Showing posts with label दांत दर्द का घरेलू उपचार. Show all posts
Showing posts with label दांत दर्द का घरेलू उपचार. Show all posts

30.9.16

दांत दर्द का घरेलू उपचार //Dant Dard ka Gharelu ilaj


सबको उम्र के किसी न किसी पड़ाव में दाँत के दर्द को सहना ही पड़ता है। यह दर्द कितना तकलीफदेह होता है यह तो सभी जानते हैं। इस दर्द से जल्द से जल्द छुटकारा पाने के लिए लोग बहुत तरह की दवाईयाँ लेते हैं, लेकिन इन दवाईयों से बचना ही अच्छा होता है। अब आप जानना चाहेंगे कि कैसे बिना दवाई के इस दर्द को साठ सेकेंड में कम किया जा सकेगा?
दांतों में दर्द होने की वजह कई होती है, दांतों में कीड़े लगना या दांतों की जड़ों का ढीला पड़ जाना आदि। कुछ लोग मजे-मजे में दांतों में स्टिक डाल लेते है जिससे उनके दांतों में गैप हो जाता है, इससे भी दर्द होने लगता है।
दांतों में दर्द होने पर आप सही से ब्रश नहीं कर पाते है और सांसों की बदबू, उसके बाद मुंह में सड़न जैसी भी कई समस्‍याएं हो जाती हैं। अगर आपको अपने दांतों के दर्द से छुटकारा पाना है तो कुछ घरेलू उपाय अपनाएं, जो कि निम्‍न प्रकार हैं।

हर प्रकार की खांसी और कफ की समस्या के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार

आपके टूथपेस्ट में 'नमक' हो या न हो मगर जब दांतों में दर्द होता हो तो गर्म पानी में नमक डालकर कुल्ले करने से तुरंत आराम मिलता है। दांतों के दर्द में तुरंत आराम के लिए ऐसे ही कुछ आराम और घरेलू उपायों की जानकारी आज हम आपको देंगे जिनकी मदद से आपको दर्द से तुरंत राहत महसूस होगी।
लौंग:
अगर आपके दांतों में दर्द होता है तो लौंग को दांतों के बीच दबा कर रखें, इससे दर्द में काफी आराम मिलेगा। लौंग में काफी मात्रा में एनेस्थेटिक और एनलगेसिक गुण होते हैं जो दर्द को दूर भगा देते हैं। दिन में दो से तीन बार लौंग को रखना चाहिए और इस दौरान कुछ भी न खाएं।
काली मिर्च पाउडर




दांतों में तेज दर्द से आराम के लिए एक चौथाई चम्मच नमक में एक चुटकी काली मिर्च पाउडर मिलाकर दर्द वाले हिस्से पर लगाएं। आपको तुरंत आराम मिलेगा।
नमक:
दांतों में दर्द होता हो, तो पानी का हल्‍का गुनगुना करके उसमें नमक डाल लें और गरारा करें, और मुंह में भरकर सेंक दें। इससे दांतों का संक्रमण दूर हो जाएगा और आपको दर्द से निज़ात मिल जाएगा। सुबह ब्रश करते समय भी आप नमक वाले पानी का ही इस्‍तेमाल करें।
हींग:
हींग में कई आयुर्वेदिक गुणों का समावेश होता है। इसमें कई एंटी-इंफ्लामेट्री, एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो दांतों से दर्द में राहत प्रदान करते है। इसके इस्‍तेमाल के लिए आप हींग को बहुत कम मात्रा में लें और उसे दर्द वाली जगह पर लगा लें या इसे एक चौथाई पानी में घोल बनाकर माउथवॉश की तरह इस्‍तेमाल करें।




आलू
दांतों में दर्द के साथ सूजन हो तो आलू छीलकर उसकी स्लाइस उस भाग पर 15 मिनट तक रखें, तुरंत राहत मिलेगी।
पिपरमेंट:
पिपरमेंट से भी दांतों का दर्द दूर भग जाता है, खासकर उम्र बढ़नेपर होने वालों दांतों का दर्द भी पिपरमेंट से ही ठीक होता है। पिपरमेंट ऑयल की कुछ बूंदों को दर्द वाले हिस्‍से पर डाल लें और फिर गर्म पानी से गरारा कर लें। आप चाहें तो पिपरमेंट ऑयल की कुछ बूंदों को पानी में डालकर माउथवॉश की तरह भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं।
सरसो का तेल
तीन से चार बूंद सरसो के तेल में एक चुटकी नमक डालकर दांतों व मसूड़ों पर मसाज करें। इससे न सिर्फ दांतों में दर्द से आराम मिलता है बल्कि मसूड़े भी मजबूत होते हैं।
प्‍याज:
प्‍याज में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो दांतों के दर्द से राहत दिला सकते हैं। इसे कच्‍चा खाने से दांतों के दर्द में आराम मिलता है। अगर आपके दांतों में दर्द इतना ज्‍यादा है आप इसे कच्‍चा नहीं खा सकते हैं तो इसका रस निकालकर दांतों में निकाल लें।
बर्फ




दांतों के दर्द वाले हिस्से पर 15 से 20 मिनट तक बर्फ से सेंकाई करें। दिन में कई बार दांतों को बर्फ से सेंकने से दर्द से छुटकारा मिलेगा।
लहसून:
लहसून के गुणों के बारे में हम सभी को पता है। लाभकारी लहसून को अगर छीलकर उसकी कलियों को चबाया जाएं, तो दांतों के दर्द में आराम मिलता है। दिन में दो बार दो-दो कलियों को चबाने से जल्‍दी ही दर्द के दांतों से छुटकारा मिल जाता है।
ब्रांडी
रुई को ब्रांडी में डुबोएं और दांतों में दर्द वाले स्थान पर लगाएं। इससे भी दांत का दर्द दूर होता है।
अमरूद की पत्तियां:
अमरूद की ऊपर वाली ताजा कोमल पत्तियों को तोड़ लें और उन्‍हे दांतों में दर्द वाले हिस्‍से पर रखकर दबा लें, इससे दर्द में काफी राहत मिलेगी। हर दिन चार बार ऐसा करने काफी राहत मिलती है। आप चाहें तो इन पत्तियों को एक कप पानी में उबालकर उस पानी को माउथवॉश की तरह इस्‍तेमाल कर सकते हैं।
किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार