Showing posts with label घमरा के औषधीय गुण. Show all posts
Showing posts with label घमरा के औषधीय गुण. Show all posts

19.8.19

घमरा के औषधीय गुण -डॉ॰आलोक



घमरा (Tridax procumbens) का पौधा भारतीय पारंपरिक चिकित्‍सा में प्रयोग किया जाने वाला एक औषधीय पौधा है। घमरा का पौधा विशेष रूप से एक खरपतवार है। लेकिन घमरा के औषधीय गुणों के कारण इसका उपयोग औषधीय प्रयोजनों के लिए किया जाता है। घमरा का प्रयोग कुछ सामान्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। आप घमरा के लाभ सूजन दूर करने, घावों का उपचार करने, संक्रमण को रोकने आदि के लिए कर सकते हैं। घमरा का उपयोग कई प्रकार से किया जाता है जैसे घमरा को पीस कर इसका रस निकालना या पेस्‍ट का उपयोग करना। इसके अलावा घमरा का तेल भी निकाला जाता है जो हमारे कई उपयोगों में आता है।
घमरा जिसे ट्राइडैक्‍स प्रोकम्‍बेन्‍स (Tridax procumbens) के नाम से जाना जाता है। यह व्‍यापक रूप से फैली हुई पर्णपाती जड़ी बूटी है। यह एक खरपतवार है जिसकी प्रकृति बारहमासी होती है। अपने औषधीय गुणों के कारण इस जड़ी बूटी का व्‍यापक उपयोग किया जा रहा है। इस पौधे की पत्तियों और इनसे निकाले गए अर्क में औषधीय गुण होते हैं। घमरा को आमतौर पर कोटबुटन (coatbuttons) या ट्राइडैक्स डेज़ी (tridax daisy) के रूप में जाना जाता है, डेज़ी परिवार में फूलों के पौधे की एक प्रजाति है।
घमरा का पौधा एक बारहमासी जड़ी बूटी और खरपतवार दोनों ही है। इसका पौधा लगभग वेल या लता की तरह फैलता है जिसकी ऊंचाई 30 से 50 सेंटी मीटर तक हो सकती है। यह पौधा कई शाखाओं में बटा होता है जिन पर छोटे-छोटे कांटेदार रूए होते हैं। इसकी पत्तियां मोटी, दानेदार और अंडाकार होती हैं जिनके किनारे नुकीले होते हैं। घमरा की पत्तियों की दोनों सतहों में रूएदार बाल होते हैं। घमरा के फूल पीले या सफेद होते हैं। इसके फल भी कठोर बालों से ढ़के होते हैं। घमरा का पौधा आपको विशेष रूप से खेतों, बेकार पड़ी पथरीली जमीनों या सड़क के किनारे देखने को मिल सकते हैं। आइए जाने घमरा में पाए जाने वाले पोषक तत्व क्‍या हैं।


घमरा का उपयोग औषधीय प्रयोजनो के लिए प्राचीन समय से किया जा रहा है। क्‍योंकि घमरा का पौधा कई पोषक तत्वों से भरपूर है। घमरा के पौधे में अल्‍कलॉइड, स्‍टेरॉयड, कैरोटीनॉइड, फ्लेवोनाइड्स जैसे कैटेचिन, सेंटाओरीन और बेरेगेन्‍स आदि होते हैं। इसके अलावा फैटी एसिड, फाइटोस्‍टेरॉल, टैनिन और अन्‍य खनिज पदार्थ भी इसमें अच्‍छी मात्रा में होते हैं। घमरा के पौधे का उपयोग मधुमेह, गठिया आदि के इलाज के लिए किया जाता है क्‍योंकि घमरा में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण भी होते हैं।

