबू से बाल जल्दी सफेद हो जाते हैं। मूँगफली, महुआ आदि के सस्ते तेलों में रंग और खुशबू मिलाकर जो सुगन्धित तेल बनते हैं वे भी हानि ही पहुँचाते हैं। इसलिए आयुर्वेदिक रीति के अनुसार बने हुए ब्राह्मी या आँवले के तेलों को सिर में डालना चाहिए। शुद्ध सरसों का तेल लाभ की दृष्टि से बहुत ही उपयोगी है।
*जिन्हें खुश्की अधिक रहती है उनके सिर पर खुरट से जमते हैं और सफेद भुसी सी जमा होती रहती है। इसे दूर करने के लिए दही और बेसन से सिर को धोना चाहिए। तेज साबुन, सोडा, खटाई, नमक आदि से सिर धोना हानिकारक है। बिल्कुल बाल न रखना और बहुत बड़े-बड़े केश रखना दोनों ही बातें अहितकर हैं। स्वास्थ्य और सौंदर्य दोनों ही दृष्टि से एक डेढ़ इंच के बाल पर्याप्त हैं। हाँ, जो लोग स्त्रियों की भाँति बालों की सफाई कर पूरा ध्यान दे सकें और उनकी ठीक तरह साज संभाल रखें वे बड़े-बड़े बाल भी रख सकते हैं। कभी-कभी कानों में सरसों का तेल डालना भी उचित है। कानों का भीतरी छिद्र मस्तिष्क तक असर पहुँचाता है और शीतलता एवं पोषण प्रदान करता है। शीर्षासन का व्यायाम मस्तिष्क को पुष्ट करने वाला माना जाता है।
*प्रातःकाल सूर्योदय से घंटा भर पूर्व उठना और नित्यकर्म से निवृत्त होकर हरे भरे शुद्ध वायु के स्थानों में टहलने जाना, बुद्धि को बढ़ाता है। वह बात परीक्षा द्वारा सिद्ध हो चुकी है कि जो लोग बहुत देर में सो कर उठते हैं धूप चढ़े तक चारपाई पर पड़े रहते हैं उनकी बुद्धि मन्द हो जाती है। आपको ऐसा एक भी तीक्ष्ण बुद्धि वाला मनुष्य न मिलेगा जो प्रातःकाल जल्दी ही सो कर न उठ बैठता हो।
*आहार-विहार को ठीक रखना, बुद्धिजीवी मनुष्यों के लिए आवश्यक है। गरम, तीक्ष्ण, रूखी, गरिष्ठ, बासी और मादक वस्तुएं पेट को खराब करती हैं। इनसे हाजमा बिगड़ता है और खून खराब होकर मस्तिष्क में अनावश्यक उष्णता पहुँचती है। अधिक मिर्च मसाले चाट, पकौड़ियाँ, मिठाइयाँ, तले हुए पदार्थ, माँस-मदिरा आदि न तो अच्छी तरह हजम ही होते हैं और न मस्तिष्क को पुष्ट करने लायक शुद्ध रस ही बनाते हैं। इसलिए इनको त्याग देना चाहिए। सादा ताजा, हलका और पौष्टिक भोजन ही सेवनीय है। घी, दूध, फल, मेवे, तरकारियों की मात्रा अधिक होनी चाहिए। जल्दी सोना और जल्दी उठना आवश्यक है। ब्रह्मचर्य की ओर विशेष ध्यान रहना चाहिए। वीर्यपात तभी किया जाय जब उसका पूरा औचित्य दिखाई पड़ता हो वैसा किये बिना हानि की संभावना है। आहार-विहार की उत्तमता का मस्तिष्क पर असर पड़ता है। सात्विक जीवन व्यतीत करने वालों की बुद्धि सदा तीव्र रहेगी और स्मरण शक्ति आदि सब शक्तियाँ ठीक प्रकार काम करती रहेंगी।
*मस्तिष्क को पुष्ट करने के लिए अनेक प्रकार की औषधियाँ बाजार में बिकती हैं। कई प्रकार के पाक और चूर्ण सेवन किये जाते हैं। परन्तु इस जमाने में जब कि लोग सस्ती, खराब और अंटशंट चीजें डालकर नकली दवाएं बेचकर अधिक धन कमाने की कला में अधिक चतुर होते जाते हैं, यह विश्वास करना कठिन है कि कौन सी दवा हितकर होगी। हर एक की परीक्षा करके मत स्थिर करना तो बड़ा कठिन है।


