Showing posts with label पैर के छाले के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय. Show all posts
Showing posts with label पैर के छाले के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय. Show all posts

10.7.19

पैर के छाले के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय


नए चप्पल और जूते पहनने या फिर पैर के अत्यधिक नमी के संपर्क में आने से कई बार पैरों में छाले हो जाते हैं। यह छाले शुरुआत में छोटे होते हैं लेकिन यदि इनका इलाज नहीं किया गया तो यह बड़े हो जाते हैं। इसलिए आज हम छाले दूर करने के घरेलू उपचार के बारे में जानेंगे।
पैरों के छालों को घरेलू उपायों की मदद से ठीक कर सकते हैं। तलवों के फफोले या पैर के छाले एक दर्दनाक समस्‍या है जिसमें पैर के छोटे से हिस्‍से में तरल पदार्थ जमा हो जाता है। पैर में छाले बुलबुले की तरह होते हैं जो कि कई अलग-अलग कारण से होते हैं। पैरों में छाले पड़ने का प्रमुख कारण त्‍वचा का जल जाना या नए स्‍लीपर या जूते पहनने से अधिक घर्षण होना है। पैर के छाले कवक या बैक्‍टीरिया के साथ संक्रमण, किसी कीड़े के काटने या अन्‍य प्रभावों के कारण अधिक गंभीर हो सकते हैं। हालांकि पैर में छालों को ठीक करने के घरेलू उपाय भी होते हैं। आप पैरों के छालों का इलाज किसी डॉक्‍टर के माध्‍यम से करा सकते हैं। लेकिन पैरों के छालों के घरेलू इलाज भी संभव हैं। पैर के छालों का इलाज घर पर किया जा सकता है। आज इस आर्टिकल में आप पैरों के छालों का घरलू उपचार कैसे कर सकते हैं यह जानकारी प्राप्‍त करेगें।
पैरों में छाले होने का कारण
पैर में छाले होने का प्रमुख कारण अधिक घर्षण हो सकता है। दिन में कई घंटों तक लगातार पैदल चलना या लगातार बहुत समय तक खड़े रहने से पैर की एड़ी, तलवे और उंगलियों में दबाव पड़ता है। आप दिन में जितना अधिक पैदल चलेगें यह पैर के फफोले के लिए उतना अधिक गंभीर हो सकता है। स्‍वाभाविक है कि आज अधिकांश लोग बहुत अधिक समय तक न ही खड़े हो सकते हैं और न ही पैदल चलते हैं। फिर भी उन्‍हें पैर के छालों का सामना करना पड़ता है। पैरों में छाले आने का एक और कारण टाइट या गाढ़े जूते पहनना है जिससे पैर की त्‍वचा में घर्षण अधिक होता है। जो कि पैर के छाले या फफोले उत्‍पन्‍न हो सकते हैं। इसके अलावा अधिक नमी या पसीना भी पैर के छालों का कारण बन सकता है। पैरों में छाले आने अन्‍य कारण इस प्रकार हैं।
पैरों में छाले का निदान
अधिक घर्षण के कारण होने वाले पैर के छाले का इलाज आमतौर पर घरेलू उपचार से किया जाता है। पैर के छाले के घरेलू उपाय कुछ ही दिनों में इन्‍हें ठीक कर सकते हैं। लेकिन कई बार पैर के छालों का घरेलू इलाज प्रभावी नहीं हो पाता है और छाले की स्थिति खराब होने लगती है। ऐसी स्थिति में आपको किसी चिकित्‍सक की सलाह लेनी चाहिए। इसके अलावा यदि पैर के छाले बहुत ही दर्द करते हैं तब भी आपको डॉक्‍टरी इलाज लेने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि कई बार पैर के छालों का दर्द बुखार, मतली या अन्‍य प्रकार की स्वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का कारण बन सकता है। आपका डॉक्‍टर फफोले से तरल पदार्थ को बाहर निकाल सकता है। यदि उसे संक्रमण की शंका होती है तो वो आपको संक्रमण रोधी दवाओं की सलाह भी दे सकता है।
पैर के छाले दूर करने के घरेलू उपाय
कई बार ऐसा होता है जब पैरों में छाले पड़ जाते हैं और जल्‍दी ठीक नहीं होते हैं। पैर के छाले बहुत ही दर्दनाक होते हैं जो आपके व्‍यक्तिगत जीवन में परेशानी का कारण बन सकते हैं। हालांकि पैर में छाले होने पर बहुत से लोग तुरंत ही डॉक्‍टर के पास नहीं जाते हैं। वे पैर के छाले का इलाज घरेलू उपचार के माध्‍यम से करते हैं। ये घरेलू उपचार पैरों के छाले की दवा जितने प्रभावी होते हैं। अच्‍छी बात यह है कि पैर में छाले के घरेलू उपचार करने पर कोई गंभीर दुष्‍प्रभाव नहीं होते हैं। यदि आपको पैर के छाले हैं तो तुरंत ही इसका इलाज करना चाहिए। अन्‍यथा ये गंभीर स्थिति में परिवर्तित हो सकते हैं। आइए विस्‍तार से जाने पैर के छालों के घरेलू इलाज और उपाय क्‍या हैं।


