16.9.16

खून की कमी दूर करते हैं ये फल :: Eat these fruits in anemia

एनीमिया रक्त की एक जानी मानी बीमारी है। यदि आपको एनीमिया है तो इसका अर्थ यह है कि आपके रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी है। इसका अर्थ यह भी है कि आपके रक्त में हीमोग्लोबिन का स्तर कम है। क्या आप जानते हैं कि कुछ ऐसे फल हैं जिनका सेवन एनीमिक होने पर अवश्य करना चाहिए? हीमोग्लोबिन रक्त की कोशिकाओं में उपस्थित एक प्रोटीन है जो ऑक्सीजन को शरीर के विभिन्न अंगों तक पहुंचाने में मदद करता है।
एनीमिया के उपचार में फल बहुत सहायक हैं और जब आप इनके बारे में जान जायेंगे तब आप भी इस स्थिति से निपटने में इन फलों का उपयोग कर सकेंगे। एनीमिया का उपचार इसके कारण और गंभीरता के बारे में जानकर किया जा सकता है। सामान्यत: एनीमिया के उपचार में दवाईयां, आहार में परिवर्तन और कभी कभी सर्जरी शामिल हैं। प्रत्येक फल के गुणों के बारे में पढ़ें तथा जानें कि ये फल किस तरह एनीमिया के उपचार में सहायक हैं।
संतरा - आपके शरीर के लिए विटामिन सी अत्यंत आवश्यक होता है क्योंकि यह शरीर को आयरन अवशोषित करने में सहायता करता है। खट्टे फल विटामिन सी का अच्छा स्त्रोत होते हैं। संतरे में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है तथा इसका उपयोग करके एनीमिया से बचा जा सकता है।
आम - आम में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है अत: एनीमिया होने की स्थिति में इनका सेवन करना बहुत अच्छा माना गया है। एनीमिया के उपचार के लिए इसे सर्वोत्तम माना गया है।

कीवी - कीवी में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यदि आप एनीमिक हैं और आयरन की गोलियाँ खा रहे हैं तो गोलियों के साथ साथ आपको कीवी भी खाना चाहिए। कीवी बहुत स्वादिष्ट होता है तथा एनीमिया की स्थिति से निपटने के लिए यह एक उत्तम फल है।
अनार - अनार में विटामिन सी तथा आयरन पाया जाता है। ये शरीर में न केवल रक्त प्रवाह को बढ़ाते हैं बल्कि एनीमिया के लक्षणों जैसे चक्कर आना, थकान, कम$जोरी आदि के उपचार में भी बहुत प्रभावी हैं। प्रतिदिन एक अनार खाएं या इसके रस का सेवन करें।
केला - शरीर में नई कोशिकाओं के निर्माण और रखरखाव के लिए फोलिक एसिड बहुत महत्वपूर्ण होता है। यह एनीमिया के उपचार में भी बहुत मदद करता है, विशेष रूप से तब जब आप गर्भवती हों। केले में फोलिक एसिड पाया जाता है तथा अन्य कई फलों की तरह यह ब्लड काउंट को बढ़ाने में सहायक होता है।
आलू बुखारा - आलूबुखारा तथा इसका रस आयरन के बहुत अच्छे स्त्रोत हैं तथा एनीमिया के उपचार के लिए उत्तम फल है। एनीमिया से बचने के लिए अपने नाश्ते में प्रतिदिन आलूबुखारे शामिल करें।
सेब - सेब उन कई फलों में से एक है जो ब्लड काउंट बढ़ाने में सहायक है। सेब में विटामिन सी होता है जो शरीर को नॉन-हेम आयरन अवशोषित करने में मदद करता है। एनीमिया से बचने के लिए प्रतिदिन एक सेब खाएं।
एप्रीकॉट (खुबानी) - एप्रीकॉट में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है तथा यह आपके शरीर में आयरन के स्तर को बढ़ाने में सहायक होता है। अपने शरीर में आयरन के स्तर को बढ़ाने के लिए प्रतिदिन नाश्ते में या मिड-डे स्नैक के रूप में एक मुट्ठी एप्रीकॉट खाने की आदत डाल लें।
मौसंबी - मौसंबी में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है तथा यदि आप एनीमिया से ग्रसित हैं तो इसका सेवन अवश्य करना चाहिए। आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं या इसका जूस भी पी सकते हैं।









एक टिप्पणी भेजें