23.11.16

पीठ दर्द, टांगो के दर्द और रीढ की हड्डी के दर्द को कहें अलविदा :say goodbye to Back pain, pain in the limbs and spine pain,



   अगर आपकी कमर अक्सर दर्द करती रहती हैं और आप अनेक प्रकार की दवाये खा खा कर अपने शरीर को चला रहे हैं तो ये साधारण सा उपाय करने से आपकी कमर दर्द हो सकता हैं छू मंतर।
   ये समस्या बहुत अधिक  शरीरिक काम या देर तक बैठने से होता है |लेकिन खुश किस्मती से चिंता करने की कोई बात नही है क्योंकि इस लेख में हम आपको 100% प्राक्रतिक और असरदार तरीका बताएँगे जिस के इस्तेमाल से आप इन समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं|इसके इस्तेमाल के कुछ के दिन बाद आपको सकारात्मक नतीजे नजर आने शुरू हो जायेंगे और 2 महीने से कम समय में आप पूरी तरह से ठीक हो जायेंगे
तो इस प्राक्रतिक नुस्खे को अजमाने में जरा भी संकोच न करें और इस असहनीय दर्द से छुटकारा पायें| ये एक बहुत हे आसान औषधि है इसे रात को सोने से पहले खाए |
सामग्री : 

5 सूखे अलुबुखरे
1 सुखी खुबानी
1 सुखी अंजीर
सुखी अंजीर : इस में फाइबर होता है जो हमारे पाचन तन्त्र को मज़बूत करता है और दिल को सेहतमंद रखने में मदद करता है |फाइबर से कब्ज़ भी ठीक होती है| ये फल कई खनिज पदार्थो से भरपूर होता है जैसे के magnesium, iron, calcium, और potassium. ये खनिज हडिओं की मजबूती के लिए ज़रूरी होते हैं साथ ही प्रतिरोधक क्षमता और चमडी के लिए भी फायदेमंद होता है|अंजीर शरीर से हानिकारक एस्ट्रोजीन को कुदरती तौर  से निकालने  में मदद करता है| शरीर में एस्ट्रोजिन की अधिक  मात्रा कई समस्याओं को उत्पन करती है जैसे केसर दर्द, गर्भाशय और ब्रेस्ट केन्सर  भी हो सकता है|





   सुखी खुबानी: 

 फायबर का बहुत ही अच्छा स्रोत है| खुबानी में पाए जाने वाले एंटी ओक्सीडेंट्स  हमारे शरीर में प्रतिरोधक क्षमता , सेल की वृद्धि और आँखों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं| Non-heme iron शरीर में लोह तत्व की कमी को पूरा करता है , जो के संसार में सबसे आम पाई जाने वाली समस्या है |
   सुखा आलूबुखारा : 

सूखे आलूबुखारा में पाए जाने वाले जैविक सक्रिय पदार्थ रेडियोथेरेपी या अन्य विकिरण आवरण से होने वाले अस्थि क्षति को रोकने में प्रभावी होते हैं सूखा आलूबुखारा विकिरण से हडिडयों की रक्षा करता है | फाइबर से भरपूर होने के कारण ये कब्ज से छुटकारा दिलाता है और पाचन शक्ति बढ़ता है |

विशिष्ट परामर्श -
संधिवात,,कमरदर्द,गठिया, साईटिका ,घुटनो का दर्द आदि वात जन्य रोगों में जड़ी - बूटी निर्मित हर्बल औषधि ही अधिकतम प्रभावकारी सिद्ध होती है| रोग को जड़ से निर्मूलन करती है| बिस्तर पकड़े पुराने रोगी भी दर्द मुक्त होकर चल फिर सकने योग्य हो जाते हैं|औषधि के लिए वैध्य दामोदर से 98267-95656 पर संपर्क कर सकते हैं|









एक टिप्पणी भेजें