अक्‍सर कहा जाता है कि अधिक उम्र में स्मरणशक्ति साथ नहीं देती है। एक शोध में कहा गया है कि दिमाग के पास इस्‍तेमाल करने के लिए जब ज्यादा ऊर्जा होगी तो वह अधिक सक्रियता से काम करेगा। विशेषज्ञों का कहना है कि 65 साल से अधिक उम्र के लोग की याद्दाश्‍त भी काफी अच्छी हो सकती है


याद शक्ति को बढ़ाने के कारगर और आसान तरीके:

1). सौंफ को मोटा कूट कर उसे छान लें और इसे एक-एक चम्मच सुबह शाम दो बार पानी या दूध के साथ फंकी लें।
2) जीरा, अदरक, और मिश्री को पीसकर उसका पेस्ट बनाकर खाने से याददाशत की कमजोरी दूर होती है।
3) गुलकन्द को रोज दिन में दो से तीन बार खाने से स्मरण शक्ति को लाभ मिलता है।
4) शहद में 10 ग्राम दालचीनी को मिलाकर चाटने से दिमाग तेज होता है।
5) 6 से 7 काली मिर्च में 25 से 30 ग्राम मक्खन और शक्कर मिलाकर रोज खाने से दिमाग तेज होता है और भूलने की बीमारी दूर होती है।

दालचीनी के अद्भुत फायदे

6) गेहूं के पौधे जवारे का रस कुछ दिनों तक रोज पीने से भूलने की बीमारी दूर होती है
7) गाय के घी से सिर पर कुछ दिनों तक मालिश करने से आपकी याद शक्ति बढ़ती है।
8) यदि आप अखरोट खाते हैं तो भी आपकी याददाश्त बढ़ती है। 10 ग्राम किशमिश के साथ 20 ग्राम अखरोट खायें। इससे मानसिक तनाव भी दूर होता है।
9) गाजर का हलुआ खाते रहने से दिमाग की कमजोरी दूर होती है।
10). सुबह खाली पेट आंवले का मुरब्बा खाने से दिमागी विकार दूर होता है।
11) रात को 10 बादामों को पानी में भिगोकर सुबह उनका छिलका उतार लें और इसे 10 ग्राम मक्खन और मिश्री के साथ मिलाकर कुछ दिनों तक खाने से दिमाग की शक्ति बढ़ती है।
12) रात को उड़द की दाल को भिगोकर सुबह पीस लें और इसे दूध और मिश्री के साथ खायें। एैसा करने से दिमाग तेज होता है।
*एक गाजर लें और लगभग 50-60 ग्राम पत्ता गोभी अर्थात 10-12 पत्ते पत्ता गोभी के अच्छी तरह से काटकर एक प्लेट में रख लें और इस पर हरी धनिया काटकर डाल दें , फिर उसके ऊपर से सेंधा नमक, काली मिर्च कर चूर्ण और नीम्बू का रस डाल कर अच्छी तरह से मिला लें फिर इसे नास्ते में खाए, खूब चबाकर कर खाए और भोजन के साथ एक गिलास छाछ भी पिया करें |