पैरों के छालों का उपाय अरंडी का तेल
पैरों के छाले को ठीक करने के लिए अरंडी का तेल (Castor Oil) उपयोगी औषधि है। सामान्‍य रूप से अरंडी के तेल का उपयोग बालों में वृद्धि करने के लिए किया जाता है। लेकिन पैरों के छालों के घरेलू उपाय के रूप में भी अंरडी का तेल प्रभावी माना जाता है। पैरों में छाले पड़ने के लक्षण जलन, खुजली और लालिमा आदि भी हो सकते हैं। आप इन सभी लक्षणों को कम करने के लिए फफोलों पर अंडी के तेल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। पैर के छाले का इलाज करने के लिए आप रात में सोने से पहले इसे पैर के छाले में लगाएं और सो जाएं। निश्चित रूप से अगली सुबह आपको पैर के छाले में राहत महसूस होगी।
इसके अलावा आप पैर के छाले का इलाज करने के लिए अंरडी के तेल और सेब के‍ सिरका के मिश्रण का भी उपयोग कर सकते हैं। इस मिश्रण को दिन में 2 से 3 बार उपयोग करना चाहिए।
पैर के छालों का घरेलू उपचार नमक
नमक में हीलिंग (healing) या उपचार गुण होते हैं जो पैर के छाले के कारण होने वाले दर्द को कम करते हैं। पैरों के छाले की दवा के रूप में आप नमक और बर्फ के पानी का इस्‍तेमाल करें। इसके लिए आप एक कटोरी में 1 चम्‍मच खाने वाला नमक लें और इसमें बर्फ के कुछ टुकड़े मिलाएं। जब बर्फ और नमक पूरी तरह से घुल जाए तब इस पानी में एक सूती कपड़ा गीला करें। इस गीले कपड़े को पैर के फफोले पर लगभग 15 मिनिट तक रखें। यह सूजन और दर्द को कम करने में सहायक होता है। जिससे फफोले में मौजूद तरल पदार्थ निकल जाता है और फफोले का आकार कम हो जाता है।
पैर के फफोले का इलाज एलोवेरा


