Showing posts with label धनिया के फायदे. Show all posts
Showing posts with label धनिया के फायदे. Show all posts

22.11.16

धनिया के चमत्कारी फायदे//Miraculous benefits of coriander



  भारतीय रसोई में धनिये का इस्तेमाल काफी उपयोगी होता जा रहा है. मसालों और व्यंजनों में स्वाद की मात्रा बढ़ाने और स्वादिष्ट बनाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है. खास तौर पर इसकी हरी पत्तियों का इस्तेमाल तो हर घर में किया जाता है साथ ही इसके सूखे हुए बीज भी बहुत ही उपयोगी होते है. धनिये के इतने गुणों के कारण इसका महत्व इतना बढ़ गया है कि विज्ञान भी इसके अनेक औषधीय गुणों की प्रसंशा करता है. आज हम आपको बताएँगे धनिये के अनेक गुण जो हमें होने वाली बिमारियों से छुटकारा दिलवाते है, इस प्रकार है:

मस्सों को जड़ से ख़त्म करने के रामबाण आयुर्वेदिक उपचार




* गैस से छुटकारा दिलाने में सहायक

स्वास्थ्य सुधार के लिए धनिये की चाय काफी महत्वपूर्ण साबित होती है. लगभग दो कप पानी लिया जाता है इसके बाद पानी में जीरा व धनिया डाल लिया जाता है. इसके बाद चाय पत्ती व थोड़ी मात्रा सौंफ की डाल कर लगभग 2 मिनट तक इसको खौलाया जाता है. 2 मिनट खुलने के बाद इसमें घोल में जरुरत के अनुसार शक्कर डाल दी जाती है और साथ ही अदरक भी डाल दिया जाता है. इसे और स्वादिष्ट बनाने के लिए कई बार शक्कर की जगह इसमें शेहद को मिला लिया जाता है. अब इस बने हुए घोल को सेवन करने से पाचन सम्बन्धी समस्याओ में आराम मिलता है साथ ही गैस से परेशानी से भी छुटकारा मिलता है. गले में होने वाली समस्याएँ भी दूर की जा सकती है

.

मूत्राषय प्रदाह(cystitis)के सरल उपचार


* नकसीर दूर करने में सहायक
नकसीर में आराम पाने के लिए सबसे पहले एक प्रकार का रस तैयार किया जाता है. इस रस को तैयार करने के लिए हरे धनिये की 20 ग्राम पत्तियां ली जाती है. अब इसमें थोड़ा लगभग चुटकी भर कपूर मिला लिया जाता है. इसके बाद इनको पीस लिया जाता है. पीस लेने के बाद तैयार रस को छान कर रस को अलग कर लिया जाता है. तैयार रस को दो बूंदों को नाख के दोनों छिद्रों में दोनों तरफ टपका लेना चाहिए साथ ही रस को माथे पर लगा कर हल्का मलने पर नाख से निकलने वाला खून तुरंत ही बंद हो जाता है.
* आँखों की जलन दूर करता है :
आँखों की जलन दूर करने के लिए सबसे पहले हमें एक प्रकार का चूर्ण बनाना है. चूर्ण को तैयार करने के लिए सौंफ, मिश्री तथा धनिये के बीजो को समान मात्रा लेकर उनकी पिसाई करके चूर्ण तैयार किया जाता है. अब इस चूर्ण का सेवन भोजन के बाद किया जाता है. 6 ग्राम चूर्ण का सेवन करने से आँखों व हाथ पैरों की जलन से छुटकारा पाया जा सकता है. साथ ही पेशाब में होने वाली जलन तथा सिरदर्द में भी आराम मिलता है.



गोखरू के औषधीय गुण और प्रयोग


* त्वचा के लिए फायदे
धनिये का इस्तेमाल त्वचा के लिए बहुत ही असरदारक साबित होता है. धनिया का सेवन खून में इन्सुलीन की मात्र को नियंत्रण में रखता है. धनिये के इस्तेमाल से मधुमेह को भी खत्म किया जा सकता है.इस प्रकार हम कह सकते है कि धनिये का सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी है

 

आँखों से पानी गिरने की समस्या का इलाज :

आँखों में पानी गिरने की समस्या का इलाज करने के लिए थोडा से ताजा हरा धनिया ले. अब इसको कूट कर पानी में थोड़ी देर तक उबाल ले. थोड़ी देर उबलने के बाद इसको ठण्डा कर ले. ठण्डा होने के बाद इसको एक मोटे कपडे में छान कर किसी बंद डब्बे ,शीशी या बर्तन में रख ले. रोजाना इसकी दो दो बुँदे आँखों में टपकते रहे. इसे इस प्रकार इस्तेमाल करने से आँखों में जलन से आराम महसूस होता है और पानी गिरने की समस्या से भी छुटकारा मिलता है.


मलेरिया की जानकारी और विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों से इलाज  

* मासिक धर्म में होने वाली समस्याओं का समाधान
लगभग आधा लीटर पानी ले और इसमे 6 ग्राम धनिया डाल कर खौलाएं. अब इसमें थोड़ी शक्कर मिला लें. इस प्रकार तैयार घोल को पी लें. यह महिलाओं की मासिक धर्मं सम्बंधित समस्याओं को दूर करने में मदद करता है.


*मुहासों और काले धब्बो से छुटकारा 
धनिये के चूर्ण से मुहासों को ख़त्म किया जा सकता है और साथ ही चेहरे पर हुए काले धब्बे भी हटाये जा सकते है. इसके लिए हमें एक प्रकार का लेप तैयार करना पड़ेगा जिसकी विधि इस प्रकार है : धनिये की कुछ पत्तियां लो और इनको पीस लो. अब इसकी पिसी हुयी पत्तियों की कुछ मात्रा में एक चुटकी भर हल्दी मिला लो. अब इस तैयार हुए लेप को दिन में दो बार चेहरे पर लगा ले. इस प्रकार ऐसा रोजाना करने से जल्दी ही मुहासों और काले धब्बो से छुटकारा मिलता है और साथ ही चेहरे की सुन्दरता भी बढती है.


सांस फूलने(दमा) के लिए प्रभावी घरेलू उपचार

* सर्दी और खांसी में आराम दायक
सर्दी और खांसी से बचने के लिए एक प्रकार का काढ़ा बहुत ही महत्वपूर्ण इलाज है. सर्दी और खांसी से ग्रस्त बच्चो और बड़ो के लिए भी यह काढ़ा बहुत ही फायदेमंद है. यह काढ़ा धनिया , जीरा और बच की बराबर मात्र को लेकर बनाया जाता है.