शुक्राणुओ में वृद्धि करने के रामबाण उपाय


ऐसा करने से आपकी स्मरणशक्ति बहुत अधिक बढ़ेगी, और इसका असर आपको बहुत ही जल्द देखने को मिलेगा |
आवश्यक सामग्री – शंखावली (शंखपुष्पी) को अच्छी तरह से कूट-पीसकर एक शीशी में भर कर रख ले I 2 बादाम, खरबूजा, तरबूज, पतली ककड़ी, खीरा इन सभी के बीज 5-5 ग्राम लें साथ में 2 पिस्ता, 1छुहारा, 4 छोटी इलायची, 5 ग्राम सौंफ, 1 चमच्च मक्खन, 1 गिलास दूध ले |
विधि – रात में बादाम, पिस्ता, छुहारा और चारों फलों के बीजों को 1 कप पानी में डालकर रख दें I प्रातःकाल बादाम को 2-4 बूँद पानी में छिलका हटाकर अच्छी तरह से घिस लें और उस लेप को कटोरी में रख लें I फिर बाकी बचे पिस्ता, इलायची के दानों व छुहारे को बारीक काट कर पीस लें और फिर उसे भी बादाम के लेप में मिला लें और चारों बीज भी उसमें ही डाल लें I अब इन्हें खूब अच्छी तरह से चबा-चबा कर खा लें उसके बाद 3 ग्राम शंखावली के महीन चूर्ण को मक्खन में मिलाकर कर चाट लें और ऊपर से एक गिलास गुनगुना दूध धीरे-धीरे पी लें . अंत में बचे हुए सौंफ को मुंह में डालकर धीरे-धीरे 15-20 मिनट तक चूस ले और फिर उसे चबा ले I
लाभ – यह प्रयोग करने से आपके दिमाग की ताकत, तरावट और स्मरण शक्ति को बढाने के लिए बहुत ही बेजोड़ उपाय हैं | साथ ही साथ यह शरीर में शक्ति और स्फूर्ति भी पैदा करता हैं I इसे लगातार 40 दिनों तक प्रतिदिन सुबह नित्यकर्मों से निवृत होकर खाली पेट प्रयोग में लाने से आपको चमत्कारिक लाभ देखने को मिल सकते हैं |

कालमेघ के उपयोग ,फायदे

पढ़ते समय सावधानी बरतें –
पढ़ते समय आप हमेशा ध्यान रखे कि आपकी कमर झुकी हुई नहीं होनी चाहिए या फिर आप कभी लेट कर या फिर झुक कर अगर पढने की सोच रहे हैं या फिर आप अगर ऐसा कर रहे हैं तो यह बहुत ही गलत हैं |
अगर आप रात के 9 बजे के बाद भी पढ़ रहे हैं या फिर आपको देर रात तक पढ़ना पड़ता हैं तो आप हर आधे घंटे पर आधा –आधा गिलास ठंडा पानी पीते रहे हैं इससे रात में जागने के कारण होने वाला वात प्रकोप नहीं होगा .| वैसे तो कहा जाता हैं कि रात में 11 बजे से पहले सो जाना चाहिए और सुबह जल्दी उठकर पढायी करनी चाहिए |
पढ़ते समय आलस्य लगने पर चाय या फिर सिगरेट का सेवन कभी न करें यह थोड़ी देर के आलस्य को भगाने के लिए आपको जीवन भर के लिए दिक्कत दे सकती हैं|
*धार्मिक उपायों में ज्ञान, बुद्धि, विद्या, वाणी और कला की देवी मां सरस्वती की उपासना न केवल मानसिक शक्ति को मजबूत बनाने वाली, बल्कि उसके बूते मिली दक्षता, निर्णय क्षमता व कला सफलता की नई-नई ऊंचाईयों पर ले जाने वाली मानी गई है।
*देवी पूजा के विशेष दिन शुक्रवार को माता सरस्वती की उपासना बहुत शुभ मानी गई है। बुद्धि और सफलता की कामना से हर सुबह भी एक विशेष व छोटा-सा मंत्र द्वारा माता सरस्वती का ध्यान बड़ा मंगलकारी सिद्ध होता है। प्रस्तुत है वह मंत्र और पूजा उपाय –
* सुबह स्नान के बाद सफेद वस्त्र पहन माता सरस्वती की प्रतिमा या तस्वीर की केसरिया या सफेद चंदन, अक्षत, केसरिया या पीले फूल माता सरस्वती को अर्पित करें।

