19.8.19

त्वचा की समस्याएं और उपचार -डॉ॰आलोक



आंखों के आसपास काले घेरे, गालों पर मुंहासे, माथे पर दाने, रूखा बेजान चेहरा और होठों के कालेपन जैसी ढेर सारी त्वचा संबंधी समस्याओं का कारण आपकी खराब डाइट हो सकती है। आपके खानपान का असर आपकी सेहत के साथ-साथ त्वचा पर भी पड़ता है। अक्सर आप फिल्मी सितारों के त्वचा की चमक देखकर प्रभावित होते हैं। मेकअप के अलावा उनकी खूबसूरत त्वचा का राज उनकी डाइट भी होती है। दरअसल त्वचा को स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है कि आपका शरीर फ्री रेडिकल्स से लड़कर उसे खत्म करे और पुराने सेल्स की जगह नए सेल्स पैदा करे। इसके लिए आपके शरीर में ढेर सारे विटामिन्स की जरूरत पड़ती है, जो आपको अच्छी और हेल्दी डाइट के द्वारा ही मिल सकते हैं। आइए आपको बताते हैं त्वचा की कौन सी समस्या का कारण आपका खानपान हो सकता है और क्यों।
डार्क सर्कल्स और झुर्रियों का कारण
क्या आपको पता है कि अगर आप ज्यादा चीनी और कार्बोहाइड्रेट्स वाले आहार खाएंगे, तो आप जल्दी बूढ़े हो जाएंगे। जी हां, चीनी और कार्ब्स के कारण आपके आंखों के नीचे काले घेरे (Dark Circles) की समस्या होती है और चेहरे पर झुर्रियां (Wrinkles) हो जाती हैं। सफेद ब्रेड, सफेद चीनी (रिफाइंड), सफेद चावल, गेंहू का आटा आदि ऐसे आहार हैं, जो आपकी त्वचा की उम्र तेजी से बढ़ाते हैं, जिसके कारण आप अपनी वास्तविक उम्र से ज्यादा बूढ़े दिखने लगते हैं। दरअसल चीनी त्वचा के कोलेजन को नष्ट करती है, जिसके कारण झुर्रियां आने लगती हैं। इसलिए अगर आप इन समस्याओं से परेशान हैं या भविष्य में इन समस्याओं से बचना चाहते हैं, तो रिफाइंड चीनी का बहुत कम प्रयोग करें। इसके साथ ही कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन सीमित करें।


मुंहासों का कारण

मुंहासे चेहरे की एक आम समस्या हैं, जो अक्सर युवावस्था में लड़के-लड़कियों को परेशान करते हैं। 16 से 22 साल की उम्र में मुंहासों का कारण शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों को माना जाता है। मगर इसके अलावा किसी उम्र में अगर व्यक्ति को बहुत ज्यादा मुंहासे हो रहे हैं, तो उसका कारण खराब डाइट भी हो सकती है। बहुत अधिक तेल में बने हुए और मसालेदार भोजन करने से मुंहासे हो जाते हैं। कील-मुंहासे एक तरह की 'इंफ्लेमेट्री' (Inflammatory) समस्याएं हैं। मुंहासों-कील को दूर करने के लिए अपनी डाइट में अदरक, हल्दी, ऑलिव ऑयल आदि को शामिल करें। इन सभी में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं, इसलिए ये मुंहासों को ठीक कर देते हैं।
काले होंठों का कारण
आमतौर पर सिगरेट पीने के कारण लोगों के होंठ काले हो जाते हैं। सिगरेट न सिर्फ कैंसर का कारण बनती है, बल्कि ये आपके सभी अंगों की क्षमता खराब कर सकती है। इसलिए अगर आप रेगुलर स्मोकिंग करते हैं, तो इसे धीरे-धीरे कम करें और अंत में बंद कर दें। सिगरेट की लत होठों के साथ-साथ मसूड़ों को भी काला बना सकती है। इसके अलावा त्वचा पर नमी की कमी भी होठों के कालेपन का कारण बन सकती है। इससे बचने के लिए रोजाना अपने चेहरे और हाथ-पैरों में मॉइश्चराइजर लगाएं और धूम्रपान की लत छोड़ दें।
चेहरे पर दाग-धब्बे या सोरायसिस का कारण
चेहरे पर दाग-धब्बों और सोरायसिस का कारण आपके लिवर की समस्या हो सकती है। लिवर का मुख्य काम शरीर से गंदगी और खराब तत्वों को बाहर निकालना है। मगर इस काम के लिए आपके शरीर में पर्याप्त पानी होना चाहिए, जिससे की प्रॉसेसिंग करके लिवर खून में से गंदगी को अलग कर सके। अगर आप कम मात्रा में पानी पिएंगे, तो आपका लिवर ठीक से शरीर की सफाई नहीं कर पाता है, जिससे चेहरे पर दाग-धब्बों की समस्या होने लगती है। इसलिए त्वचा को साफ, सुंदर और कोमल बनाए रखने के लिए रोजाना 3-4 लीटर पानी जरूर पिएं।


