13.11.16

राई के इन फायदों को जानकर आप भी दंग रह जाएंगे.



आमतौर पर हमारे घरों में राई का इस्तेमाल अचार बनाने या फिर कुछ सब्ज‍ियों और सांभर में तड़का लगाने के लिए किया जाता है. हम राई का इस्तेमाल तो करते हैं लेकिन उससे होने वाले फायदों के बारे में हमें बहुत कुछ पता नहीं होता है. राई देखने में भले ही छोटी होते हैं लेकिन इसके इस्तेमाल से कई बीमारियां दूर हो जाती हैं.
*राई में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाया जाता है. अगर कहीं चोट लग जाए या फिर कांटा चुभ जाए तो राई को पीसकर उसमें शहद मिला लें. इस लेप को घाव पर लगाने से जख्म जल्दी भरता है और मवाद भी नहीं बनता.
*अगर आपके बाल बहुत अधिक गिर रहे हैं और डैंड्रफ की प्रॉब्लम ने आपको परेशान कर रखा है तो राई का इस्तेमाल करना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. आप चाहें तो राई को रातभर भिंगोकर उसके पानी से सिर धो सकते हैं. इसके अलावा इसे पीसकर प्रयोग में लाना भी फायदेमंद रहेगा.
 *अगर आपको भी जोड़ों के दर्द की शिकायत है तो राई का इस्तेमाल आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. रोजाना राई के लेप से जोड़ों की मसाज करने से जोड़ों के दर्द में फायदा होता है. आप चाहें तो इसमें कपूर भी पीसकर मिला सकते हैं.




 *अगर आपको बहुत अधिक घबराहट होती है तो राई को पीसकर प्रयोग में लाना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा. राई को पीसकर हाथ और पैर पर मलने से घबराहट कम होती है और राहत मिलती है.
* राई में मायरोसीन, सिनिग्रिन जैसे तत्व पाए जाते हैं. ये दोनों ही चीजें स्क‍िन के लिए बहुत फायदेमंद हैं. रोजाना राई के पानी से चेहरा धोने पर चेहरे की रंगत निखरती है और मॉइश्चर भी बना रहता है.

 * अगर आपको लगता है, कि आपका हृदय शिथिल हो रहा है, और घबराहट के साथ आप बेचैनी और कंपन महसूस कर रहे हैं, तो अपने हाथों और पैरों में राई को पीसकर मलना, आपको आराम दिलाने में मदद करेगा।  
 कई बार बुखार आने के साथ ही जीभ पर सफेद परत जम जाती है, और भूख व प्यास धीरे-धीरे कम होने लगती है। इस तरह का बुखार होने पर सुबह के समय 4-5 ग्राम राईं के चूर्ण को शहद के साथ लेने से कफ के कारण होने वाला.ज्वार ठीक हो जाता है| 
एक टिप्पणी भेजें