सोरायसिस(छाल रोग) के आयुर्वेदिक उपचार 

* माता को दूध की खीर, तिल्ली या सूखे मेवों से बने पकवानों का भोग लगाएं। सुगंधित धूप व दीप जलाकर महासरस्वती के नीचे लिखे बीज मंत्र ‘ऐं’ युक्त इस असरदार मंत्र को आसन पर बैठकर यथाशक्ति अधिक से अधिक बार तुलसी या चंदन की माला से बुद्धि व विवेक से सफलता की कामना के साथ करें –

ॐ ऐं नम:

*पूजा व मंत्र जप के बाद आरती कर देवी को चढ़ाया प्रसाद स्वयं व परिजनों का खिलाएं।
*ब्रिटेन की यूनीवर्सिटी ऑफ वारविक में हुए अध्‍ययन में कहा गया है कि याद रखने की ताकत बढ़ाने में एक चम्‍मच चीनी मददगार हो सकती है। इससे लोगों को मूड सुधरता है और दिमाग अधिक ताजगी के साथ काम करने लगता है। उम्र चाहे कितनी भी हो, मीठा ड्रिंक पीने के बाद लोग पहले से ज्‍यादा ऊर्जावान, खुश और अच्‍छी याद्दाश्‍त का अनुभव करते हैं। विशेषज्ञों का दावा है कि एक चम्‍मच चीनी के बराबर मीठा खाने से उनका आत्‍म विश्‍वास बढ़ता है, जिससे व्‍यक्‍ति दिमागी रूप से मजबूत होता है।
    शोधकर्ताओं का दावा है कि इस अध्‍ययन से अधिक उम्र में खानपान के तौर-तरीकों को नए तरह से समझने में मदद मिलेगी। विशेषज्ञों का कहना है कि अधिक उम्र में ज्यादा जोश से अपना काम करने के लिए प्रेरणा की जरूरत होती है, जो कम समय के लिए ब्‍लड शुगर का स्‍तर बढ़ने से प्रेरणा मिल सकती है। इस काम में एक चम्‍मच चीनी के बराबर मीठा पेय अच्छा रहता है।

*किडनी फेल रोग का अचूक इलाज* 

इस अध्‍ययन के लिए विशेषज्ञों ने लोगों को कम मात्रा में ग्‍लूकोज या शक्‍कर वाला पेय पीने को दिया। 65 साल से अधिक उम्र के लोगों ने चीनी पीने के बाद जोश, याद्दाश्‍त और प्रदर्शन में बेहतरी महसूस की, जबकि आर्टिफीशियल स्‍वीटनर लेने वालों के साथ ऐसा नहीं हुआ। 18 से 27 साल की उम्र के लोगों ने भी चीनी या ग्‍लूकोज वाला पेय पीने के बाद जोश, याद्दाश्‍त और प्रर्दशन में इजाफा महसूस किया।
शोधकर्ताओं का कहना है कि अधिक उम्र में मुश्‍किल काम में दिमाग लगाने से उसकी ताकत बढ़ती है। उम्रदराज लोगों में मुश्‍किल कामों की चुनौती लेने के लिए प्रेरित करने में चीनी काफी मददगार हो सकती है। यह अध्‍ययन साइकोलॉजी एंड एजिंग जर्नल में प्रकाशित हो चुका है।

संगृहणी(बार बार दस्त आना) के आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक उपचार

जोड़ों और हड्डियों में दर्द के कारण, लक्षण और उपचार

लंबाई बढ़ाने के जबर्दस्त उपाय

गर्दन के दर्द के घरेलू उपाय