भारत में घमरा का उपयोग परंपरागत रूप से घाव भरने के लिए किया जाता है। घमरा में थक्‍कारोधी (anticoagulant), एंटीफंगल और कीट के जहर (insect repellent) को दूर करने वाले गुण होते हैं। घमरा की पत्तियों से प्राप्‍त रस को सीधे ही घाव के ऊपर लगाया जाता है। औषधीय गुणों के कारण घमरा की पत्तियों और इससे प्राप्‍त रस का उपयोग कई प्रकार के त्‍वचा संक्रमणों को दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है। इसके अलावा घमरा का उपयोग यकृत विकारों, हेपेटोप्रोटेक्‍शन (hepatoprotection), गैस्‍ट्राइटिस (gastritis) और पेट की जलन(heartburn) आदि के आयुवेर्दिक इलाज में किया जाता है। घमरा (ट्राइडैक्स प्रमोम्बेंस) का उपयोग भारत के कुछ हिस्सों में स्थानीय उपचारकर्ताओं द्वारा फोड़े, फुंसियों और कट के उपचार के रूप में भी किया जाता है।
विषाक्‍तता को दूर करने के लिए
आप अपने शरीर में मौजूद विषाक्‍तता को दूर करने के लिए घमारा का उपयोग कर सकते हैं। हमारे शरीर में यकृत प्रमुख विषहरण अंग है। हमारे लिवर में डिटॉक्सिफिकेशन मैकेनिज्‍म में एंजाइम होते हैं। शरीर में किसी प्रकार की चोट या विषाक्‍तता होने के दौरान एंजाइम को रक्‍त में प्र‍वाहित किया जाता है। घमरा में इन एंजाइमों को उत्‍तेजित करने और इन्‍हें बढ़ाने में सहायक होता है। एक पशु अध्‍ययन से पता चलता है कि यह शरीर में मौजूद विषाक्‍तता को प्रभावी तरीके से कम कर सकता है।
कैंसर से बचाये
घमरा की पत्तियों में मौजूद आवश्‍यक तेल की मौजूदगी के कारण घमरा पौधे का जलीय अर्क कैंसर कोशिकाओं को रोकने में सहायक होता है। नियमित रूप से उपयोग करने पर यह फेफड़ों के कैंसर के विकास पर एंटी-मेटास्‍टेटिक (anti-metastatic) गतिविधि दिखाते हैं। जो कि शरीर के वजन, डब्‍ल्‍यूबीसी और हीमोग्‍लोबिन की संख्‍या में वृद्धिकरते हैं। इसके अलावा घमरा के पौधे में मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट भी शरीर की कोशिकाओं को कैंसर कोशिकाओं से बचाने में सहायक होते हैं।


उच्‍च रक्‍तचाप के लिए

उच्‍च रक्‍तचाप भी एक गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या है। लेकिन घमरा के पौधे का उपयोग कर आप इसके लक्षणों को कम कर सकते हैं। उच्‍च रक्‍तचाप हृदय, कोरोनरी धमनी रोग, मायोकार्डियल रोधगलन और कंजेस्टिव हार्ट फेल जैसी समस्‍याओं का कारण बन सकता है। लेकिन इन समस्याओं से बचने के लिए आप घमरा के अर्क का सेवन कर सकते हैं। यह उच्‍च रक्‍तचाप के लक्षणों को कम करने में सहायक होता है।
घाव का इलाज करे
घमरा की पत्तियों के रस का पारंपरिक रूप से घावों का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है। घमरा के औषधीय गुण और पोषक तत्‍व रक्‍तस्राव को रोकने और उपचार प्रक्रिया को बढ़ाने में सहायक होते हैं। यदि आप भी घाव या चोट के जख्‍म को ठीक करना चाहते हैं तो घमरा का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप घमरा पौधे के रस को सीधे ही घाव पर लगाएं। ऐसा करने से चोट या घाव से रक्‍तस्राव को रोका जा सकता है। साथ ही यह घाव को ठीक करने की प्रक्रिया को तेज करता है। घमरा पौधे के गुण त्‍वचा संक्रमण को भी भी प्रभावी रूप से दूर कर सकते हैं।
सूजन दूर करे
घमरा एक औषधीय जड़ी बूटी है जो कई प्रकार की शारीरिक समस्‍याओं को दूर कर सकती है। अपने औषधीय गुणों के कारण घमरा का उपयोग सूजन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए किया जा सकता है। इसमें मौजूद सूजन विरोधी गुण चोट की सूजन, कब्‍ज से होने वाले दर्द आदि को कम करने में सहायक होते हैं। आप भी इस प्रकार की समस्‍याओं से बचने के लिए घमरा का उपयोग कर सकते हैं।
गठिया का उपाय
गठिया एक दर्द और सूजन वाली समस्‍या है जो कि बहुत ही कष्‍टदायक होती है। इस बीमारी के दौरान शरीर के जोड़ों में सूजन और दर्द बना रहता है। लेकिन इस प्रकार की समस्‍या को दूर करने में घमरा का उपयोग किया जा सकता है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि नियमित रूप से गठिया के दर्द प्रभावित जगह पर घमरा के तेल से मालिश करने पर यह दर्द और सूजन को दूर कर सकता है। घमरा में ऐसे घटक होते हैं जो सूजन प्रभावित कोशिकाओं को आराम दिलाने और दर्द को कम करने में सहायक होते हैं। आप भी गठिया रोगी के दर्द और सूजन का इलाज करने के लिए घमरा का तेल या घमरा की पत्तियों के पेस्‍ट का उपयोग कर सकते हैं।


घमरा का अर्क मधुमेह को रोके

मधुमेह रोगियों के लिए घमरा के पौधे का अर्क बहुत ही फायदेमंद होता है। घमरा के पौधे में एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं। अध्‍ययनों से पता चलता है कि नियमित रूप से 7 दिनों तक घमरा के अर्क का सेवन करने से शरीर में रक्‍त शर्करा के स्‍तर को कम करने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा यह शरीर में इंसुलिन उत्‍पादन को भी सक्रिय करता है जो रक्‍त शर्करा के स्‍तर को बढ़ने से रोकता है। यदि आप भी डायबिटिक रोगी हैं तो घमरा के अर्क का सेवन कर सकते हैं। यह आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।
संक्रमण से बचाये
औषधीय जड़ी बूटी घमरा में एंटी बैक्‍टीरियल गुण होते हैं जो हमें संक्रमण से बचाने में सहायक होते हैं। नियमित रूप से घमरा के अर्क का उपयोग कर आप जीवाणु संक्रमण के पेचिश, दस्‍त और आंतों संबंधी विकारों को दूर कर सकते हैं। घमरा के पौधे में सक्रिय घटक जैसे टैनिन, फलेवोनाइड्स एथिल एस्‍टर और अन्‍य घटक होते हैं। ये सभी घटक शरीर में मौजूद संक्रमण को रोकने और उन्‍हें फैलने से बचाते हैं। यदि आप भी इसी तरह के किसी संक्रमण का इलाज करना चाहते हैं तो घमरा के पौधे का उपयोग कर सकते हैं।
सावधानी-
घमरा एक औषधीय पौधा है जिसका उपयोग कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए किया जाता है। लेकिन कुछ परिस्थितियों में घमरा का उपयोग करने के नुकसान भी हो सकते हैं।
कुछ लोगों को घमरा का उपयोग करने पर एलर्जी हो सकती है। जिससे त्‍वचा में खुजली, चकते या जलन हो सकती है।
अधिक मात्रा में घमरा के अर्क का सेवन करने से उल्टी, मतली और दस्‍त आदि की समस्‍या भी हो सकती है।
मधुमेह रोगियों को घमरा के अर्क का बहुत ही सीमित मात्रा में करना चाहिए। अन्‍यथा शरीर में रक्‍त शर्करा का स्‍तर बहुत नीचे जा सकता है जो हानिकारक होता है।
गर्भवती महिलाओं और स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए यह सुरक्षित है या नहीं इस पर शोध चल रहे हैं। इसलिए इन महिलाओं को भी घमरा के अर्क का सेवन करने से बचना चाहिए।
यदि आप किसी विशेष प्रकार की दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो घमरा या इससे बने अन्‍य उत्‍पादों का सेवन करने से पहले अपने डॉक्‍टर से सलाह लें।

पित्त पथरी (gallstone) के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार 

किडनी निष्क्रियता की हर्बल अमृत  औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि