17.11.16

बच्चों के रोगों मे उपकारी लहसुन: Garlic helpful in children's diseases



सर्दी होने पर छोटे बच्चों को लहसुन देते हुए आपने कई लोगों को देखा होगा। बड़ों के साथ-साथ छोटे बच्चों के स्वास्थ्य के लिए भी लहसुन बेहद फायदेमंद है, और जन्म के 6 महीने बाद बच्चों को लहसुन का सेवन करवाया जा सकता है। क्या आप जानते हैं बच्चों के लिए लहसुन कितना फायदेमंद है? जानने के लिए पढ़े यह 5 फायदे 
 बच्चों की रोगप्रतिरोधक क्षमता बहुत कम होती है, जिसके कारण वे सर्दी, जुकाम या बुखार की चपेट में जल्दी आते हैं। ऐसे में उन्हें दर्द और श्वसन संबंधी तकलीफ भी होती है। इसके लिए लहसुन का सूप पिलाना फायदेमंद होता है। इससे सर्दी की तीव्रता कम होगी और हानिकारक तत्व बच्चे के शरीर से बाहर निकल जाएंगे।
 पेटदर्द –
बच्चों में होने वाले पेट दर्द और पेट संबंधी अन्य समस्याओं में लहसुन और शहद का मिश्रण काफी प्रभावकारी होता है। यह मिश्रण बच्चों में गैस संबंधी समस्याओं को भी दूर करता है।
संक्रमण से बचाव –
लहसुन में सूक्ष्मजीव विरोधी तत्व पाए जाते हैं, जो बैक्टीरिया द्वारा फैलने वाले संक्रमण से बच्चों की सुरक्षा करता है। इसमें मौजूद फाइटोकैमिकल्स आंतों में पनपने वाले बैक्टीरिया को भी खत्म करते हैं।
 गर्माहट –
प्रतिरोधक तंत्र कमजोर होने के कारण बच्चों को शरीर में गर्माहट बनाए रखने की जरूरत होती है। इसके लिए लहसुन बेहतरीन तरीका है। यह सामान्य रूप से शरीर में गर्माहट बनाए रखता है और बैक्टीरिया से लड़ता है।
 कृमि –
छोटे बच्चों में कृमि होने की समस्या सबसे अधिक होती है, जिससे उन्हें सही पोषण भी नहीं मिल पाता। ऐसे में लहसुन आंतों में पैदा होने वाले कृमियों को शरीर से बाहर निकालने में मददगार साबित होता है।





सफेद बाल काले होंगे
लहसुन की 5 कलियां थोड़ा-सा पानी डाल कर पीस लें। उसमें 10 ग्राम शहद मिला कर सुबह-शाम सेवन करें। इससे सफेद बाल काले हो जाएंगे। इसकी कलियों को पीस कर तेल में मिला लें। इससे सिर में मालिश करने से बाल झड़ने की समस्या दूर होती है।
मुंहासों से मिलेगी मुक्ति
इससे मुंहासों से भी मुक्ति मिलती है। लहसुन की दो कलियां पीसें। इसमें एक छोटी चम्मच हल्दी मिला कर क्रीम बना लें। इसे मुंहासों पर लगाने से लाभ होगा।
अस्थमा से पीडित हैं, इसे आजमाएं
अदरक की गर्म चाय में लहसुन की दो पिसी कलियां मिला कर पीने से अस्थमा से पीडित व्यक्ति को लाभ होता है।
सांस की तकलीफ दूर होगी
अगर आपका बच्चा सांस लेने की तकलीफ से जूझ रहा है तो लहसुन की कलियों को आग में भून कर खिलाएं। इससे उसकी सांस लेने की तकलीफ दूर होगी और वह काफी राहत महसूस करेगा।
काली खांसी की छुट्टी
लहसुन काली खांसी की छुट्टी करने में कारगर है। काली खांसी होने पर इसकी कलियों का रस निकालें। एक चम्मच रस में चुटकी भर सेंधा नमक मिला कर खाएं, लाभ होगा।
*सराइसिस होने पर लहसुन के तेल में मलाई मिला कर लेप करें।
*वजन कम करने के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में आधे नींबू का रस मिला कर लहसुन की दो कलियों के साथ नियमित सुबह-शाम पीना फायदेमंद है।





*कान में दर्द होने पर लहसुन वाले तेल की 2-three बूंदे गर्म करके डालें।
*निमोनिया होने पर लहसुन की 5-7 कलियों को तेल में काला होने तक भूनें। ठंडी होने पर पीस लें। यह लेप रोगी की छाती पर लगाएं, लाभ होगा।
प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए
लहसुन को दूध में उबाल कर बच्चों को पिलाने से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। इससे वे अनेक बीमारियों से दूर रहेंगे।
अस्थमा से राहत के लिए आपने अनेक नुस्खे आजमाए होंगे, लेकिन एक बार लहसुन को भी आजमा कर देखें। इससे राहत के लिए 30 मिली लीटर दूध में लहसुन की पांच कलियां उबाल कर पिएं।
भूख न लगने की शिकायत होने पर रोजाना सुबह खाली पेट लहसुन की 2-5 कलियां खाना फायदेमंद है।
*बुखार होने पर लहसुन की 3-5 कलियां पीस कर शहद में मिला कर खाएं, काफी लाभ होगा।








एक टिप्पणी भेजें