Showing posts with label आंखों की मालिश. Show all posts
Showing posts with label आंखों की मालिश. Show all posts

15.12.19

बढ़ती उम्र मे आँखों की सावधानी और उपाय



आप भी बढ़ती उम्र के साथ अपनी आंखों का ख्याल रखना चाहते हैं? अगर आप अपनी आंखों को हमेशा स्वस्थ रखना चाहते हैं तो, इसके लिए जरूरी है स्वस्थ खानपान। आंखों को स्वस्थ रखने और बेहतर रोशनी के लिए विटामिन ए और विटामिन के से भरपूर भोजन लेना बहुत जरूरी है।
शोधकर्ताओं ने पाया की जो लोग रेड मीट, फ्राइड फूड और हाई फैट डेयरी प्रोडक्ट का सेवन ज्यादा मात्रा में करते हैं उनकी आंखों पर इसका सीधा असर पड़ता है। ये आंखों के रेटिना को डेमैज करने का काम करता है साथ ही आंखों की रोशनी पर भी असर डालता है।
इस स्थिति को ऐज रिलेटेड मैक्युलर डिजनरेशन (AMD) कहा जाता है। इससे आपकी आंखों की रोशनी पर असर धीरे-धीरे पड़ता है। न्यूवैस्कुलर(ऐज रिलेटेड मैक्युलर डिजेनेरेशन) AMD काफी महंगा है और जियोग्राफिक ऐट्रोफी में इसका कोई इलाज नहीं है। अगर AMD का दूसरा रूप देखें तो वो ये है की उससे आपकी आंखों की रोशनी कम होने लगती है।
यूएस की यूनिवर्सिटी में श्रुति धीगे के द्वारा किए गए शोध के मुताबाकि, AMD से बचने के लिए हमे इसके लिए पहले से तैयार होने की जरूरत है और अगर हम पहले से ही इस समस्या को पकड़ लेंगे तो ये हमारे लिए फायदेमंद होगा।
धीगे और उनके साथियों ने 66 अलग-अलग खाने की चीजों पर डेटा का प्रयोग किया जो लोगों ने साल 1987 और 1995 के बीच सेवन किया। इसमें दो तरह के डाइट की पहचान की गई। इनमें दो तरह के डाइट शामिल थे एक वेस्टर्न और हेल्दी, जिनके बीच में काफी ज्यादा अंतर पाया गया।
अध्ययन के लेखक ऐम्मी मिलेन जो कि यूनिवर्सिटी के बफैलो में प्रोफेसर है, उनके मुताबिक अध्ययन में पाया गया था की जिन लोगों को AMD नहीं है और जिन्हें AMD से पहले उन्होंने ज्यादा मात्रा में अनहेल्दी फूड का सेवन किया जिससे उनकी आंखों की रोशनी के कम होने का खतरा बढ़ गया।




AMD से पहले वाली स्थिति को अस्यमपटोमेटिक कहा जाता है, जो कि किसी को भी इसका पता नहीं होता। AMD से पहले आंखों में नए ब्लड वैसल्स बनते हैं जिसे मैक्युला से जाना जाता है।
मैक्युलर डिजनरेशन क्या है?
आंखों में मैक्युला पैनी और केंद्रीत नजरों के लिए जरूरी होता है। ये रेटिना के पास एक छोटे से रूप में दिखाई देता है। जिससे हमारी आंखों के सामने आने वाली किसी भी चीज को देखने में मदद करता है। मैक्युलर डिजनरेशन इसी मैक्युला के खराब होने के कारण ही मैक्युलर डिजनरेशन होता है। इससे कई लोगों की रोशनी हमेशा के लिए जा सकती है।
मैक्युलर डिजनरेशन के लक्षण
आंखें लाल होना या दर्द होना
आंखों के सामने बार-बार कालापन आना
धुंधला दिखाई देना
कोई भी चीज ज्यादा छोटी दिखना
नजर की चमक में बदलाव
नजदीक की चीजों को देखने में परेशानी

अगर आप आंखों को बुढ़ापे तक ठीक रखना चाहते हैं तो आंखों की एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए. जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाती है वैसे वैसे ही आपकी आंखों की रोशनी कम होती जाती है. लेकिन एक्सरसाइज से आप इसे हमेशा ही स्वस्थ रख सकते हैं. आँखें हमेशा ठीक रहे उसके लिए कुछ आसान सी एक्सरसाइज होती है. आंखों की एक्‍सरसाइज, आंखों को स्‍वस्‍थ बनाएं रखती है और इन पर पड़ने वाले तनाव को कम करने में भी मदद करती है. तो चलिए आपको बता देते हैं कि आँखों के लिए कौनसी एक्सरसाइज जरुरी हैं.
आंखों की एक्सरसाइज कैसे करें
एक कुर्सी पर आराम से बैठें. अपनी दोनो हाथों को हथेलियों को रगड़ कर गर्म करें.
अपनी आखें बंद कर लें और गर्म हथेलियों से हल्‍के से उन्‍हे ढक लें.
आईवॉल पर प्रेशर न डालें.
आंखों को इस प्रकार कवर करें कि उंगलियों या हथेलियों के बीच से उन तक रोशनी की एक भी किरण न पहुंचे.इस दौरान आप धीमे से गहरी सांस लें और किसी अच्‍छी घटना के बारे में या फ्यूचर में होने वाली किसी अच्‍छी बात के बारे में सोचें.इसके बाद आप हथेलियों को हटा लें और धीमे से आखें खोल लें.इस प्रक्रिया को दिन में कम से कम 3 मिनट या ज्‍यादा करें.
आंखों को तरोताजा कैसे करें