खूबसूरत त्वचा के लिए डाइट

त्वचा की चमक और निखार बढ़ाने के लिए रोजाना पर्याप्त पानी पीना बहुत जरूरी है। एक स्वस्थ व्यक्ति को 1 दिन में 3-4 लीटर पानी पीना चाहिए।
त्वचा को चिकनी, मुलायम और ग्लोइंग रखने के लिए जरूरी है कि आप खूब सारे खट्टे फल खाएं, जैसे- टमाटर, नींबू, स्ट्रॉबेरी, आंवला, करौंदा, मौसमी, संतरा आदि। सभी खट्टे फलों में विटामिन सी की मात्र अच्छी होती है, जो आपके शरीर में फ्री रेडिकल्स से लड़ने की क्षमता बढ़ाते हैं।
तेल और मसालेदार भोजन का सेवन कम से कम करें क्योंकि ये आपकी सेहत खराब करने के साथ-साथ आपकी त्वचा को भी नुकसान पहुंचाते हैं।
अपनी डाइट में रंगीन सब्जियों (सिर्फ हरी नहीं) को शामिल करें। बैगन, सीताफल (कद्दू), पालक, बीन्स, टिंडे, गोभी, पत्तागोभी, ब्रोकली आदि सभी अलग-अलग रंगों की सब्जियों से आपको ढेर सारे एंटीऑक्सीडेंट्स मिलते हैं, जो त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।
स्किन प्रॉब्लम के घरेलू उपाय 
नींबू ( Lemon) – नींबू में रंग को निखारने वाले गुण होते हैं जिससे स्किन पर Dark Spots (डार्क स्पॉट्स) को कम करने में मदद मिलती है. यह स्किन पर आई झांइयों को भी दूर करता है. स्किन पर नींबू के रस के इस्तेमाल के दौरान यह ध्यान रखना चाहिए कि स्किन को धूप लगने से बचाया जाए.
शहद ( Honey) – शहद को नींबू और दूध के साथ मिलाने पर यह और अधिक उपयोगी हो जाता है.शहद के इस कांबीनेशन से स्किन को उजला और साफ रखने में मदद मिलती है. इसे खीरे के रस और दही के साथ भी इस्तेमाल किया जा सकता है.
ओटमील पैक ( Oatmeal pack) – ओटमील के प्रयोग से Skin Pores (त्वचा छिद्र) में अटकी हुई धूल और गंदगी निकल जाती है. इसके लिए ओटमील को हल्दी ओर पानी मिलाकर स्किन पर लगाएं और सूख जाने पर गुनगुने पानी से धो दें.
टमाटर
टमाटर के उपयोग से Skin की रंगत निखरती है. यह स्किन से ऑइल को सोखकर बंद हुए पोर्स को खोल देता है. टमाटर स्किन को गुलाबी रंगत देता है. बेहतर परिणाम के लिए टमाटर का गूदा अपनी स्किन पर लगा रहने दें और हल्का सा सूखने पर इसे धो दें.
आलू ( Potato) –
 आलू एक नैचुरल Bleaching Agent (ब्लीचिंग एजेंट) की तरह काम करता है. यह स्किन के टेक्सचर और टोन को निखारता है. आलू का उपयोग करना बहुत ही आसान है लेकिन इसकी प्रोसेस धीमी होती है और रिज़ल्ट दिखने में समय लगता है.
बर्फ ( Ice Cubes) –
 आइस क्यूब्स के उपयोग से स्किन में Blood circulation सुधरता है और स्किन को ठंडक मिलती है. यह स्किन को मेकअप के लिए भी तैयार करता है. बर्फ के उपयोग से मेकअप स्किन पर देर तक ठहरता है और फैलता नहीं है.


चंदन ( Chandan) – 

चंदन का प्रयोग स्किन को शीतलता प्रदान करता है और यह हमारे मन-मष्तिष्क को भी तरोताजा कर देता है. यह स्किन इन्फेक्शंस, रैशेज़ (skin rash), इरीटेशन, बदरंग स्किन, डार्क स्पॉट्स और दूसरी समस्याओं को दूर करता है.
संतरे का छिलका 
 संतरे का छिलका स्किन में से अतिरिक्त ऑइल को निकालकर इसकी क्लींजिंग करता है. इसमें कई दूसरे मेडिकल गुण जैसे एंटीसेप्टिक, डीटॉक्सीफिकेशन आदि भी होते हैं. यह Dead cells (मृत स्किन सेल्स) को रिमूव करता है और नई सेल्स को बनाने में मदद करता है.
हल्दी ( Turmeric) – 
हल्दी में अनगिनत गुण होते हैं और इसका प्रयोग स्किन को निखारने लिए हजारों सालों से किया जा रहा है. यह एंटीसेप्टिक तथा कीटाणुरोधी होती है. यह खून साफ करती है और शरीर से विषैले तत्वों को निकालती है. इसे चंदन के साथ मिलाकर उबटन के रूप में लगाने से स्किन में अद्वितीय निखार आता है.
मुल्तानी मिट्टी 
 मुलतानी मिट्टी स्किन की मृत सेल्स (dead cells) को निकालती (exfoliate) है जिससे स्किन के बंद पड़े पोर्स भी खुल जाते हैं. इसके प्रयोग से स्किन को ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ जाती है जिससे इसमें निखार आता है. यह डार्क स्पॉट्स, मुंहासे और स्किन के दूसरे डिसॉर्डर्स (skin problem) में बहुत लाभ पहुंचाती है.

किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल अमृत औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार




No comments: