Showing posts with label आर्थराईटीज़(संधिवात) रोगी का आहार. Show all posts
Showing posts with label आर्थराईटीज़(संधिवात) रोगी का आहार. Show all posts

11.3.18

आर्थराईटीज़(संधिवात) रोग मे क्या खाएं क्या न खाएं -डॉ॰आलोक


आर्थराइटिस के दर्द को बढ़ाने वाले आहार

 आर्थराइटिस की चपेट में आज हर उम्र के लोग आ रहे हैं खास कर युवा अर्थराइटिस यानि गठिया या जोड़ो की बीमारी है। जब आपको चलने – फिरने में तकलीफ होने लगे, सो कर उठने पर या सीढियाँ चढ़ने पर जोड़ों में दर्द हो, तो एक ही बीमारी का अंदेशा होता है वह है अर्थराइिटस। यह बीमारी पहले 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को अधिक होती थी लेकिन बदलती जीवन शैली के कारण उम्र का कोई बंधन नहीं रहा । अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ाने या इस बीमारी में आहार का बहुत योगदान है हम आज आपको ऐसे ही कुछ खाद्य पदार्थ के बारे में बता रहे हैं जिनकी वजह से अर्थराइटिस का दर्द बढ़ता है और कम होता है ।
*मीठा खाद्य-पदार्थ का सेवन अधिक करना :-यदि आप अपने दैनिक जीवन में मीठा ज्यादा खाते हैं तो मीठा आपके शरीर में प्रोटीन्‍स का ह्रास करता है। जिस कारण आपके शरीर में गठिया का दर्द बढ़ने लगता है। इसलिए आपको अपने डाइट चार्ट में से शुगर और शुगर वाले आहार को निकाल दीजिए। यह आपके शरीर में अर्थराइटिस की बीमारी को कम नहीं होने देगा|
*ढूध वाले खाद्य पदार्थ :-ढूध से बने खाद्य-पदार्थ भी आर्थराइटिस की बीमारी को बढ़ा सकते हैं। क्‍योंकि ढूध वाले उत्‍पाद जैसे, पनीर, मखन आदि में कुछ प्रोटीन होते हैं जो जोड़ों के पास मौजूद ऊतकों को प्रभावित करते हैं, जिसकी वजह से जोड़ों का दर्द बढ़ जाता है। इसलिए ढूध वाले पदार्थ को खाने से बचना चाहिये ।
*सॉफ्ट ड्रिंक और अल्कोहल (शराब) :- अर्थराइटिस के मरीजों को शराब और साफ्ट ड्रिंक आदि के सेवन से बचना चाहिए। अल्कोहल शरीर में यूरिक एसिड को बढ़ाता है और तो और शरीर में से गैर जरूरी तत्व भी शरीर में से नहीं निकलने देता । इसी तरह सॉफ्ट ड्रिंक खासकर मीठे पेय या फ्रूट जूस पैकिंग वाले खाद्य-पदार्थ में फ्रेक्टोस नामक तत्व होता है, जो हमारे शरीर में यूरिक एसिड को बढ़ाने में मदद करता है।     
2015 में एक शोध से यह बात साबित हुई थी कि जिन लोगों के खाद्य-पदार्थ में फ्रक्टोस वाली चीजों का सेवन अधिक होता है उनमें आर्थराइटिस होने का खतरा दो से तीन गुना तक अधिक हो जाता है।
*टमाटर खाने से बचें :- टमाटर को विटामिन और मिनरल का स्त्रोत माना जाता है और ये शरीर को फायदा भी पहुंचाता है लेकिन यह अर्थराइटिस के दर्द को बढ़ाता भी है। टमाटर में कुछ ऐसे रासायनिक तत्व पाये जाते हैं जो जोड़ों में सूजन बढ़ाकर दर्द पैदा करते हैं। इसलिए टमाटर खाने से बचना चाहिये
आर्थराइटिस के दर्द से मुक्ति देने वाले खाद्य पदार्थ




*हल्‍दी : हल्‍दी का सेवन करने से जोड़ों के दर्द और सूजन में कमी आती है 
* लहसुन को अपने भोजन में जरुर शामिल करें ये खून को साफ़ करता है.आर्थराइटिस के कारण खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है. लहसुन के रस से यूरिक एसिड पिघल कर तरल रूप में पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाता है|

हाथ पैर और शरीर का कांपना कारण और उपचार

* ग्रीन टी: दिन में एक बार ग्रीन टी का सेवन जरुर करें क्योंकि इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट होता है जो दर्द का पता ही नहीं चलने देता उसे वहीँ दबा देता है।
*कद्दू जरुर खाएं -कद्दू में काफी मात्रा में कैरोटीन होता है जो जोड़ों के सूजन को काफी हद तक कम करता है।
* Vitamin C: अपने दैनिक जीवन के भोजन में विटामिन सी वाले खाद्य पदार्थ जरुर लें विटामिन सी वाले खाद्य पदार्थ में स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक कोलाजिन होता है। जो हड्डियां को मजबूत बनाता हैं।
*प्‍याज : प्‍याज में एसपिरिन के असर वाला पदार्थ होता है जो दर्द में राहत देता है|






विशिष्ट परामर्श-  


संधिवात,कमरदर्द,गठिया, साईटिका ,घुटनो का दर्द आदि वात जन्य रोगों में जड़ी - बूटी निर्मित हर्बल औषधि ही अधिकतम प्रभावकारी सिद्ध होती है| रोग को जड़ से निर्मूलन करती है|   बिस्तर पकड़े पुराने रोगी भी दर्द मुक्त गतिशीलता हासिल करते हैं| औषधि के लिए वैध्य श्री दामोदर से 98267-95656 पर संपर्क कर सकते हैं|