दो तौलियां लीजिए, एक को गर्म पानी में भिगोएं और दूसरे को ठंडे पानी में भिगो दें.पहले किसी एक तौलिया को लीजिए और चेहरे पर हल्‍का दबाव डालते हुए घुमाइए.अपने भौं और आखों के आस-पास के एरिया में आराम से आहिस्‍ता से टच करवाएं.इस दौरान अपनी पलकों को बंद रखें ताकि आखों पर अच्‍छे से सेक हो सके.इस प्रकार दोनो तौलिए से एक-एक बार आंखों और चेहरे पर सेक दें.अंत में ठंडे पानी की तौलिया को इस्‍तेमाल करें.
आंखों की मालिश भी करें
अपनी आखें बंद कर लें और अपनी अंगुलियों के सिरो से आखों पर हल्‍के-हल्‍के से गोलाई में घुमाएं, ऐसा 2 से 3 मिनट तक करें.इस प्रक्रिया को बेहद धीमी तरीके से करें और बाद में बिना आखों को नुकसान पहुंचाए हाथों को धुल लें.ऊपर दी गयी सभी प्रक्रिया अगर आप करते हैं तो आंखों की एक्सरसाइज ज्यादा फायदेमंद होती है.
जिस प्रकार हमारी शारीरिक शक्ति, उम्र के साथ कम होती जाती है, वैसे ही हमारी दृष्टि भी कमज़ोर होती जाती है विशेषकर 60 वर्ष की आयु के बाद ।
कुछ आयु-संबंधी नेत्र परिवर्तन, जैसे कि प्रेस्बायोपिया (निकट वस्तुओं पर फोकस करने की हमारी क्षमता का नुकसान), सामान्य और आसानी से चश्मा, कॉन्टैक्ट लेंस या सर्जरी के साथ इलाज किया जाता है । मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) , भारत में दृष्टिविहीनता का प्रमुख कारण है , मोतियाबिंद का उपचार सर्जरी द्वारा आसानी से ठीक किया जा सकता है ।
हम में से कुछ, हालांकि, अधिक गंभीर उम्र-से-संबंधित नेत्र रोगों (ग्लोकोमा (काला मोतिया) ,मैकुलर डिजनरेशन ( धब्बेदार अध: पतन ) और मधुमेह संबंधी रेटिनोपैथी) का अनुभव करेंगे जो हमारे बड़े होने के साथ ही हमारे जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित करने की अधिक क्षमता रखते हैं ।
आयु संबंधी दृष्टि परिवर्तन कब होते हैं ?
प्रेसबायोपिया
40 वर्ष की आयु पार करने के बाद, करीब की वस्तुओं पर फोकस करना कठिन होता है । प्रेसबायोपिया फोकस करने की क्षमता का एक सामान्य नुकसान है जैसे ही आप बड़े होते हैं ।
एक समय के लिए, आप अपनी आंखों से दूर पढ़ने वाली सामग्री को पकड़कर प्रेसबायोपिया के लिए क्षतिपूर्ति कर सकते हैं, लेकिन अंततः आपको पढ़ने के लिए चश्मा, प्रोग्रेसिव लेंसस, मल्टीफ़ोकल कांटैक्ट लेंस या दृष्टि सर्जरी की आवश्यकता होगी ।
मोतियाबिंद (कैटरेक्ट)
मोतियाबिंद (कैटरेक्ट), जो वर्षों के दौरान विकसित होता है, वृद्धावस्था में एक सामान्य स्थिति है .. मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) का मुख्य लक्षण धुंधली दृष्टि है जो ऐसा प्रतीत होता है मानो आप किसी धुंधली खिड़की से देख रहे हों ।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन) के नवीनतम आंकलन के अनुसार, मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) दुनिया भर में 51 प्रतिशत दृष्टिविहीनता के लिए जिम्मेदार है । भारत में हाल ही में किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 63 प्रतिशत दृष्टिविहीनता मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) के कारण होती है ।
मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) सर्जरी सुरक्षित है , इसलिए अपनी स्पष्ट दृष्टि को बहाल करने के लिए अपने नेत्र चिकित्सक से परामर्श करें । मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) के कारण होने वाली धुँधली दृष्टि को ड्राइव करने, पढ़ने, किराने का सामान खरीदने, अपने फोन का उपयोग करने और अपने घर के आसपास आने-जाने में कठिनाई होती है ।
उम्र बढ़ने पर हमारी आंखों पर क्या प्रभाव पड़ता है ?



जबकि आम तौर पर हम उम्र बढ़ने के बारे में सोचते हैं क्योंकि यह प्रेस्बायोपिया और मोतियाबिंद (कैटरेक्ट) जैसी स्थितियों से संबंधित है, हमारी दृष्टि और आंखों में अधिक सूक्ष्म परिवर्तन भी होते हैं जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं । इन परिवर्तनों में शामिल हैं :

• पुतली का आकार कम होना

जैसे - जैसे हमारी उम्र बढ़ती है,, मांसपेशियों जो हमारे पुतली के आकार और प्रकाश की प्रतिक्रिया को नियंत्रित करती हैं, कुछ ताकत खो देती हैं । इससे पुतली, परिवेशीय प्रकाश में परिवर्तन के लिए छोटी और कम प्रतिक्रियाशील हो जाती है ।
इन परिवर्तनों के कारण 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को युवा पीढ़ी की तुलना में आरामदायक पढ़ने के लिए तीन गुना अधिक परिवेश प्रकाश की आवश्यकता होती है ।
इसके अलावा, सीनियर्स को उज्ज्वल सूरज की रोशनी और चौंध से चकाचौंध होने की संभावना है जब एक फिल्म थिएटर जैसे मंद रोशनी वाली इमारत से बाहर आते है । फोटोक्रोमिक लेंस और एंटी-रिफ्लेक्टिव कोटिंग वाले चश्मे इस समस्या को कम करने में मदद कर सकते हैं ।
शुष्क आंखें (ड्राई आईज) :
जैसे – जैसे हमारी उम्र बढ़ती है , हमारी आँखें कम आँसू पैदा करती हैं । यह मेनोपॉज़ (रजोनिवृत्ति) के बाद महिलाओं के लिए विशेष रूप से सत्य है ।
यदि आप शुष्क आंखें ( ड्राई आईज) से संबंधित जलन, चुभने या आंखों की अन्य परेशानी का अनुभव करते हैं, तो आवश्यकतानुसार कृत्रिम आँसू का उपयोग करें, या अन्य विकल्पों के लिए अपने नेत्र चिकित्सक से परामर्श करें ।
• परिधीय दृष्टि का नुकसान
एजिंग भी परिधीय दृष्टि के सामान्य नुकसान का कारण बनता है, जो हमारे दृश्य क्षेत्र के आकार के साथ जीवन के दशक में लगभग एक से तीन डिग्री कम हो जाता है । जब तक आप अपने 70 और 80 के दशक तक पहुंचते हैं, तब तक आपको 20 से 30 डिग्री का परिधीय दृश्य क्षेत्र नुकसान हो सकता है ।
वाहन चलाते समय अधिक सतर्क रहें क्योंकि दृश्य क्षेत्र की हानि से दुर्घटनाओं का खतरा बढ़ जाता है .. अपनी दृष्टि की सीमा को बढ़ाने के लिए, अपने सिर को घुमाएं और चौराहों पर पहुंचने के दौरान दोनों तरफ देखें ।
रंग दृष्टि में कमी
रेटिना में कोशिकाएं जो रंग दृष्टि के लिए जिम्मेदार हैं, जैसे - जैसे हमारी उम्र बढ़ती है उनकी संवेदनशीलता में गिरावट आती है, जिससे रंग कम उज्ज्वल हो जाते हैं और रंगों के बीच कंट्रास्ट कम ध्यान देने योग्य हो जाते हैं 
विशेष रूप से, नीले रंग फीके दिखाई दे सकते हैं । यदि आप किसी ऐसे पेशे में काम करते हैं जिसमें रंग-भेदभाव (जैसे कलाकार, सीमस्ट्रेस, या इलेक्ट्रीशियन) की आवश्यकता होती है, तो आपको पता होना चाहिए कि रंग-बोध के इस उम्र से संबंधित नुकसान का कोई इलाज नहीं है ।
• विट्रियस डिटैचमेंट (अनाशक्ति) :
जैसे - जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, आंख के अंदर जेल की तरह विट्रियस द्रवीभूत (लिक्विडीफ्य) होकर और रेटिना से दूर खींचने के लिए शुरू होता है, जिससे "स्पॉट और फ्लोटर्स" और (कभी-कभी) प्रकाश की चमक होती है । यह स्थिति, जिसे विट्रियस डिटैचमेंट कहा जाता है, आमतौर पर हानिरहित होती है ।
लेकिन फ्लोटर्स और प्रकाश की चमक भी रेटिना डिटैचमेंट की शुरुआत का संकेत दे सकती है - एक गंभीर समस्या जो तुरंत इलाज न होने पर दृष्टिविहीनता (ब्लाईंडनेस्स) का कारण बन सकती है । यदि आपको चमक और फ्लोटर्स का अनुभव होता है, तो कारण निर्धारित करने के लिए तुरंत अपने नेत्र चिकित्सक से परामर्श करें