2.2.17

चीकू के स्वास्थ्य लाभ और औषधीय गुण::Naseberry health benefits and medicinal properties


चीकू एक स्वादिष्ट फल होने के साथ साथ अनेक स्वास्थ्य लाभ के बारे में जाना जाता है। इसमें पोषण तत्वों एवं उर्ज़ा की बहुलता होती है। यह फ्रूक्टोज एवं सुक्रोज का एक अच्छा स्रोत है। वैसे इस फल को आप कभी भी खा सकते हैं लेकिन भोजन ग्रहण करने के बाद चीकू खाने से इसका स्वास्थ्य लाभ एवं औषधीय गुण कई गुना बढ़ जाता है।रंग में आलू की तरह दिखने वाला चीकू हर किसी का पसंदीदा फल है, ये तो नहीं कहा जा सकता है, लेकिन जब आप चीकू की इन खूबियों के बारे में जानेगे तो आप हैरान रह जाएंगे कि एक फल में इतनी सारी खूबियां कैसे हो सकती है।
*चीकू उर्जा का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है। यह कसरत और मेहनत के करने वालों के लिए एक टॉनिक के रूप में काम करता है।
*यह दिमाग की तंत्रिकाओं को शांत और तनाव को कम करने में मदद करता है। पोटेशियम और सोडियम से भरपूर चीकू के सेवन से पेशाब में जलन की समस्या दूर होती है। जिन्हें कब्ज और दस्त की बीमारी हो उन्हें नियमित रूप से चीकू का सेवन करना चाहिए। स्वाद में मीठे और विटामिन सी स्रोत चीकू शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए ठीक रहता है। इसके अलावा यह गुर्दे के रोगियों के लिए भी गुणकारी है।
आँख की बीमारी के लिए चीकू-
 चीकू में विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो आपके आँखों की बिमारिओं को दूर ही नहीं करता बल्कि नेत्र शक्ति भी प्रदान करता है।




त्वचा की खूबसूरती के लिए चीकू खाएं- 
अगर आप अपनी त्वचा की खूबसूरती चाहते हैं तो नियमित रूप से इस फल का सेवन करें। इसमें विटामिन ई पाया जाता है जो आपके त्वचा को नमी प्रदान करने के साथ साथ इसकी खूबसूरती एवं सुंदरता को भी बढ़ाता है।
चीकू वजन घटाता है-
 यह फल गैस्ट्रिक एंजाइम को संतुलित करते हुए और पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करता है, इस तरह से यह वजन को कम करने में कारगर है।
झुरिओं को रोकता है चीकू-
 चीकू में विभिन्य प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट्स पाया जाता है जो फ्री रेडिकल्स के गतिविधिओं को रोकते हुए चेहरे से धब्बे एवं झुरिओं कम करता है।
*बवासीर और दस्त में एक उपचार के तौर पर काम करता है चीकू। इसके अलावा यह कोलन कैंसर को कम करने में भी सहायक है।
*इसमें विटामिन ए के साथ विटामिन सी भी पाया जाता है। विटामिन सी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
कब्ज और दस्त की बीमारी को ठीक करने में सहायक चीकू खाने से आंतों की शक्ति बढती है और आंतें अधिक मजबूत होती हैं।
*चीकू हमारे ह्रदय और रक्त वाहिकाओं के लिए बहुत लाभदायक होता है। इसमें बेटा-क्राइटॉक्सथीन होता है, इसलिए माना जाता है कि यह फेफड़ो के कैंसर के होने के खतरे को कम करता है।
खूबसूरत बालों के लिए चीकू-
चीकू आपके बालों के लिए बहुत अच्छा है। इसके बीज से निकाला गया तेल बालों को नमी, मुलायम और खूबसूरत बनाता है।
बालों को झडने से रोकता है चीकू : चीकू खाने से आपके बाल का झड़ना एवं टूटना बंद हो जाता है। इसके तेल से मालिश करने से बाल मजबूत बनता है। बालों का झड़ना एवं डैड्रफ रुक जाता है।
*चीकू विटामिन ‘ए’ का एक बड़ा स्रोत है। यह आंखो के लिए कारगर है, इसलिए इसका नित्य सेवन करने से आंखो की रोशनी बढ़ती है।



*चीकू की छाल में टैन्निक पाया जाता है इसलिए सूजन और बुखार में चीकू बहुत ही फायदेमंद है।

*विटामिन ‘ए’ के अलावा चीकू में विटामिन ‘बी’ और ‘ई’ भी होता है जो त्वचा को सुरक्षा प्रदान करता है तथा त्वचा की नमी को बरकरार रखता है।
*कैल्शियम, फास्फोरस और आयरन जैसे तत्वों से भरपूर चीकू शरीर की हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है।
कब्ज से राहत दिलाता है चीकू-
 इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो पाचन में मदद करता है और कब्ज से राहत दिलाता है।
गुर्दे की पथरी को दूर करता है चीकू- 
जब चीकू के फल को मसल कर खाने से गुर्दे एवं ब्लैडर के पत्थर को दूर करने मददगार है।
हड्डियों को मजबूत बनाता है चीकू -
 इसमें कैल्शियम, फ़ास्फ़रोस एवं आयरन की अच्छा खासा मात्रा पाया जाता है जो हड्डियों को मजबूती के लिए जरूरी है। इसके अतरिक्त चीकू कैंसर से बचाने, गर्भावस्था में फायदा पहुंचाने, गैस्ट्रिक विकार, अपच, एंटी वॉयरल, एंटी बैक्टीरियल, ह्रदय रोग आदि के लिए कारगर है।
*नित्य इसका सेवन शरीर की कमजोरियों को दूर करता है। साथ ही कार्बोंहाइड्रेड और न्यूट्रिएंट से भरपूर चीकू स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए भी लाभकारी है।



*हृदय और गुर्दे के रोगों में एक अहम भूमिका निभाने वाला चीकू एनिमिया होने से भी रोकता है।
*चीकू शीतल और पित्तनाशक है। इसका नित्य सेवन से पेशाब में जलन की परेशानी दूर होती है।
*चीकू को सूजन कम करने के लिए भी जाना जाता है। चीकू में टैन्निन पाया जाता है जिससे सूजन उतरने में मदद मिलती है। इसके अलावा चीकू पाचन को ठीक करने साथ पेट से जुड़ी समस्याओं से भी निजात दिलाता है।
*चीकू शीतल, पित्तनाशक, पौष्टिक, मीठे और रूचिकारक हैं।
* चीकू के पे़ड की छाल से चिकना दूधिया- `रस-चिकल` नामक गोंद निकाला जाता है। उससे चबाने का गोंद च्युंइगम बनता है। यह छोटी-छोटी वस्तुओं को जो़डने के काम आता है। दंत विज्ञान से संबन्धित शल्य çRया में `ट्रांसमीशन बेल्ट्स` बनाने में इसका उपयोग होता है। `
* चीकू ज्वर के रोगियों के लिए पथ्यकारक है।
* भोजन के एक घंटे बाद यदि चीकू का सेवन किया जाए तो यह निश्चित रूप से लाभ कारक है।
* चीकू के नित्य सेवन से धातुपुष्ट होती है तथा पेशाब में जलन की परेशानी दूर होती है
एक टिप्पणी भेजें