Showing posts with label खांसी के नुस्खे. Show all posts
Showing posts with label खांसी के नुस्खे. Show all posts

12.5.15

खांसी से पाएं तुरंत राहत // Get instant relief from cough

                                               
     गले और सांस के रास्ते को साफ रखने का महत्वपूर्ण तरीका है खांसना। लेकिन अधिक खांसने का मतलब है कुछ अंदरूनी विकार। गंभीर खांसी अचानक शुरू होती है और आम तौर पर अधिक से अधिक दो से तीन सप्ताह तक चलती है। पुरानी खांसी भी दो से तीन सप्ताह तक चलती है। एलर्जी या उत्तेजना लाने वाली खांसी उस स्थिति का सामान्य संकेत है जो आम तौर पर प्रत्येक व्यक्ति के अंदर धूल, धुंआ, धुंध आदि जैसे उद्दीपकों के प्रति संवेदनशीलता के कारण होती है।
खांसी का मूल कारण अंदरूनी या वंशगत एलर्जी होती है। यदि इस समस्या का समय पर इलाज नहीं किया जाए तो इससे टॉल्सिलाइटिस, साइन्यूसाइटिस, एडेनोइडाइटिस हो सकता है तथा तेज दवाओं से दबा देने से गंभीर सांस के रोग हो सकते हैं।
   तेज खांसी है और गले में दर्द है तो इलायची या किशमिश चबाना चाहिए, इससे कुछ समय में राहत मिलती है।एक कप चाय में नींबू के रस और एक चम्मच शहद मिला लें फिर इस मिश्रण को दिन में 4-5 बार पीएं इससे खांसी ठीक हो जाएगी। खट्टा भोजन अचार, रसम, सॉस/केचअप, सांभर, टमाटर का सूप, सिरका, गोल गप्पे, इमली। 
    ठंडे और वायु युक्त पेय कोक, फेन्टा, फू्रटी, लिम्का, माजा, पेप्सी आदि। फलों के रस, खासकर स्ट्रिस फलों जैसे संतरा और मौसमी का रस। ठंडा पानी, आईस क्रीम, दही, लस्सी। सामान्य तापमान ताजा मीठा दही लिया जा सकता है।
     

खांसी और गले में दर्द तो नहाने से पहले दालचीनी को गुनगुने  पानी में डाल दें और उस पानी  को नहाने के पानी में मिला दें। उसी पानी से स्नान करें,जरूर  फायदा होगा। 

  खांसी की गोलियाँ-
सत्यानाशी की कोमल जड़  काटकर  लावें और छाया में सुखावें| इसका चूर्ण बनालें|  इतनी ही वजन की काली मिर्च मिलाकर  इसे  लहसुन के रस में भली प्रकार घोटकर  चने के बराबर  गोलियां बनालें|  इन गोलियों को छाया में सुखालें|
  विधि- एक-एक गोली दिन में ३ बार तजा पानी से लें| जब खांसी का वेग तब गोली मुंह में रखकर चूसें| खांसी को शीघ्र ही नियंत्रित करती है|


किडनी निष्क्रियता की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि

गठिया (संधिवात) रोग की अनुपम औषधि