एलोवेरा एक औषधी है जो त्‍वचा के लिए निश्चित रूप से किसी दवा से कम नहीं है। आप पैर के छाले का इलाज करने के लिए एलोवेरा का उपयोग कर सकते हैं। एलोवेरा में एंटी-इंफेलेमेंट्री और एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो कि पैर के छाले को ठीक करने में मदद करते है। एलोवेरा में शीतलन और उपचार (cooling and healing) गुण होते हैं। जो पैरों के छाले प्रभावित क्षेत्र के तापमान या गर्मी को कम करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा पैर के छालों में एलोवेरा का इस्‍तेमाल छाले की सूजन और दर्द को भी कम करता है।
पैर के छाले का घरेलू इलाज करने के लिए आप पैर के छाले में एलोवेरा जेल लगाएं और सूखने दें। हालांकि एलोवेरा का उपयोग करने के दौरान आपको कुछ खुजली या जलन का अनुभव हो सकता है। जब एलोवेरा जेल पूरी तरह से सूख जाए तब आप इसे गर्म पानी से धो लें। पैर के छाले से जल्‍दी छुटकारा पाने के लिए आप एलोवेरा जेल का दिन में दो बार उपयोग करें। ऐसा करने से आपको जल्‍दी ही पैर के छालों से राहत मिल सकती है।
पैरों के छालों का इलाज सेब का सिरका
पैर के छालों का घरेलू उपचार करने के लिए सेब के सिरका का इस्‍तेमाल किया जा सकता है। सेब का सिरका फफोले की सूजन और दर्द को कम करने में मदद करता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि सिरका में जीवाणुरोधी और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं जो पैरों के छाले को ठीक करता है और दर्द को कम करने में सहायक हैं। इसके अलावा सेब का सि‍रका पैर के फफोले को संक्रमण ग्रसित होने से भी बचाता है। पैर के छाले का इलाज करने के लिए आप 1 कटोरी में सेब का सिरका लें और इसमें रूई या कपास को भिगोएं। इस भीगी हुई रूई को आप फफोले के ऊपर रखें या इससे थपथपाएं। यह पैर के छाले का दर्द कम करने के साथ ही उपचार प्रक्रिया को बढ़ाने में सहायक होता है।
विकल्‍प के रूप में आप प्‍याज का पेस्‍ट और सेब के सिरका सरिका को मिलाकर भी पैर के छाले में रख सकते हैं। मिश्रण के सूखने के बाद आप गर्म पानी से इसे धो लें। ऐसा करना भी पैर के छालों के उपचार में मदद करता है।
पैर के छाले दूर करने का घरेलू नुस्‍खा टूथपेस्‍ट
दांतों को साफ करने के लिए टूथपेस्‍ट का उपयोग किया जाता है। लेकिन पैर के छाले दूर करने के घरेलू नुस्‍खे में भी टूथपेस्‍ट बहुत ही प्रभावी माना जाता है। बहुत से लोग मुंहासे, घाव आदि को ठीक करने के लिए भी टूथपेस्‍ट इस्‍तेमाल करते हैं। आप अपने पैरों के छालों को भी ठीक करने के लिए टूथ पेस्‍ट का प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप अपने द्वारा उपयोग किये जाने वाले सफेद टूथ पेस्‍ट की थोड़ी सी मात्रा को पैरों के छालों पर लगाएं। दिन में 2 से 3 बार उपयोग करने पर यह पैर के छालों की सूजन या फूलन को ठीक कर सकता है।
पैर में छाले के उपाय ग्रीन टी



पैर के छालों का उपचार करने के लिए ग्रीन टी बहुत ही प्रभावी तरीका है। ग्रीन टी में एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। जो पैर के छाले के ठीक होने की प्रक्रिया को गति देने में सहायक होते हैं। इसमें मौजूद विटामिन और एंटीऑक्‍सीडेंट छाले के दर्द को कम करने में और सूजन को रोकने में मदद करते हैं। पैर के फफोले का इलाज करने के लिए गर्म पानी में 1 ग्रीन टी बैग को डुबोएं और इस पानी में थोड़ा सा बेकिंग सोड़ा मिलाएं। इसके बाद टी बैग को ठंडा होने दें और फिर फफोले के ऊपर रखें। बेकिंग सोड़ा में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो संक्रमण को रोकने में प्रभावी होते हैं। इस विधि को दिन में 2 से 3 बार दोहराने में आपको पैर के छाले में आराम मिल सकता है।
पैर के छालों की दवा पैट्रोलियम जेली
पैट्रोलियम जेली केवल कटे, फटे होठों या त्‍वचा के लिए अच्‍छी होती है। लेकिन यह आपके पैरों के छाले का भी इलाज करने में प्रभावी होती है। यदि आप पैर के छालों से परेशान हैं तो रात में सोने से पहले अपने पैरों के छाले में पैट्रोलियम जेली लगाएं। यह छाले के दर्द को कम करने और त्‍वचा में प्राकृतिक नमी बनाए रखने में सहायक होती है। छालों में पैटोलियम जेली का उपयोग करने से पहले अपने पैरों को गुनगुने पानी में 15 से 20 मिनिट तक अपने पैरों को भिगोएं। इसके बाद अपने पैरों को अच्‍छी तरह से सुखाएं और फिर पैट्रोलियम जैली को लगाएं। ऐसा करने पर कुछ ही दिनों में आपको पैरों के छाले से राहत मिल सकती है।