Showing posts with label मूर्छा (बेहोशी) के के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार. Show all posts
Showing posts with label मूर्छा (बेहोशी) के के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार. Show all posts

3.8.18

मूर्छा (बेहोशी) के के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार -डॉ॰आलोक



  शरीर के किसी भी अंग में गड़बड़ी के कारण मूर्च्छा या बेहोशी आ सकती है। अर्थात इस बीमारी के होने के कई पहलू हो सकते है। वैसे दिमाग की चेतन अवस्था शून्य होने के कारण मूर्च्छा या बेहोशी आ सकती है। हालाँकि दिमागी चेतन शून्यता शरीर में होने वाली बहुत सारी दिक्कतों के वजह से होती है।
मानव शरीर का दिमाग एक ब्रम्हांड से कम नही होता है। इसमे न जाने कितनी सारी नशों का तार बिछा होता है। किसी मानसिक समस्या के चलते किसी भी एक नश में खून के बहाव के रुकने से मूर्च्छा या बेहोशी आ सकती है। तथा किसी नश के फटने के कारण ज्यादा खून बह जाने से भी बेहोशी आ जाती है।
मूर्च्छा या बेहोशी का कारण-
ज्यादा मानसिक तनाव के कारण।
असहनीय प्रबल दवाईयों के सेवन के कारण।
स्त्रियों के मासिक धर्म रुकने के कारण।
अत्यधिक नशा के सेवन के कारण।
ह्रदय कमजोरी के कारण।
शारीरिक कमज़ोरी के वज़ह से।
अकस्मात शोक के कारण।
अत्यधिक चिन्ता के कारण।
मूर्च्छा या बेहोशी के लक्षण-
चक्कर आना।

आँखों के सामने धुधुलापन महसूस होना। यानि दृष्टि विहीन होना।
ज्यादा बेचैनी महसूस होना।
काली मिर्च को बारीक पीसकर नाक में डालकर फूँक मारें। मूर्छा खत्म हो जाता है।
काली मिर्च, नमक, शहद और मैनसिल एक साथ मिलाकर बारीक पीसकर काजल की तरह आँखों में लगाने से बेहोशी दूर हो जाती है।

कपूर, चुना और नौसादर इन तीनों को बारीक़ पिसकर मूर्छित व्यक्ति को सुंघाने से बेहोशी ठीक हो जाती है।
अचानक ज्यादा थकावट लगना।
रामबाण घरेलु जड़ी-बूटी उपचार


नाक में लोबान  की धुँआ देने से मूर्च्छा ठीक हो जाता है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा उपचार
” अश्वगंधारिष्ट ” रोजाना सुबह शाम खाना खाने के बाद 25-30 मिलीग्राम समान मात्रा में पानी के साथ लेने से, बार-बार आने वाली मूर्च्छा और बेहोशी से छूटकारा मिल जायेगा।
रोजाना ” मांस्यादि क्वाथ ” के सेवन से मूर्च्छा और बेहोशी में फायदा मिलता है।
शरीर के किसी भी अंग में गड़बड़ी के कारण मूर्च्छा या बेहोशी आ सकती है। अर्थात इस बीमारी के होने के कई पहलू हो सकते है। वैसे दिमाग की चेतन अवस्था शून्य होने के कारण मूर्च्छा या बेहोशी आ सकती है। हालाँकि दिमागी चेतन शून्यता शरीर में होने वाली बहुत सारी दिक्कतों के वजह से होती है।
मानव शरीर का दिमाग एक ब्रम्हांड से कम नही होता है। इसमे न जाने कितनी सारी नशों का तार बिछा होता है। किसी मानसिक समस्या के चलते किसी भी एक नश में खून के बहाव के रुकने से मूर्च्छा या बेहोशी आ सकती है। तथा किसी नश के फटने के कारण ज्यादा खून बह जाने से भी बेहोशी आ जाती है।
मूर्च्छा या बेहोशी का कारण
ज्यादा मानसिक तनाव के कारण।
असहनीय प्रबल दवाईयों के सेवन के कारण।
स्त्रियों के मासिक धर्म रुकने के कारण।
अत्यधिक नशा के सेवन के कारण।
ह्रदय कमजोरी के कारण।
शारीरिक कमज़ोरी के वज़ह से।
अकस्मात शोक के कारण।
अत्यधिक चिन्ता के कारण।
रामबाण घरेलु जड़ी-बूटी उपचार
नाक में लोबान (Frankincense) की धुँआ देने से मूर्च्छा ठीक हो जाता है।
काली मिर्च को बारीक पीसकर नाक में डालकर फूँक मारें। मूर्छा खत्म हो जाता है।
काली मिर्च, नमक, शहद और मैनसिल एक साथ मिलाकर बारीक पीसकर काजल की तरह आँखों में लगाने से बेहोशी दूर हो जाती है।
कपूर, चुना और नौसादर इन तीनों को बारीक़ पिसकर मूर्छित व्यक्ति को सुंघाने से बेहोशी ठीक हो जाती है।
आयुर्वेदिक चिकित्सा उपचार
अश्वगंधारिष्ट ” रोजाना सुबह शाम खाना खाने के बाद 25-30 मिलीग्राम समान मात्रा में पानी के साथ लेने से, बार-बार आने वाली मूर्च्छा और
 और बेहोशी में फायदा मिलता है।बेहोशी से छूटकारा मिल जायेगा


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की अमृत औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार